समाचार
|| कोरोना की लड़ाई में नहीं रूकेगी पढ़ाई (खुशियों की दास्ताँ) || प्रदेश के 7 विश्वविद्यालयों में 597 परीक्षा केन्द्रों पर लगभग 4 लाख विद्यार्थी देंगे स्नातक/स्नातकोत्तर की परीक्षा || जेल बंदियों से मुलाकात की प्रतिबंध अवधि बढ़ी || परीक्षा-केन्द्र पर विद्यार्थी एक घंटे पूर्व उपस्थित होंगे || किसानों और मजदूरों को दी गई राशि से मिलेगा अर्थव्यवस्था को बल || एलोपैथी न हौम्योपैथी सबसे कारगर सिम्पैथी : मंत्री डॉ. मिश्रा || नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संबंध में मीडिया बुलेटिन || नवीन जॉबकार्ड बनाने एवं नवीनीकरण के लिए कॉल सेंटर का गठन || आज लिए गए नमूनों में प्रदाय जल की गुणवत्ता सही पाई गई || सामाजिक न्याय विभाग हुआ तम्बाकू निषेध दिवस के कार्यक्रम का आयोजन
अन्य ख़बरें
कोविड-19 के मरीज के उपचार के लिए नई गाइड लाइन जारी
भारत सरकार द्वारा जारी निर्देश सभी कलेक्टरों को भेजे गए
सिंगरौली | 16-मई-2020
 
   
    प्रमुख सचिव, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग श्री फैज अहमद किदवई ने प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों, मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारियों को जारी आदेश में कहा है कि कोरोना संक्रमण के दौरान उचित प्रबंधन और दिशा-निर्देशों के अनुसार कार्य किया जाए। मौजूदा हालात और रोगियों को चिकित्सीय रूप से हल्के, मध्यम या गंभीर रोग की श्रेणी के अनुसार उनकी देखभाल, स्वास्थ्य केंद्र और अस्पताल में भर्ती कर उपचारित करने के लिए सभी दिशा-निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित किया जाए।     कोरोना से संक्रमित अति मंद लक्षण वाले कोविड-19 के प्रकरणों पर सेल्फ आइसोलेशन की समुचित व्यवस्था की जाए। चिकित्सा अधिकारी द्वारा यह सुनिश्चित किया जाए कि संबंधित व्यक्ति मंद लक्षण, अति मंद लक्षण रोगी की श्रेणी में आता है। उस व्यक्ति के निवास पर होम आइसोलेशन और परिवार के अन्य सदस्यों के क्वॉरेंटाइन के लिए निर्धारित मापदंडों के अनुसार सुविधा की जाए।
        रोगी व्यक्ति के निवास पर देखभाल के लिए अस्पताल के माध्यम रोगी व्यक्ति से संपर्क बनाया जाए। सभी के मोबाइल पर आरोग्य सेतु एप भी डाउनलोड किया जाए। संभावित रोगी अपने स्वास्थ्य की निगरानी स्वयं कर नियमित रूप से जिला सर्विलेंस अधिकारी द्वारा निर्धारित हेल्पलाइन के नंबर से अपने स्वास्थ्य की स्थिति अवगत कराए। चिकित्सीय सहायता हेतु संभावित रोगी स्वयं या परिजन उसका ध्यान रखें कि निम्न, मध्यम या गंभीर लक्षण दिखने पर तुरंत चिकित्सीय सहायता हेतु संपर्क करें। कोरोना संक्रमित लक्षण दिखने जेसे सांस लेने में कठिनाई, छाती में लगातार दर्द या दबाव, मानसिक भ्रम होंठो पर नीले रंग का उभरना आदि लक्षण पर त्वरित कार्यवाही करते हुए इसकी सूचना तत्काल चिकित्सा अधिकारी को दी जाना सुनिश्चित किया जाए। प्रायः देखने में आया है कि भीड़-भाड़ वाले इलाके, संक्रमित व्यक्ति के संबंध संपर्क में अथवा ऐसी जगह जहां मरीजों का उपचार किया जा रहा है वहां पर मास्क पहनना अनिवार्य किया जाए। साथ ही घर से बाहर निकलते हुए या अपने कार्य क्षेत्र पर जाते समय मास्क अनिवार्य रूप से लगाया जाए। और अपने चेहरे, नाक, मुंह को छूने से बचाव किया जाए। शौचालय के उपयोग के बाद भोजन, खाने से पहले और खाने के बाद जब भी हाथ गंदे दिखे उसे 40 सेकेंड तक धोते रहना चाहिए। कोरोना संक्रमित रोगी के संपर्क में आने पर रोगी के शरीर के तरल पदार्थों के साथ सीधे संपर्क से बचें। विशेष रूप से मौखिक या संभावित रूप से दूषित वस्तु के संपर्क में आने से बचें। निर्धारित दूरी का पालन करना चाहिए।
(17 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer