समाचार
|| रोजगार की चिंता अब नहीं है, गांव में ही मिल गया रोजगार (कहानी सच्ची है) || जिले के भ्रमण पर रही प्रभारी अधिकारी हेल्थ || मत्स्य प्रजनन काल 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट निषेध || राज्य सभा निर्वाचन, 19 जून को होगा मतदान || ईव्हीएम वेयर हाउस का निरीक्षण व ईव्हीएम का भौतिक सत्यापन कार्य आज होगा || पीएम जनधन योजनान्तर्गत महिला खाता धारकों के तृतीय किस्त का आहरण शुक्रवार से शुरू || प्रदेश में संचालित हो जागरूकता अभियान || प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा के प्रीमियम भुगतान की तिथि बढ़ाई गयी || 5 लाख 87 हजार श्रमिक प्रदेश में वापस आये || अभी तक कुल 944 सेंपल जांच के लिए भेजे गए
अन्य ख़बरें
कलेक्टर डॉ. पाण्डेय के निर्देशन में जिला चिकित्सालय में प्रारंभ हुई ई संजीवनी ओपीडी
घर बैठे स्वास्थ्य सेवाएं, चिकित्सीय परामर्श एवं उपचार ले
देवास | 23-मई-2020
    कलेक्टर डॉ.श्रीकांत पाण्डेय के निर्देशन में जिला चिकित्सालय देवास में भी र्इ-संजीवनी ओपीडी प्रारंभ की गर्इ है। कोविड-19 के कारण चल रहे लॉक डाउन से बहुत से लोग सामान्य स्वास्थ्य सेवाओं से वंचित रह रहे है तथा कुछ अस्पतालो में कोविड-19 अस्पताल घोषित होने के कारण वहां की अन्य सेवाएं प्रभावित हुर्इ हैं। इन स्वास्थ्य सेवाओं की कमी को पूरा करने के लिए टेली मेडिसिन सेवाओं को बढ़ाया जाना अत्यंत आवश्यक है। ताकि लोगों को घर पर ही इन स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ मिल सके।
        सिविल सर्जन डॉ.अतुल बिड़वर्इ ने बताया कि वर्तमान में र्इ-संजीवनी सेवाएं पूरे प्रदेश में लागू की जा चुकी है। जिला चिकित्सालय देवास में पदस्थ डॉ.एच.एस.राणा टेलीमेडिसिन, र्इ-संजीवनी नोडल अधिकारी नियुक्त किये गये है। डॉ.एच.एस राणा सहित, डॉ.शशांक तिवारी, डॉ. सपना राजा द्वारा सेवायें दी जा रही है। घर बैठे इलाज कि सुविधा निःशुल्क शासन द्वारा प्रदाय कि जा रही है।
         डॉ.एच एस राणा नोडल अधिकारी र्इ-संजीवनी ने बताया कि जैसा कि र्इ-संजीवनी नाम से स्पष्ट है, यह स्वास्थ्य सेवाएं ऑनलार्इन सेवाएं होंगी और इसके लिये मरीज को टेबलेट, लेपटॉप या डेस्कटॉप जिसमें वेब कैमरा, स्पीकर, मार्इक एवं इंटरनेट हो, की आवश्यकता होगी, ताकि वह चिकित्सक से सीधा ऑडियो-विजुअल संवाद स्थापित कर सके। र्इ-संजीवनी का ओपीडी समय प्रातः 9:00 बजे से दोपहर 01:00 बजे तक रहेगा। उक्त उपकरणों की सहायता से मरीज को सर्वप्रथम www.esanjeevaniopd.in. पर ‘पेशेंट रजिस्टर’ पर अपने मोबार्इल नंबर की सहायता से पंजीकृत कर ओटीपी प्राप्त करना होगा। ओटीपी इण्टर करने के पश्चात ‘पेशेंट रजिस्टेशन एवं टोकन जनरेशन’ में नाम, पता, आयु संबंधी जानकारी दर्ज करना होगी। यदि कोर्इ रिपोर्ट/एक्स-रे आदि डॉक्टर को बताना चाहते हैं तो उसे भी अपलोड करना होगा। यहॉ ‘ओके’ करने के बाद आपको पंजीकृत मोबार्इल नंबर पर टोकन प्राप्त होगा, जो कि मरीज की वेटिंग लिस्ट को दर्शाता है। एस एम एस के आधार पर प्राप्त टोकन नंबर के माध्यम से ‘लाग-इन’ कर कतार में अपनी बारी का इंतजार करेंगे।
       र्इ-संजीवनी ओपीडी सेवा अंतर्गत संबंधित व्यक्ति को पोर्टल र्इ संजीवनी ओपीडी डाट इन पर जानकारी दर्ज करानी होगी तथा जानकारी दर्ज होने के उपरांत वीडियो कॉल से संबंधित डॉक्टर उनसे चर्चानुसार परामर्श कर उपचार के लिए उन्हें आवश्यक दवाएं एवं जाँच की सलाह देंगे तथा डिजिटल हस्ताक्षर युक्तपर्ची संबंधित व्यक्तित को प्राप्त होगी जिसका प्रिंट आउट लेकर दवा आदि की खरीदी की जा सकती है साथ ही कोरोना र्इ-परामर्श सेवा राज्य के हेल्पलार्इन नं. 104 पर चालू की गर्इ है। यह एक आर्इव्हीआरएस युक्त सेवा है जिसका उपयोग कर डॉक्टर से दूरभाष पर चर्चा द्वारा आवश्यक जांच एवं उपचार संबंधी परामर्श प्राप्त किया जा सकता है। जिन लोगो को कोविड-19 संबंधी लक्षण हो रहे है विशेषकर उनके लिए यह सेवा उपलब्ध है। इस सेवा के लिए डॉक्टर द्वारा निःशुल्क परामर्श दिया जा रहा है। उक्त कार्यक्रम की निगरानी सी.एम.एच.ओ. डॉ. आर.के.सक्सेना और आर.एम.ओ. डॉ.एम.एस. गोसर द्वारा की जाकर शासन से प्राप्त दिशा-निर्देश के अनुसार र्इ-संजीवनी का संचालन जिला चिकित्सालय मे किया जा रहा है।
 
(11 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer