समाचार
|| प्री-एग्रीकल्चर (पीपीटी) की परीक्षा 8 व 9 अगस्त को || डिंडौरी जिले में पहुंचे प्रवासी श्रमिकों को मिल रहा है नियमित रोजगार || प्री-पोलेटेक्निक (पीपीटी) की परीक्षा 25 व 26 जुलाई को || गोकुल अहिरवार के खाते में नियमानुसार अंतरित की गई है भू-अर्जन अवार्ड की 57 लाख 23 हजार 496 रूपए की राशि || जिले में हुई 30.5 औसत वर्षा || कंटेनमेंट क्षेत्रों में त्रिकटू चूर्ण एवं गोलियों का किया वितरण || 25 जुलाई को होगी ऑनलाईन स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत || 485 की नेगेटिव व 18 की आई पॉजिटिव रिपोर्ट || 22 लाख से अधिक जनसंख्या में 4509 संदिग्ध मिले || किल कोरोना अभियान में 4 लाख 62 हजार 70 घरों का सर्वे किया गया
अन्य ख़बरें
किसानों को बताएँ मिट्टी परीक्षण का महत्व - कलेक्टर
कलेक्टर ने कृषि, उद्यानकी, पशुपालन, मत्स्य व सहकारिता की बैठक ली
राजगढ़ | 19-मई-2020
 
   
    कलेक्टर श्री नीरज कुमार सिंह ने कृषि, उद्यानकी, पशुपालन, मत्स्य, सहकारिता एवं दुग्ध संघ के कार्यो की समीक्षा की। समीक्षा बैठक कलेक्ट्रेट कक्ष में सम्पन्न हुई, जिसमें सी.ई.ओ. जिला पंचायत श्री मृणाल मीणा, सभी विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। बैठक में कलेक्टर ने विभागों को प्राप्त आंवटन और उसके विरूद्ध लक्ष्यों की विभागवार समीक्षा की। कलेक्टर ने निर्देश दिए कि लक्ष्यों को प्राप्त करने में बजट का सदुपयोग करें।
    कृषि विभाग की समीक्षा के दौरान उपसंचालक कृषि ने बताया कि वर्ष 2012 से 2019 तक जिले में 81 किसानों को कस्टम हायर सेन्टर खुलवाएं है। जिनमें कृषियंत्रों पर अनुदान दिया गया है। मिट्टी परीक्षण केन्द्रों के माध्यम से किसानों के खेतों की मिट्टी में कौन से तत्व मौजूद है कौन से नही यह बताया जाता है। जिन खेतों में दो बोरी यूरिया लगता था मिट्टी परीक्षण के बाद अब उनमें एक बोरी यूरिया की मात्रा की जरूरत बताई गई है इससे किसानों को लाभ मिल रहा है। कलेक्टर ने निर्देश दिए कि जिले में अभियान चलाकर किसानों को मिट्टी परीक्षण का महत्व बताया जाए। उन्होंने कहा कि सभी योजनाओं में दी गई अनुदान की राशि के उपरांत निरीक्षण किया जाए कि किसान को मिली राशि का सदुपयोग किया गया है कि नही।
फलोद्यान को बढ़ावा दिया जाए
    कलेक्टर ने उद्यानकी विभाग की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि जिले में उद्यानकी विभाग अधिक से अधिक किसानों को फलोद्यान लगाने के लिए प्रेरित किया जाए। जिससे उनकी अतिरिक्त आमदनी हो सके। उन्होने जिले की नर्सरियों की आय-व्यय की जांच करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने स्प्रिंकलर सिस्टम, पॉली हाउस, कोल्ड़ स्टोरेज आदि योजनाओं की समीक्षा की। सहायक संचालक उद्यानकी ने बताया कि खिलचीपुर में दो पोली हाउस पर 34 लाख की सब्सिड़ी दी है। जिस पर कलेक्टर ने निर्देश दिए कि पाली हाउस का लाभ किसानों को मिले यह सुनिश्चित करें।
पशुनश्ल सुधार पर जोर दे, पशु पालन विभाग
    कलेक्टर ने पशुपालन विभाग की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि जिले में दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए अच्छी नश्ल के पशुओं का होना जरूरी है। इसके लिए पशुओं की नश्ल सुधार के लिए कृत्रिम गर्भधान किया जाना जरूरी है। जिले में पदस्थ सभी 20 पशुचिकित्सक इस पर विशेष ध्याद दें।
मछली पालन के लिए तालाब निर्माण पर अनुदान
    सहायक संचालक मत्स्य ने समीक्षा में बताया कि जिले में किसानों को मछली पालन के लिए निजी एक हेक्टेयर तालाब पर 02 लाख 80 हजार की छूट दी जाती है। कलेक्टर ने किसानों को मछली बीज उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। बैठक में सहकारिता विभाग के कार्यो की भी समीक्षा की गई।
(58 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer