समाचार
|| बालाघाट में पुल-पुलियाओ के लिये 12 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत || मास्क न लगाने पर दस व्यक्तियों पर जुर्माना || कलेक्टर ने किया नये बने कण्टेनमेंट जोन का भ्रमण || आवागमन के लिए नहीं होगी पास की जरूरत || ऑनलाइन आवेदन पर फिंगर प्रिंट के स्थान पर ओटीपी की सुविधा मिलेगी-मंत्री श्री पटेल || मत्स्य प्रजनन काल 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट निषेध || मत्स्य प्रजनन काल 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट निषेध || हायर सेकण्डरी और हायर सेकण्डरी व्यवसायिक के शेष विषयों की परीक्षा 9 जून से || श्रम-सिद्धि अभियान दे सकता है श्रमिकों को रोजगार के संकट से बड़ी राहत || डीएलसीसी की बैठक 6 जून को
अन्य ख़बरें
जिला प्रशासन की कड़ी मेहनत और नागरिकों की जागरूकता का दिख रहा असर
लॉक डाउन के दो महीने बाद पटरी पर आ रहा है शहर
इन्दौर | 23-मई-2020
 
    मध्य प्रदेश की औद्योगिक राजधानी कहे जाने वाले इंदौर को इतना शांत पहले कभी महसूस नहीं किया होगा। पूरे विश्व पर आए कोरोना वायरस संकट ने ना केवल इंदौर को बल्कि पूरे विश्व को रुकने पर मजबूर कर दिया।
    इंदौरवासी अपने खुशमिजाज रवैये और सेवाभाव के लिए मशहूर हैं। अब जीवन को एक नए तरीके से जीने के लिए इंदौरवासी तैयार दिख रहे हैं।
    लॉक डाउन को करीब दो महीने हो गए हैं, और इस बीच शासन-प्रशासन को लोगों की भलाई के लिए कई कठोर कदम उठाने पड़े। कमिश्नर श्री आकाश त्रिपाठी और कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने अपनी दूरदर्शिता और परिपक्व प्रशासनिक अनुभव से शहर को सही दिशा दी। परिस्थितियों को भांपते हुए आवश्यकता अनुसार समय-समय पर विभिन्न छूट संबंधी आदेश जारी किए गए। लोगों की रोजमर्रा की जरूरतों हेतु विशेष रूप से नगर निगम की पूरी टीम लगाई गई। घर-घर सामान की डिलीवरी, घर बैठे ऑनलाइन मेडिकल सुविधा तथा तकनीकी का पूर्ण प्रयोग पर शहर वासियों को सही वक्त पर सही सूचना पहुंचाकर उन्हें जागरूक करने के साथ-साथ उनके सहयोग से इंदौर आज की स्थिति में पहुंच पाया। यदि समय रहते सर्वे कार्य, कंटेनमेंट एरिया का चिन्हांकन, क्वॉरेंटाइन सेंटर और अन्य प्रतिबंध नहीं लगाए जाते तो स्थिति भयावह हो सकती थी। परंतु आज प्रशासन स्थितियों का आकलन करते हुए तथा शहर वासियों और आर्थिक समीकरणों के दृष्टिगत नगर निगम सीमा क्षेत्र के 29 राजस्व गांवों, ग्रामीण क्षेत्रों में निश्चित समय के लिए विभिन्न औद्योगिक, व्यवसायिक गतिविधियों को संचालित करने की स्वीकृति दी है।
    समय-समय पर जारी किए गए छूट संबंधी आदेश जैसे फल, सब्जी ,दूध, पानी का टैंकर आदि की सप्लाई, आटा चक्की का संचालन, बैंकिंग प्रतिनिधियों को बैंकिंग ट्रांजैक्शन करने की अनुमति, जीवन शक्ति योजना के तहत महिलाओं को बैंक से भुगतान की अनुमति, सेवानिवृत्त शासकीय पेंशनर्स को बैंक से भुगतान की स्वीकृति, मंडी में क्रय-विक्रय संबंधी अनुमति, जीवन बीमा एलआईसी के संचालन की स्वीकृति, ऑनलाइन शॉपिंग एजेंसीज को घर-घर सामग्री वितरण की अनुमति, किसानों के हित में  बीज विक्रय प्रतिष्ठानों, उत्पादन तथा प्रोसेसिंग इकाइयों एवं  कीटनाशक औषधियों की उपलब्धता तथा शहर में विभिन्न निर्माण कार्यों को प्रारंभ करने की अनुमति दी गई। नगर निगम के माध्यम से आवश्यक सामग्री और सब्जियों की होम डिलेवरी से नागरिकों को सुविधा मिली। मंडी में व्यापार की सशर्त अनुमति से किसानों और व्यापारियों दोनों की गाड़ी चल पड़ी है।
    चूँकि प्रशासन का उद्देश्य कोरोना संक्रमण को किसी भी स्थिति में फैलने से रोकना है, अतः प्रशासन इस बात को लेकर सजग है कि, किस तरह धीरे-धीरे सामान्य जीवन की ओर बढ़ना है साथ ही रोकथाम के लिए आवश्यक नियमों को भी जारी रखना है।
(11 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer