समाचार
|| सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम में निवेश की सीमा बढ़ी || प्रदेश के सिनेमा घर आगामी आदेश तक बंद रहेंगे || मलेरिया माह के रूप में मनाया जायेगा जून माह को अन्तर्विभागीय समन्वय समिति की बैठक संपन्न || जिले में 22601 किसानो से 251880 मैट्रिक टन गेहूं की खरीदी || आज 3 जून को सलाहकार समिति की बैठक आयोजित होगी || जिले में 7644 प्रवासी श्रमिको ने कराया अपना पंजीयन || उद्यानिकी फसलो को अपनाने से किसानो की आय में होगा इजाफा || समस्त दुकानें प्रात: 9 बजे से रात 8 बजे तक खुलेंगी - कलेक्टर || प्राथमिक केन्‍द्र साबाखेडा में आशा कार्यकर्ताओं एवं स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ताओं को फीवर क्‍लीनिक के संबंध में प्रशिक्षण दिया गया || सुदूरवर्ती परिवहन विहीन ग्रामीण क्षेत्रों को दी जावेगी वाहन सुविधा
अन्य ख़बरें
मनरेगा से प्राप्त मजदूरी से रूकमणी के चेहरे पर आई मुस्कान "सफलता की कहानी"
-
श्योपुर | 08-मई-2020
    महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी स्कीम के अंतर्गत नोबल कोरोना वायरस कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुए फिजीकल डिस्टेंसिंग के माध्यम से श्योपुर जिले के तालाबों में कार्य कराने की निरंतर पहल की जा रही है। जिसमें मनरेगा से प्राप्त मजदूरी से जिले के आदिवासी विकासखण्ड कराहल की ग्राम पंचायत पनवाडा की रहने वाली श्रीमती रूकमणी पत्नि श्री रमेश आदिवासी के चेहरे पर मुस्कान आ गई है।
   नोबल कोरोना वायरस के अंतर्गत श्योपुर जिला ओरेज जोन में होने के कारण ग्रामीण अंचल में चल रहें निर्माण और विकास कार्य फिजीकल डिस्टेंसिंग के माध्यम से कराये जा रहे है। जिसमें मनरेगा से कराये जा रहे कार्य वैश्विक संकट के समय उन लोगों के लिये वरदान साबित हुई है, जो रोज मेहनत कर कमाते और खाते हैं।
   जिले के आदिवासी विकासखण्ड कराहल के ग्राम पनवाडा निवासी श्रीमती रूकमणी पत्नि श्री रामेश आदिवासी ने बताया कि हम चैत काटने के बाद कोरोना के लॉकडाउन मे मजदूरी के लिए तरस रहे थे। तभी हमें ग्राम के रोजगार सहायक द्वारा बताया कि आपके गांव में भी मनरेगा के अंतर्गत तालाब गहरीकरण का कार्य प्रारंभ हो गया है। तब मैं और मेरे परिवार के दो सदस्य के द्वारा रोजना तालाब गहरीकरण के कार्य में मजदूरी पर आना शुरू कर दिया है।
   मनरेगा उसके परिवार को आर्थिक संबल प्रदान करने में मददगार साबित हो रही है। साथ ही रूकमणी सहित अन्य दो सदस्यो को एक ही परिवार के 07 दिवस के अंतराल में मजदूरी का भुगतान खातें में किया जा रहा है। जिला प्रशासन की पहल पर ग्रामीण विकास विभाग के माध्यम से भारत सरकार द्वारा जारी गाइड लाईन के अनुसार मनरेगा में जल संरक्षण एवं संवर्धन तथा सिंचाई के कार्यों को प्राथमिकता देकर जरूरतमंदों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है।
   मनरेगा के तहत संचालित कार्यो में फिजीकल डिस्टेंसिंग तथा सेनिटाईजर के उपयोग सहित अन्य सुरक्षा उपायों को अपनाया जा रहा है तथा सभी मजदूरों को मास्क एवं गमछा लगाने के निर्देश दिए गए है। जिनके अंतर्गत मास्क, गमछा लगाने का कार्य ग्राम पनवाडा की निवासी श्रीमती रूकमणी पत्नि श्री रमेश आदिवासी ने अपनाकर अपने गांव के ही तालाब के गरहीकरण में मजदूरी करना प्रारंभ किया।
   आदिवासी विकासखण्ड कराहल के ग्राम पनवाडा की रूकमणी ने बताया कि गांव के तालाब में करीबन 20 मजदूर फिजीकल डिस्टेस को बनाते हुए कार्य पर लगे हुयें है। इन सभी मजदूरो को 190 रूपये प्रतिदिन मजदूरी का भुगतान 07 दिवस में मस्टर के अनुसार खातें में करने की सुविधा दी जा रही है। यह सब करिश्मा शासन और प्रशासन के कारण हुआ है। जिससे हम सभी ग्रामीण मजदूरो के चेहरो पर मुस्कान लौट आई है। 
 
(25 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer