समाचार
|| देवास जिले के 10 विद्यार्थियों ने हाई स्कूल परीक्षा में प्रावीण्य सूची में बनाया स्थान (सफलता की कहानी) || सर्वे दल द्वारा पूछी जा रही जानकारी अवश्य बताएं-कलेक्टर || जिले के 6 विद्यार्थियों ने प्रदेश की प्रवीण्य सूची में अपना स्थान बनाया || ऑनलाइन होगी आगँनवाड़ी केन्द्रों की मॉनीटरिंग || सर्वे दल द्वारा पूछी जा रही जानकारी अवश्य बताएं-कलेक्टर || हाई स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा का परिणाम घोषित || कोविड-19 रोकथाम के उपाय अपनाना अनिवार्य-कलेक्टर || जिले के 6 विद्यार्थियों ने प्रदेश की प्रवीण्य सूची में अपना स्थान बनाया || गाडरवारा में कोरोना का एक मरीज और डिस्चार्ज || ‘’किल-कोरोना अभियान’’ में जी जान से लग गई है कोरोना योद्धाओं की टीम (कहानी सच्ची है)
अन्य ख़बरें
आपदाएं कभी पूर्व सूचना देकर नहीं आतीं- कलेक्टर श्री राकेश सिंह
संबंधित विभाग सजग रहकर अभी से करें प्रबंधन की तैयारी, अतिवृष्टि एवं बाढ़ की स्थिति से निपटने की पूर्व तैयारियों के संबंध में बैठक आयोजित
बैतूल | 20-मई-2020
 
  
 
   कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने कहा कि आपदाएं कभी पूर्व सूचना देकर नहीं आतीं। आगामी बरसात के मौसम के दृष्टिगत अतिवृष्टि एवं बाढ़ की स्थिति से निपटने के कार्य से जुड़े समस्त विभाग अभी से सजग रहें एवं आवश्यक पूर्व तैयारियां सुनिश्चित करें। श्री सिंह बुधवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में अतिवृष्टि एवं बाढ़ की स्थिति से निपटने की पूर्व तैयारियों के संबंध में आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती श्रद्धा जोशी, सीईओ जिला पंचायत श्री एमएल त्यागी सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
    बैठक में कलेक्टर ने कहा कि आगामी बरसात के सीजन में बाढ़ अथवा अतिवृष्टि जैसी आपदाओं से निपटने के लिए पूरी तैयारी रखी जाए। जिला मुख्यालय पर स्थापित किए जाने वाला कंट्रोल रूम राउण्ड-द-क्लॉक क्रियाशील रहे।  
    बैठक में कलेक्टर ने कहा कि बाढ़ संभावित क्षेत्र पूर्व से ही चिन्हित कर वहां समस्त एहतियाती इंतजाम सुनिश्चित कर लिए जाएं। बाढ़ की स्थिति में लोगों को राहत पहुंचाने की रणनीति पूर्व से ही तैयार कर ली जाए। नगरीय क्षेत्रों में नदी-नालों की सफाई करवाकर यहां वर्षा के जल के सुगम निकासी की व्यवस्था की जाए, ताकि वर्षा के दौरान जल अवरोध की स्थिति न बने। निचली बसाहटों को भी चिन्हित कर वहां रहने वाले लोगों को बाढ़ अथवा अतिवृष्टि के दौरान राहत शिविरों में पहुंचाने की कार्ययोजना भी तैयार की जाए।
    बैठक में उन्होंने जिला होमगार्ड विभाग को राहत उपकरण दुरुस्त रखने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि मोटर बोट इत्यादि उपकरण स्थानीय थानों में रखवाई जाए, ताकि जरूरत पडऩे पर वे प्रभावित क्षेत्रों में शीघ्रता से मुहैया कराई जा सके। उन्होंने सडक़ कार्य से जुड़े विभागों से कहा कि बरसात के दौरान सडक़ों अथवा पुल-पुलियाओं पर दुर्घटनाएं न हो, इस बात के दृष्टिगत आवश्यक संकेतक बोर्ड अनिवार्य रूप से लगाए जाएं। जहां पुल-पुलियाओं पर रैलिंग नहीं है, वहां रैलिंग लगाई जाए। जिन पुल-पुलियाओं पर बाढ़ का पानी ऊपर से निकलता है तथा दुर्घटना की आशंका रहती है वहां ड्रॉप गेट लगाए जाएं। बाढ़ की स्थिति में ग्राम पंचायत सचिव, पटवारी अथवा कोटवार आवश्यक रूप से इन पुल-पुलियाओं की निगरानी रखें तथा ऐसे स्थानों पर वाहन एवं पैदल लोगों की आवाजाही न होने दें। स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया गया कि वह चिकित्सा दल गठित कर उनको आपात परिस्थितियों में तत्काल अपनी सेवाएं देने के लिए सतर्क करें। पशु चिकित्सा विभाग भी ग्रामीण पशुपालकों को बाढ़ अथवा अतिवृष्टि की स्थिति में पशुओं की सुरक्षा एवं बीमारियों से बचाव की आवश्यक सलाह दे।
    कलेक्टर ने जल संसाधन विभाग को निर्देश दिए कि बरसात अथवा अतिवृष्टि के दौरान जिले के समस्त जलाशयों/बांधों की निगरानी रखी जाए। यदि आपातकालीन परिस्थिति में निचली बस्तियां खाली कराना पड़ती है तो इसके भी समुचित इंतजाम सुनिश्चित किए जाएं। कलेक्टर ने कहा कि सरकारी इंतजामों के अलावा स्थानीय लोगों को भी बाढ़ अथवा अतिवृष्टि से बचाव के संबंध में प्रशिक्षित किया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों के अच्छे तैराकों एवं गोताखोरों की जानकारी भी संकलित की जाए।
    उन्होंने अधिकारियों से अपेक्षा की कि वे मौसम विभाग से प्राप्त होने वाली सूचनाओं से अपडेट रहें एवं समय पूर्व आवश्यक इंतजाम सुनिश्चित करें। बरसात के दौरान बिजली गिरने से होने वाली दुर्घटनाओं से बचाव की जानकारी भी ग्रामीणों के बीच प्रचार-प्रसार की जाए। लोगों को यह भी जानकारी दी जाए कि वे बरसात या अतिवृष्टि अथवा बाढ़ की स्थिति में नदी-नालों के किनारे न जाएं अथवा नदी-नालों के बीच में बने टापुओं पर न रूकें।
    बैठक में खनिज अधिकारियों को भी निर्देशित किया गया कि वे यह सुनिश्चित करें कि कहीं भी खदान इत्यादि से बने हुए गड्ढों में एकत्र हुए पानी में बच्चों के खेलने की स्थिति निर्मित न हो। ऐसे गड्ढे जो दुर्घटना की दृष्टि से खतरनाक हो सकते हैं, वहां आवश्यक फैंसिंग करवाई जाए एवं उन गड्ढों में जाने से लोगों को रोका जाए। स्कूल शिक्षा विभाग भी बच्चों को इस बात के लिए जागरूक करे कि वे बाढ़ अथवा गहरे पानी वाले स्थानों पर न जाएं एवं अतिवृष्टि से कैसे सुरक्षा करें।
    कलेक्टर ने कहा कि बाढ़ अथवा अतिवृष्टि की स्थिति में क्या उपाय अपनाना है, इस बात के लिए भी अधिकारी सजग रहें। प्रभावित लोगों को तत्काल सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाकर राहत सामग्री उपलब्ध कराने की व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाए एवं उनको हुए नुकसान के राहत प्रकरण भी तत्परता से तैयार किए जाएं। बैठक में आपदा प्रबंधन से संबंधित आवश्यक सुझाव भी दिए गए। इसके अलावा समय-समय पर मॉक-ड्रिल आयोजित करने तथा संबंधित कर्मचारियों को प्रशिक्षण प्रदान करने के भी निर्देश दिए गए।
(45 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer