समाचार
|| श्री सुरेश पत्रकारिता विश्वविद्यालय को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे || स्वास्थ्य मंत्री ने रायसेन में एक करोड़ 33 लाख रूपए लागत के ऑडिटोरियम हॉल का किया भूमिपूजन || सफलता के कीर्तिमान स्थापित करता मध्यप्रदेश का किसान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सांसद श्री गणेश सिंह के अनुज के निधन पर दु:ख व्यक्त किया || मेडिकल कॉलेज के स्वशासी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए भी शासकीय कर्मचारियों के समान मेडिकल रीइंबर्समेंट की योजना लागू || विकास के अवसर बराबरी से पाना आदिवासी भाई-बहनों का अधिकार - मुख्यमंत्री श्री चौहान || कृषि एवं सहकारिता के बल पर प्रदेश आत्मनिर्भर बनेगा : सहकारिता मंत्री || सीहोर में उद्योगों की स्थापना के लिए समन्वित प्रयास जरूरी - मंत्री श्री सखलेचा || स्वच्छ एवं स्वतंत्र निर्वाचन हेतु बार्डर में होगी वाहनो की सघन जॉच || कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने पर 225 व्यक्ति डिस्चार्ज
अन्य ख़बरें
किसान भाई टिड्डी दल के प्रकोप से रहे सावधान
-
बड़वानी | 23-मई-2020
 
    कृषि विज्ञान केन्द्र बड़वानी के प्रधान वैज्ञानिक और प्रमुख डॉ. एस. के. बड़ोदिया ने बताया कि आस-पास के जिलों में टिड्डी दल के प्रकोप को देखा जा रहा है, जो खेतो में लगी फसलों और वनस्पतियो को खाकर नष्ट कर देता है। साथ ही फल एव सब्जियों वाली फसलों को भी इनसे गंभीर नुकसान होता है।
    उन्होने बताया कि यह टिड्डी दल एक दिन में 150-200 किलोमीटर आगे बड़ता है एवं समूह में रात्रिकालीन के समय, खेतों में रूककर फसलों को खाता है और जमीन में लगभग 500-1500 अंडे प्रति कीट देकर सुबह उड़ कर दूसरी जगह चला जाता है। टिड्डी दल के समूह में इनकी संख्या लाखों में होती है। ये जहॉं भी पेड़-पौधें और अन्य वनस्पति दिखाई देती, उसे खाकर आगे बढ़ जाते है।
    कृषि वैज्ञानिको ने बताया कि पहले इनका प्रकोप पाकिस्तान से सटे हुए भारत के राजस्थान के जिलों में ही देखा जाता था, लेकिन इस वर्ष मध्यप्रदेश के कुछ जिलों में भी देखा गया है।
    केन्द्र के प्रमुख वैज्ञानिक डॉ बड़ोदिया एवं वैज्ञानिक द्वय डॉ. डी. के. तिवारी व डॉ. डी. के.  जैन ने किसान बन्धुओं को निम्न सलाह दी है।  
  •     कीट किसी भी समय खेतो में आक्रमण कर क्षति पहुंचा सकते है। शाम 7 से रात 9 बजे के बीज दल विश्राम के लिये कहीं भी बेठ सकते है , जिसकी पहचान और जानकारी के लिए स्थानीय स्तर पर दल का गठन कर सतत् निगरानी रखें।
  •     यदि टिड्डी दल का प्रकोप हो गया तो टोली बनाकर विभिन्न तरह की परापरांगत उपाय जैसे शोर मचाकर, बिना सांयलेसर के वाहनों से ध्वनि कर एवं अधिक ध्वनि वाले अन्य यंत्रों को बजाकर या पौधों की डालो से अपने खेते से भगाया जा सकता है।
  •     रासायनिक कीटनाषी पाउडर मेलथियान 5 प्रतिशत 20 किग्रा या फैनबिलरेड 0.4 प्रतिशत 20-25 किग्रा या क्युनालफॉस 1.5 बीपी 25 किग्रा. प्रति हैक्टेयर की दर से बुरकाव करें।
  •     यदि शाम के समय टिड्डी दल का प्रकोप हो गया है तो तडके 3 से सुबह 5 बजे तक तुरंत अनुषंसित कीटनाषी दवाए ट्रेक्टर चजित स्प्रेपंप (पॉवर स्प्रेयर) द्वारा जैसे-क्योरपायरीफॉस 20 ईसी 1200 मिली या डेल्टामेथरिन 2.8 ई.सी. 600 मिली. अथाव नालेम्डा साइलेथीन 5 ईसी 400 मिली, डाईफ्लूबिन ज्यूरॉन 25 डब्ल्यूटी. 240 ग्राम प्रति हेक्टेयर 600 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।
  •     जैसे किसी गांव में टिड्डी के आक्रमण की जानकारी मिलती है तो प्रशासन, कृषि विभाग , कृषि विज्ञान केन्द्र से संपर्क करें। किसान भाई टिड्डी दल के आक्रमण के समय यदि कीटनाशी दवा उपलब्ध नहीं है तो ट्रेक्टर चलित पॉवर स्प्रे के द्वारा पानी की तेज बौछार से भी इन्हें भगा सकते है।  
(121 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer