समाचार
|| अ.ज.जा. वर्ग के युवाओं को डिजीटल इंडिया से जुड़ने हेतु कार्यक्रम लागू || समस्त दुकानें एवं व्यवासयिक गतिविधियां प्रातः 7 बजे से सायं 7 बजे तक संचालित होंगी || ई.व्ही.एम. एवं व्ही.व्ही.पी.ए.टी. मशीनों की एफ.एल.सी. का कार्य 14 जुलाई को || विधान सभा सत्र को देखते हुए सार्वजनिक जगहों पर धरना-प्रदर्शन और अन्य गतिविधियां प्रतिबंधित || जिला अधिकारियों के लिए गए सेम्पल || अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों का निस्तारण करने के निर्देश || मध्यप्रदेश बना देश का नया अन्न भंडार (लेख) || छोटे व्यवसायियों को आत्मनिर्भर बनाने में मध्यप्रदेश अव्वल || श्री लोधी बने राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष || श्री जायसवाल होंगे राज्य खनिज निगम के अध्यक्ष
अन्य ख़बरें
कृषि वैज्ञानिक एवं कृषि विभाग के अधिकारियो ने टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों का किया भ्रमण
-
आगर-मालवा | 19-मई-2020
 
    जिले की सीमा से लगे राजस्थान से टिड्डी दल ने जिले में प्रवेश कर लिया गया है। टिड्डी दल जिले के ग्राम मैना, कलारिया सुसनेर, डिगोन, पड़ना, धांधेडा, गुदरावन, भीलखेडी, भेंसोदा, सेमली, बोरखेड़ी गुजर, चापखेडा, जामुनी, पाडलिया, सिया, कबूली आदि ग्रामों से होकर गुजरा है। जिसकी सूचना प्राप्त होने पर जिला स्तर से कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ आरपीएस शक्तावत, उप संचालक कृषि श्री आरपी कनेरिया, परियोजना आत्मा के श्री केआर सालमी, आगर, सुसनेर, नलखेड़ा के तहसीलदार नायब तहसीलदार, एसडीओ सुसनेर-नलखेड़ा के संयुक्त दल उक्त ग्रामों में खेतों का भ्रमण किया गया। भ्रमण दल किसानों को टिड्डी दल से फसलों की बचाने हेतु आवश्यक सुझाव एवं सलाह दी गई।
टिड्डी दल से फसल एवं वनस्पति के बचाव हेतु किसानों को सलाह
       कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा टिड्डी से फसल एवं वनस्पति के बचाव हेतु किसानों को सलाह जारी की गई है कि ध्वनि विस्तारक यंत्रों के माध्यम से आवाज कर उनको अपने खेतों पर बैठने ना देवें, प्रकाश प्रपंच लगाकर एकत्रित करें। इसके अलावा खेतों में कल्टीवेटर या रोटावेटर चलाकर को टिड्डी को तथा उसके अंडों का नष्ट कर सकते है। टिड्डी कीट नियंत्रण हेतु बेंडियोकार्ब 80 प्रतिशत 125 ग्राम, फ्लोरपाइरीफास 20 प्रतिशत  ईसी 1200 मीली, क्लोरपाइरीफास 50 प्रतिषत ईसी 480मिली, डेल्टामेथरिन 2.8 प्रतिषत ईसी 625 मिली, डेल्टामेथरिन 1.25 प्रतिषत यूएलवी 1400मिली, डाईफ्लूबेनजुरान 25 प्रतिशत, डब्ल्यूपी 120 ग्राम, लेम्डासाईहेलोथ्रिन 5 प्रतिशत इसी 400 मिली, लेम्डासाईहेलोथ्रिन 10 प्रतिशत,  डब्ल्यूपी 200 ग्राम प्रति हेक्टेयर कीटनाशकों का उपयोग किया जा सकता है। अकृषि क्षेत्र में टिड्डी कीट नियंत्रण हेतु उपरोक्त अधिसूचित कीटनाशक रसायनों के अलावा फेनवेलरेट 0.4 प्रतिशत डीपी 25 किलोग्राम, क्विनालफास 1.5 प्रतिशत डीपी 25 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर कीटनाशकों का उपयोग किया जा सकेगा।
    इस समय संतरे की नई कोपल सिट्रस सिल्ला नामक रस चूसने वाले किट के द्वारा खाकर के नुकसान पहुंचाया जा रहा है। इसमें नई पत्तियां मुड़ी हुई रहती है। साथ ही अत्यधिक मात्रा में फूल गिर रहे हैं। इसके नियंत्रण के लिए 500 लीटर पानी में इमिडाक्लोप्रिड 17.8 प्रतिशत एसएल की 50 मिली मात्रा या थाईमिथोक्जाम 25 प्रतिशत डब्ल्यूपी की 100 ग्राम मात्रा। साथ ही 200 ग्राम मात्रा चिपको की अवश्य मिलाकर प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव करे।
(55 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer