समाचार
|| प्रदेश में 2 लाख 57 हजार दावेदारों को उनकी काबिज भूमि के वन अधिकार पत्र वितरित || प्रदेश में "एकल नागरिक डाटाबेस" बनाया जाएगा || एक ही फोरम पर उपलब्ध होंगी रोजगार लेने और देने वालों की जानकारी || दुग्ध उत्पादकों, किसानों को के.सी.सी. देने का अभियान प्रारंभ || मानसून सीजन में खतरनाक हो सकते हैं बिजली के झटके || महिला जनधन खाता संख्या के अंतिम अंक 4 और 5 वाले खातों में 8 जून को 500 रुपए डाले जायेंगे || हायर सेकेण्डरी की शेष परीक्षाओं के नवीन प्रवेश-पत्र जारी || सभी स्कूलों में 30 जून तक रहेगा अवकाश || सभी 83 रिपोर्ट नेगेटिव, 10 मरीज़ स्वस्थ, अभी केवल 8 एक्टिव केस || उपकेन्द्र पतेरी में आज विद्युत प्रवाह अवरूद्ध रहेगा
अन्य ख़बरें
किसान भाई टिड्डी दल के प्रकोप से रहे सावधान
-
बड़वानी | 23-मई-2020
 
    कृषि विज्ञान केन्द्र बड़वानी के प्रधान वैज्ञानिक और प्रमुख डॉ. एस. के. बड़ोदिया ने बताया कि आस-पास के जिलों में टिड्डी दल के प्रकोप को देखा जा रहा है, जो खेतो में लगी फसलों और वनस्पतियो को खाकर नष्ट कर देता है। साथ ही फल एव सब्जियों वाली फसलों को भी इनसे गंभीर नुकसान होता है।
    उन्होने बताया कि यह टिड्डी दल एक दिन में 150-200 किलोमीटर आगे बड़ता है एवं समूह में रात्रिकालीन के समय, खेतों में रूककर फसलों को खाता है और जमीन में लगभग 500-1500 अंडे प्रति कीट देकर सुबह उड़ कर दूसरी जगह चला जाता है। टिड्डी दल के समूह में इनकी संख्या लाखों में होती है। ये जहॉं भी पेड़-पौधें और अन्य वनस्पति दिखाई देती, उसे खाकर आगे बढ़ जाते है।
    कृषि वैज्ञानिको ने बताया कि पहले इनका प्रकोप पाकिस्तान से सटे हुए भारत के राजस्थान के जिलों में ही देखा जाता था, लेकिन इस वर्ष मध्यप्रदेश के कुछ जिलों में भी देखा गया है।
    केन्द्र के प्रमुख वैज्ञानिक डॉ बड़ोदिया एवं वैज्ञानिक द्वय डॉ. डी. के. तिवारी व डॉ. डी. के.  जैन ने किसान बन्धुओं को निम्न सलाह दी है।  
  •     कीट किसी भी समय खेतो में आक्रमण कर क्षति पहुंचा सकते है। शाम 7 से रात 9 बजे के बीज दल विश्राम के लिये कहीं भी बेठ सकते है , जिसकी पहचान और जानकारी के लिए स्थानीय स्तर पर दल का गठन कर सतत् निगरानी रखें।
  •     यदि टिड्डी दल का प्रकोप हो गया तो टोली बनाकर विभिन्न तरह की परापरांगत उपाय जैसे शोर मचाकर, बिना सांयलेसर के वाहनों से ध्वनि कर एवं अधिक ध्वनि वाले अन्य यंत्रों को बजाकर या पौधों की डालो से अपने खेते से भगाया जा सकता है।
  •     रासायनिक कीटनाषी पाउडर मेलथियान 5 प्रतिशत 20 किग्रा या फैनबिलरेड 0.4 प्रतिशत 20-25 किग्रा या क्युनालफॉस 1.5 बीपी 25 किग्रा. प्रति हैक्टेयर की दर से बुरकाव करें।
  •     यदि शाम के समय टिड्डी दल का प्रकोप हो गया है तो तडके 3 से सुबह 5 बजे तक तुरंत अनुषंसित कीटनाषी दवाए ट्रेक्टर चजित स्प्रेपंप (पॉवर स्प्रेयर) द्वारा जैसे-क्योरपायरीफॉस 20 ईसी 1200 मिली या डेल्टामेथरिन 2.8 ई.सी. 600 मिली. अथाव नालेम्डा साइलेथीन 5 ईसी 400 मिली, डाईफ्लूबिन ज्यूरॉन 25 डब्ल्यूटी. 240 ग्राम प्रति हेक्टेयर 600 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।
  •     जैसे किसी गांव में टिड्डी के आक्रमण की जानकारी मिलती है तो प्रशासन, कृषि विभाग , कृषि विज्ञान केन्द्र से संपर्क करें। किसान भाई टिड्डी दल के आक्रमण के समय यदि कीटनाशी दवा उपलब्ध नहीं है तो ट्रेक्टर चलित पॉवर स्प्रे के द्वारा पानी की तेज बौछार से भी इन्हें भगा सकते है।  
(15 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer