समाचार
|| मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का विमान तल पर स्वागत || कलेक्टर ने किया स्वास्थ्य केंद्र बरघाट एवं जेवनारा का औचक निरीक्षण || कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेंटर देखने पहुँचे मुख्यमंत्री, वीडियो कॉलिंग से जाना कोरोना संक्रमित का हालचाल || सिलावद में 4 झोला छाप डाक्टरो के क्लीनिक पर हुई छापामार कार्यवाही || वनस्टॉप सेंटर एवं स्वाधार गृह की महिलाओं एवं बालिकाओं का स्वास्थ्य परीक्षण अनिवार्य || फायनेंस कम्पनी के वसूली एजेंट को लूटने वाले आरोपी हुये गिरफ्तार || न्यायालय ने अवैध शराब परिवहन करने वाले आरोपी को भेजा जेल || अवैध शराब बेचने के आरोपी को मिली न्यायालय उठने तक की सजा एवं लगा 500 रूपये का जुर्माना || जयश्री जोषी स्मृति आदर्ष विद्यार्थी परिचर्चा || विश्व जनसंख्या दिवस पर ऑनलाइन परिचर्चा सम्पन्न
अन्य ख़बरें
टिड्डी दल के संभावित प्रकोप से बचाव के लिए दल गठित
कलेक्टर ने किसानों से की पारम्परिक तरीकों से टिड्डी दल को भगाने की अपील
रायसेन | 22-मई-2020
    जिले में टिड्डी दल के संभावित प्रकोप होने की संभावनाओं के दृष्टिगत एवं प्रकोप नियंत्रण के लिए सूचनाओं के त्वरित आदान-प्रदान तथा बचाव के प्रभावी उपाय करने के लिए कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव द्वारा त्रि-स्तरीय उड़नदस्ता दल का गठन किया गया है। कलेक्टर श्री भार्गव ने सभी किसानों से टिड्डी दल का प्रकोप होने पर टोली बनाकर विभिन्न पारम्परिक उपाय जैसे शोर मचाकर, अधिक ध्वनि वाले यंत्रों को बजाकर या पौधों की डालों से भगाने की अपील की है। उन्होंने टिड्डी दल से बचाव के लिए किसानों से अपने स्तर पर समूह बनाकर रात के समय खेतों में निगरानी करने के लिए भी कहा है।
   कलेक्टर श्री भार्गव द्वारा गठित जिला स्तरीय दल में वन मण्डलाधिकारी रायसेन सामान्य श्री राजेश कुमार खरे, सीईओ जिला पंचायत श्री अवि प्रसाद, उप संचालक कृषि श्री एनपी सुमन, उप संचालक उद्यानिकी श्रीमती रीता उइके, उप संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं श्री प्रमोद अग्रवाल, सीएमओ रायसेन श्री ओमपाल सिंह भदौरिया, प्रधान वैज्ञानिक एवं कार्यालय प्रमुख कृषि विज्ञान केन्द्र नकतरा डॉ स्वप्निल दुबे तथा वन मण्डलाधिकारी उत्पादन रायसेन श्री एसके गुप्ता को शामिल किया गया है।
   जिला स्तरीय दल अनुविभाग एवं ग्राम स्तरीय दल को मार्गदर्शन प्रदान करेंगे तथा टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव के लिए आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करेंगे। साथ ही सीमावर्ती जिले एवं राज्यों के प्रशासनिक अमले से सम्पर्क कर आवश्यक सूचनाएं गठित दलों तक प्रसारित करेंगे। टिड्डी दल के प्रभावी नियंत्रण के लिए जिले की फसल, वन संपदा की सुरक्षा के दृष्टिगत कीटनाशकों के उपयोग के लिए लगने वाले आवश्यक यंत्रों, कीटनाशकों की व्यवस्थाएं सुनिश्चित करेंगे।
अनुविभागीय स्तरीय दल
   इसी प्रकार अनुविभागीय स्तरीय गठित दल में संबंधित अनुभाग के एसडीएम, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस, संबंधित तहसीलदार, जनपद सीईओ, संबंधित विकासखण्ड के वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी, वरिष्ठ उद्यान विकास अधिकारी तथा वन क्षेत्रपाल सामान्य/उत्पादन को शामिल किया गया है।
   अनुविभागीय स्तरीय दल जिला स्तरीय दल के सम्पर्क में रहकर अद्यतन सूचनाओं का ग्राम स्तर तक प्रसारण करेंगे। ग्राम स्तरीय दल से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर मार्गदर्शन प्रदान करेंगे तथा आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करेंगे। साथ ही संबंधित पुलिस थानों को सूचित कर वायरलेस सेट के माध्यम से सूचनाओं का त्वरित आदान प्रदान एवं ग्राम स्तरीय दल की सहायता करेंगे। सीएमओ टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव के लिए उपलब्ध अग्निशामक यंत्र चालू स्थिति में वाहन चालक सहित तैनात रखेंगे।
ग्राम पंचायत स्तरीय दल
   ग्राम पंचायत स्तरीय दल में संबंधित ग्राम पंचायत के हल्का पटवारी, सचिव तथा ग्राम रोजगार सहायक, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी, ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी, एव्हीएफओ, वन रक्षक, चौकीदार तथा प्रगतिशील कृषक को शामिल किया गया है।
   टिड्डी दल के जिले में प्रकोप की आशंका को दृष्टिगत रखते हुए ग्राम पंचायत स्तरीय दल ग्राम पंचायतों के माध्यम से ग्राम में मुनादी कराकर ग्रामीणजनों की इस आपदा के प्रकोप के संबंध में जागरूक करेंगे। टिड्डी दल के प्रकोप की स्थिति में बचाव के उपायों के संबंध में भी ग्रामवासियों को जागरूक करेंगे। जैसे टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव के लिए आवश्यक है कि टिड्डी दल को वर्तमान में लगी फसलों, पेड़ों पर न बैठने दिया जाए, इसके लिए ध्वनि विस्तारक यंत्रों जैसे मांदल, ढोलक, डीजे, खाली टीन के डिब्बे, थाली, ट्रेक्टर का साइलेन्सर निकाल कर चलाना आदि का सामूहिक रूप से उपयोग करते हुए तेज ध्वनि उत्पन्न करना चाहिए। इससे टिड्डी फसलों, पेड़ो पर न बैठते हुए आगे प्रस्थान कर जाती है।
   इसी प्रकार ग्राम पंचायत स्तरीय दल टिड्डी दल का प्रकोप होने पर स्थानीय स्तर पर उपलब्ध संसाधनों जैसे ट्रेक्टर ऑपरेटेड स्प्रेयर शक्ति चलित स्प्रे पम्प, हस्त चलित स्प्रे पम्प आदि को रासायनिक कीटनाशकों के छिड़काव के लिए तैयार रखना सुनिश्चित करेंगे। अग्निशाम यंत्र को उप संभाग स्तर पर अधिग्रहित कर तैयार रखा जाएगा ताकि आपदा की स्थिति में तत्काल प्रकोपित क्षेत्र में रासायनिक नियंत्रण के लिए पहुंचाया जा सके। नजदीकी पुलिस थानों एवं सीमावर्ती क्षेत्रों से सतत् सम्पर्क में रहकर सूचनाओं का आदान एवं समन्वय करना सुनिश्चित करेंगे। टिड्डी दल का आगमन शाम को लगभग 06 से 07.30 बजे के मध्य होता है तथा सुबह 07.30 बजे तक दूसरे स्थान पर प्रस्थान करता है। ऐसी स्थिति में टिड्डी का नियंत्रण प्रातः 04 बजे से 07.30 बजे तक किया जा सकता है। टिड्डी दल खेतों या पेड़ों, हरियाली पर बैठते हैं एवं सम्पूर्ण वनस्पति को नष्ट करता है। ऐसे में टिड्डी दल के प्रभावी नियंत्रण के लिए अनुभाग स्तर पर एवं जिला स्तर पर गठित दल के सतत् सम्पर्क में रहकर टिड्डी दल के प्रकोप के संबंध में त्वरित सूचनाओं का आदान प्रदान करना सुनिश्चित करेंगे।

 
(50 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer