समाचार
|| प्रवासी श्रमिकों को लेकर मध्यप्रदेश से 3 ट्रेन जायेंगी पश्चिम बंगाल || विभिन्न प्रदेशों से श्रमिकों को लेकर अब तक 132 ट्रेन पहुँचीं मध्यप्रदेश || इंदौर जिले में मास्क नहीं पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने तथा सामुहिक एकत्रीकरण पर होगा स्पॉट फाईन || सभी दंत क्लिनिक्स को निर्धारित शर्तों पर खोले जाने की अनुमति || कृषि उपसंचालक श्री नेमा द्वारा ऑनलाइन मीटिंग आयोजित की गई || कोरोना वायरस की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु हायर सेकेण्डरी परीक्षा 2020 के संबंध में पालन प्रतिवेदन एक जून तक प्रस्तुत करने के निर्देश जारी || अभिनव पहल - ग्रामीण क्षेत्रों में सूखे हेण्डपंप, बोरबेल, कूपों को पुर्न जीवित करने का कार्य प्रारंभ || आदेश का उल्लंघन करने पर सिंधी कॉलोनी स्थित मोहन होटल सील || विकासखंड शिक्षा अधिकारी केसली के प्रस्ताव पर शासकीय मा.शा. नाहरमउ को बनाया गया उपकेंद्र || शहर के विभिन्न स्थानों पर सरोकर योजना के तहत जरूरतमंदों को किए जा रहे भोजन एवं राशन के पैकेट वितरित
अन्य ख़बरें
दुग्ध उत्पादन एवं नस्ल सुधार में अग्रणी भूमिका निभाता केन्द्रीय वीर्य संस्थान
-
धार | 23-मई-2020
     देश एवं प्रदेश में गौ-भैंस वंशीय पशुओं की उन्नत नस्ल तैयार कराने में मध्यप्रदेश राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम द्वारा संचालित केन्द्रीय वीर्य संस्थान भोपाल अग्रणी भूमिका निभा रहा है। यह संस्थान भारत सरकार से ए ग्रेड तथा आईएसओ 2001-2015 प्रमाण पत्र प्राप्त संस्थान है।
   भारतीय कृषि अर्थ-व्यवस्था में पशुपालन एवं डेयरी व्यवसाय महत्वपूर्ण स्थान रखता है। यह व्यवसाय ग्रामीणजनों के कल्याण, सामाजिक, आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। डेयरी व्यवसाय को और अधिक लाभ का धंधा बनाने के लिए पशुओं की दुग्ध उत्पादन क्षमता को और अधिक विकसित किया जा रहा है। इस दिशा में केन्द्रीय वीर्य संस्थान भोपाल निरंतर प्रयासरत है।
   निगम के प्रबंध संचालक श्री एच.बी.एस. भदौरिया ने बताया कि केन्द्रीय वीर्य संस्थान भोपाल राज्य की प्रजनन नीति के अनुसार हिमीकृत वीर्य की मांग की पूर्ति करता है। संस्थान के द्वारा कुल 16 नस्लों के गौ-भैंस वंशीय नंदी के प्रतिवर्ष 28 लाख तक हिमीकृत वीर्य डोजेज का उत्पादन किया गया है। जिन्हें भविष्य में बढ़ाकर 40 लाख तक किए जाने का लक्ष्य है। उन्होंने ने बताया कि प्रदेश की गौ-भैंस वंशीय नस्लों का जैविक सुरक्षा मानकों के अनुसार संधारण किया जाता है। पशुओं की दुग्ध उत्पादन क्षमता पशु की अनुवांशिक दुग्ध उत्पादन क्षमता एवं उपयुक्त पर्यावरण पर निर्भर करता है।
   भदभदा स्थित इस संस्थान में 16 उन्नत नस्ल के नंदी रखे गए हैं। उच्च श्रेणी के साण्डों के वीर्य का उपयोग उनकी संतति की दुध उत्पादन क्षमता में महत्वपूर्ण योगदान देता है। ऐसे साण्डों से उत्पन्न हिमीकृत वीर्य का उपयोग किसी भी प्रजनन में अत्यधिक महत्व रखता है।

 
(7 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2020जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer