समाचार
|| ग्रामीण क्षेत्रों में 5 लाख 36 हजार से ज्यादा हैण्डपम्प चालू || हायर सेकेण्डरी की शेष परीक्षाओं के नवीन प्रवेश-पत्र जारी || स्कूल शिक्षा विभाग के ई-बुलेटिन "अब पढ़ाई नहीं रुकेगी" का प्रमुख सचिव ने किया विमोचन || आंगनवाड़ी केन्द्रों में दी जाने वाली सभी 6 सेवाएं निरंतर जारी रही || ग्रामीण अंचलों में घर-घर पहुंची बैंक-सखियां || जिले में अब तक 41.8 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज || आईसोलेशन वार्डों में उपलब्ध कराई जा रही हैं आवश्यक सुविधाएं || कलेक्टर श्री सिंह ने कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा || बीएमसी की सुविधाएं संतोषजन-श्री शफीक खान || कमिश्नर श्री जैन ने कार्यभार संभाला
अन्य ख़बरें
जिले में अब तक 82 हजार मैट्रिक टन गेहूं खरीदा गया
जिला उपार्जन समिति की बैठक संपन्न
रतलाम | 09-मई-2020
     रतलाम जिले में समर्थन मूल्य पर अब तक 82 हजार मैट्रिक टन गेहूं खरीदा जा चुका है। जिले के करीब 18000 किसानों से गेहूं खरीदी की जा चुकी है। कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान द्वारा आयोजित जिला उपार्जन समिति की बैठक में उक्त जानकारी दी गई।
    कलेक्टर द्वारा सख्ती से निर्देशित किया गया कि गेहूं खरीदी केंद्रों पर किसानों को ज्यादा समय तक इंतजार नहीं करना पड़े, पर्याप्त संख्या में तोल कांटे का इंतजाम किया जाए। बैठक में जिला खाद्य अधिकारी श्री विवेक सक्सेना, जिला विपणन अधिकारी सुश्री स्वाति राय, जिला प्रबंधक एमपी डब्ल्यू एलसी श्री विपिन लाड, सहायक आपूर्ति अधिकारी श्री उमेश पांडे, महाप्रबंधक जिला सहकारी केंद्रीय बैंक श्री आलोक जैन आदि उपस्थित थे।
कलेक्टर द्वारा निर्देशित किया गया कि किसी भी उपार्जन केंद्र पर 85 प्रतिशत से कम परिवहन की स्थिति नहीं रहे। गोडाउन स्तर के केंद्रों पर तौल कार्य तथा स्टेकिंग लगाने के लिए ज्यादा संख्या में लेवल लगाएं जिससे उपार्जन कार्य बाधित नहीं हो। हैंडलिंग चालान जारी करने में भी विलंब नहीं हो तथा किसानों को भुगतान समय पर हो। उपायुक्त सहकारिता को निर्देशित किया गया कि तोल कार्य तथा स्टैकिंग के लिए पृथक-पृथक लेबर की व्यवस्था करें, अगर गेहूं का तोल गोदाम में किया जा रहा है तोल वं स्टैकिंग का कार्य एक साथ किया जा रहा है। गेहूं का कोई मोमेंट नहीं किया जा रहा है तो हैंडलिंग एवं  मोमेंट कार्य के लिए  राशि का भुगतान संस्था को नहीं किया जाए। क्योंकि नांदलेटा क्षेत्र को प्रतिबंधित क्षेत्र से मुक्त कर दिया गया है इसलिए बड़ायला माताजी केंद्र को पुनः आरंभ करने पर सहमति बनी।
बैठक में गेहूं उपार्जन के लिए संशोधित लक्ष्य दो लाख मैट्रिक टन के मान से गेहूं खरीदी हेतु कलेक्टर द्वारा सभी अधिकारियों को आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए। जिन स्थानों पर दो केंद्र संचालित हैं वहां पृथक-पृथक पोल कार्य एवं आवश्यक सुविधाएं किसानों को उपलब्ध कराई जाना, कोरोना से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजेशन, मास्क का उपयोग आदि व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया गया।
(27 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer