समाचार
|| प्रत्येक व्यक्ति साल में कम से कम एक वृक्ष लगाए || हायर सेकेण्डरी की शेष परीक्षाओं के नवीन प्रवेश-पत्र जारी || विश्व पर्यावरण दिवस पर वृक्षारोपण कर चलाया सफाई अभियान || ग्रामोद्योग के माध्यम से स्वरोजगार स्थापित कर आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनें || राष्ट्रीय युवा पुरुस्कार के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 26 जून || किसान अब कृषि उपज का बाधा मुक्त व्यापार कर सकेंगे || तिवड़ायुक्त चना समर्थन मूल्य पर खरीदा जायेगा - मुख्यमंत्री || आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाने के लिये यथासंभव लोकल का प्रयोग करें - मुख्यमंत्री || जिले में अब तक 51.3 मि.मी. औसत वर्षा || अभी तक कुल 949 सेंपल जांच के लिए भेजे गए
अन्य ख़बरें
प्रदेश में टिड्डी दल के नियंत्रण के लिये प्रभावी पहल
कीटनाशक दवाओं का छिड़काव
भिण्ड | 23-मई-2020
    प्रदेश में टिड्डी दलों के निगरानी एवं नियंत्रण का कार्य प्रभावी रूप से किया जा रहा है। प्रदेश के समस्त संयुक्त संचालक कृषि एवं उप संचालक कृषि जिला प्रशासन के समन्वय से सतत निगरानी एवं नियंत्रण का कार्य कर रहे हैं, साथ ही स्थानीय कृषकों का सराहनीय सहयोग प्राप्त हो रहा है। विगत दिवस 21 मई को उज्जैन संभाग के नीमच जिले के ग्राम ग्वाल तालाब के पास एक टिड्डी दल एवं दूसरा टिड्डी दल नीमच जिले के जावद विकासखण्ड के ग्राम गादेला सरवानिया महाराज के बीच रात्रि में ठहरा, जिसके नियंत्रण हेतु 17 ट्रैक्टर-चलित स्पे पम्प और 3 फायर ब्रिगेड के माध्यम से कीटनाशक दवाओं का छिड़काव किया गया। साथ ही केन्द्रीय टिड्डी नियंत्रण दल द्वारा भी पृथक से कीटनाशकों का छिड़काव किया गया, जिसके प्रभावी परिणाम प्राप्त हुए।
   उज्जैन जिले के घटिया विकासखण्ड बच्चाखेड़ा, जैथरापुरा, बान्दका में एक टिड्डी दल रात्रि में रुका, जबकि दूसरा टिड्डी दल तराना विकासखण्ड के तिल्केखर, बगोदा, बाहटाखेड़ी में रुका। इनके नियंत्रण हेतु स्थानीय प्रशासन के सहयोग से प्रथम टिड्डी दल में 12 ट्रैक्टर-चलित स्पे पम्प तथा 4 फायर ब्रिगेड द्वारा कीटनाशक का छिड़काव किया गया, द्वितीय दल के नियंत्रण हेतु 15 ट्रैक्टर-चलित स्पे पम्प तथा 4 फायर ब्रिगेड का उपयोग कीटनाशक छिड़काव के लिये किया गया। दोनों टिड्डी दलों के प्रभावी नियंत्रण हेतु केन्द्रीय नियंत्रण दल द्वारा पृथक से कीटनाशकों का छिड़काव किया गया।
   उज्जैन संभाग के रतलाम जिले के आलोट विकासखण्ड के ग्राम बापचा एवं कराड़िया ग्राम में भी एक टिड्डी दल ने रात्रि विश्राम किया। इसके रोकथाम के लिये प्रातरू 4 बजे से 16 ट्रैक्टर-चलित स्प्रे पम्प तथा 2 फायर ब्रिगेड के माध्यम से प्रभावी रूप से कीटनाशकों का छिड़काव केन्द्रीय दल के समन्वय से किया गया, परिणामस्वरूप 65 से 70 प्रतिशत नियंत्रण में सफलता प्राप्त हुई।
   इंदौर संभाग के खरगौन जिले के बड़वाह विकासखण्ड के ग्राम थरवर एवं लांबी में एक छोटा टिड्डी दल रात्रि को रुका, जिसके नियंत्रण के लिये एक ट्रैक्टर-चलित स्प्रे पम्प तथा 3 फायर ब्रिगेड द्वारा कीटनाशकों का छिड़काव किया गया, इसमें भी 50 से 60 प्रतिशत सफलता हुई।
   मुरैना संभाग के श्योपुर जिले के विजयपुर विकासखण्ड के ग्राम डोंगरपुर में टिड्डी दल का रात्रि में नियंत्रण हेतु 8 ट्रैक्टर-चलित स्प्रे पम्प तथा एक फायर ब्रिगेड द्वारा कीटनाशकों का छिड़काव स्थानीय प्रशासन के समन्वय से किया गया।
   टिड्डी दल के नियंत्रण के लिये समस्त जिलों को जिला स्तर पर निगरानी दल गठित करने के निर्देश जारी किये जा चुके हैं। साथ ही अनुभाग स्तर पर भी निगरानी गठित करते हुए टिड्डी के नियंत्रण हेतु समस्त आवश्यक संसाधनों की व्यवस्था हेतु भी निर्देश जारी किये गये हैं, जिससे सूचना प्राप्त होते ही टिड्डी नियंत्रण में लगा हुआ अमला तुरंत प्रभावित स्थल तक पहुँच सके। राज्य स्तर पर भी नियंत्रण कक्ष स्थापित है, जिसका दूरभाष क्रमांक 0755-2558823 है।

 
(13 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer