समाचार
|| जिलास्तर पर वन मित्र पोर्टल पर दावों के सूक्ष्म परीक्षण के लिये समिति गठित || कोरोना को मात देकर चार मरीज हुए डिस्चार्ज || प्रदेश की प्रावीण्य सूची में छठवां स्थान प्राप्त करने वाले शुभम बनना चाहते है पायलेट (कहानी सच्ची है) || ग्रामीण पथ विक्रेताओं को भी शहरी पथ विक्रता योजना से जोड़ा जायेगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान || किल कोरोना अभियान में अन्य विभाग, सामाजिक संगठन और समुदाय की भागीदारी सुनिश्चित की जाए || हाई स्कूल परीक्षा परिणाम में जिले के 2090 परीक्षार्थी हुए प्रथम श्रेणी उत्तीर्ण || जिलें में 120.36 मि.मी. औषत वर्षा || राज्य एवं अन्य जिलो से आये यात्रियो की स्क्रीनिंग || कमिश्नर ने श्योपुर जिले के तीनो जनपद सीईओ को दिये कारण बताओ सूचना पत्र || किसान उत्पादक संगठनों को पर्याप्त बाजार एवं ऋण लिंकेज की सुविधा
अन्य ख़बरें
होम कोरंटाइन किये गये व्यक्ति सचेत रहें
-
नरसिंहपुर | 18-मई-2020
    कलेक्टर श्री दीपक सक्सेना और पुलिस अधीक्षक डॉ. गुरकरन सिंह ने होम कोरंटाइन किये जाने वाले व्यक्तियों से सचेत रहने और दिये गये निर्देशों का अनिवार्य रूप से पालन करने के लिए कहा है।
   अधिकारीद्वय ने अवगत कराया है कि कोरोना प्रभावित क्षेत्र से आने के कारण ही संबंधित व्यक्तियों को होम कोरन्टाईन कराया गया है। होम कोरन्टाईन के दौरान संबंधित होम कोरंटाइन किये गये व्यक्तियों को मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य किसी भी स्थिति में घर से बाहर नहीं निकलना है और परिवार के सदस्यों से भी यथेष्ट दूरी बनाकर रखना है। ऐसे व्यक्ति इस भरोसे में कदापि नहीं रहे कि वे कोरोना संक्रमित नहीं है। कोरोना संक्रमित क्षेत्र से आने के कारण ऐसे व्यक्ति बिना लक्षणों के भी कोरोना वाइरस के संवाहक हो सकते हैं। इन व्यक्तियों की जरा सी लापरवाही पूरे परिवार के लिये घातक सिद्ध हो सकती है। ऐसे कई उदाहरण है जिसमें कोरोना संक्रमण की वजह से एक ही परिवार के कई व्यक्तियों को जान से हाथ धोना पड़ा है।
   कुछ प्रकरणों में सम्पर्क में आने के 35- 36 दिन बाद भी कोरोना का प्रभाव देखने को मिला है। अतः यह हितकर होगा कि कोरंटाइन किये गये व्यक्ति एहतियात के तौर पर 45 दिनों के लिये होम कोरन्टाईन में रहें। इस अवधि में होम कोरंटाइन व्यक्ति का सम्पर्क शून्य होना चाहिये। यदि विशेष परिस्थिति में कोई सम्पर्क हुआ है, तो उसकी सूची बनाकर रखना होगी। होम कोरंटाइन किये गये व्यक्तियों से कहा गया है कि वे होम कोरन्टाईन में चिकित्सक द्वारा दी गई हिदायतों पर सख़्ती से अमल करें। कोरोना से संबंधित लक्षण प्रकट होने पर तत्काल इसकी सूचना दें।
   यदि ज़िले में ऐसा कोई कोरोना पाजिटिव केस मिलता है जिसकी कान्टेक्ट हिस्ट्री में होम कोरन्टाईन किया गया व्यक्ति है, तो ऐसी स्थिति में होम कोरन्टाईन किये गये व्यक्ति के विरूद्ध दंड संहिता की गंभीर धाराओं में प्रकरण दर्ज किया जायेगा। होम कोरन्टाईन का उल्लंघन करने पर भी संबंधित व्यक्ति के विरूद्ध अपराधिक प्रकरण दर्ज किया जा सकता है। आपराधिक प्रकरण का दर्ज होना संबंधित व्यक्ति के भविष्य के लिये मुसीबत का सबब बन सकता है।
   होम कोरंटाइन किये गये संबंधित व्यक्ति को ऐसा लग सकता है कि उसे कोई देख नहीं रहा है और यदि वह व्यक्ति इधर- उधर घूमे भी तो किसी को मालूम नहीं पड़ेगा, इस भुलावे में बिल्कुल न रहे। कोरोना पाजिटिव केस मिलने पर संक्रमण के लिये उत्तरदायी व्यक्ति की एक-एक मिनिट की ट्रेवल और लोकेशन हिस्ट्री निकालने की पूरी क्षमता और दक्षता प्रशासन के पास उपलब्ध है।
   इस सिलसिले में होम कोरन्टाईन किये गये व्यक्तियों को सख़्त चेतावनी दी गई है कि वह होम कोरन्टाईन को पूरी गंभीरता से लें और नियमों के पालन में कोई कोताही न बरतें।
 
(47 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer