समाचार
|| होम क्वारंटीन किये गए व्यक्तियों को कलेक्टर ने सार्थक एप अनिवार्य रूप से डाउनलोड कराने के दिये निर्देश || कोरोना योद्धाओं की सुरक्षा हेतु जनता ने कलेक्टर को भेंट की पी पी ई किट || जिले में मानपुर तहसील में एक और कोरोना पाजिटिव मिला || कॉल सेंटर में प्राप्त 6 हजार से अधिक शिकायतों का हुआ निराकरण || गुरूवार को कोरोना की कुल 41 रिपोर्ट निगेटिव व 1 पॉजिटिव आईं || कोविड केयर सेंटर में भर्ती मरीजों ने की अस्पताल की व्यवस्थाओं की सराहना || होम क्वारेन्टाइन का उल्लंघन करने वालों पर होगा दो हजार रूपये का जुर्माना || कोरोना से स्वस्थ होने पर आज  दो व्यक्तियों को किया गया डिस्चार्ज || सराफा और नया मोहल्ला कन्टेनमेंट जोन से मुक्त || जिला दण्डाधिकारी ने पीपुल्स मेडिकल कालेज को नोटिस जारी किया
अन्य ख़बरें
टिड्डी दल से बचाव हेतु करें उपाय
-
निवाड़ी | 23-मई-2020
 
   
     उप संचालक कृषि श्री एसके श्रीवास्तव ने बताया कि प्रदेश के कई भागों में टिड्डी दल के प्रकोप की खबरें प्राप्त हो रही हैं। उन्होंने बताया कि ये टिड्डी दल वर्तमान में निवाड़ी जिले तक पहुंच गया है, ये हवा की गति अनुसार लगभग 100-150 कि.मी. प्रति घंटा की गति से उड़ती हैं। उन्होंने बताया कि टिड्डा/टिड्डी दल फसलों को नुकसान पहुंचाने वाला कीट है जो कि समूह में एक साथ चलता है और बहुत लम्बी-2 दूरियों तक उड़ान भरता है। यह फसल को चबाकर, काटकर खाने से नुकसान पहुंचाता है। अतः स्पष्ट है कि ये उद्यानिकी फसलों, वृक्षों एवं कृषि की फसलों को बहुत बड़े रूप में एक साथ हानि पहुचां सकता है। उन्हांेने सभी किसान भाईयों से अनुरोध किया है कि सतत निगरानी रखें और टिड्डी दल का प्रकोप होने पर नीचे बताई गई विधियों को अपनाकर फसलों का बचाव करें।
   यदि जिले में टिड्डी दल का प्रकोप होता है तो इसके नियंत्रण के लिये किसान भाई दो प्रकार के साधन अपना सकते हैं-
1.              भौतिक साधन- जिसमें किसान भाई टोली बनाकर विभिन्न तरह के परम्परागत उपाय जैसे शोर मचाकर तथा ध्वनि वाले यंत्रो को बजाकर इन्हें डराकर भगाया जा सकता है। इसके लिये मांदल, ढोलक, ट्रैक्टर/मोटर साइकिल का सायलेंसर, खाली टीन के डिब्बे, थाली इत्यादि से भी सामूहिक प्रयास से ध्वनि की जा सकती है। ऐसा करने से टिड्डी नीचे नहीं आकर फसलों पर न बैठकर आगे प्रस्थान कर जाते हैं।
2.              रासायनिक नियंत्रण में सुबह से कीटनाशी दवा ट्रेक्टर चलित स्प्रे पंप, पावर स्प्रेयर द्वारा जैसे क्लोरपॉयरीफॉस 20 ईसी 1200 मिली या डेल्टामेथरिन 2.8 ईसी 600 मिली अथवा लेम्डाईलोथिन 5 ईसी 400 मिली, डाईफ्लूबिनज्यूरॉन 25 डब्ल्यूटी 240 ग्राम प्रति हे. 600 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।
    टिड्डी दल हवा की गति अनुसार लगभग 100-150 कि.मी. प्रति घंटा की गति से उड़ती है। सभी किसान भाईयों से अनुरोध है कि सतत निगरानी रखें और टिड्डी दल का प्रकोप होने पर बताई गई विधियों को अपनाकर फसलों का बचाव करें।
(5 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2020जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer