समाचार
|| नरसिंहगढ़ तहसील पर बने कंटेन्मेंट एरिया से मुक्त || सारंगपुर तहसील पर बने कंटेन्मेंट एरिया से मुक्त || तहसील पचोर पर बने कंटेन्मेंट एरिया से मुक्त || नगर पालिका ब्यावरा पर बने कंटेन्मेंट एरिया से मुक्त || सुठालिया रोड़ पर बने कंटेन्मेंट एरिया से मुक्त || उद्यानिकी किसानों को खरीफ प्याज की तैयारी की सलाह || जिले में अभी तक 177.9 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज || नागद्वारी मेला 2020 का आयोजन स्थगित || कलेक्टर ने किया प्रात: काल में नगर भ्रमण साफ-सफाई की देखी || थाना कुंडीपुरा के एक आपराधिक प्रकरण में 500 रूपये के पुरस्कार की उद्घोषणा
अन्य ख़बरें
सभी जिलों में बाढ़ नियंत्रण प्रकोष्ठ का गठन करें
संभाग आयुक्त श्री ओझा ने की बाढ़ से निपटने हेतु पूर्व तैयारियों की समीक्षा
मुरैना | 27-मई-2020
     संभाग आयुक्त श्री एम बी ओझा ने अतिवर्षा एवं उससे निर्मित होने वाली बाढ़ की स्थिति से निपटने हेतु ग्वालियर एवं चंबल संभाग के सभी जिलों में की गई पूर्व तैयारियां एवं बनाई गई कार्ययोजना की जिलावार बुधवार को समीक्षा कर जिला कलेक्टर सहित संबंधित विभागों के अधिकारियों को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के द्वारा आवश्यक निर्देश दिए। 
    ग्वालियर एनआईसी के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कक्ष में आयोजित ग्वालियर एवं चंबल संभाग की संभाग स्तरीय समिति की बैठक में कलेक्टर ग्वालियर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री नवनीत भसीन, नगर निगम आयुक्त श्री संदीप माकिन, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री शिवम वर्मा, एडीएम श्री किशोर कन्याल, मुख्य अभियंता यमुना कछार श्री एस डी श्रीवास्तव, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के मुख्य अभियंता श्री एस सी अंडमान, अधीक्षक यंत्री जल संसाधन ग्वालियर मंडल श्री आर पी झा, अधीक्षण यंत्री मुरैना श्री बी के गर्ग, कार्यपालन यंत्री श्री राकेश चतुर्वेदी सहित संबंधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।
    संभाग आयुक्त श्री एम बी ओझा ने ग्वालियर एवं चंबल संभागों के सभी जिलों में अतिवर्षा, बाढ़ से निपटने हेतु की गई तैयारियों की समीक्षा करते हुए जिला कलेक्टरों को निर्देश दिए हैं कि वह अपने अपने जिलों में जिला एवं अनुविभाग स्तरों की बैठक आयोजित कर लें। ऐसे स्थान जहां अति वर्षा के कारण बाढ़ की स्थिति निर्मित हो सकती है। ऐसे स्थानों को चिन्हित कर उनका भ्रमण कर आवश्यक व्यवस्थायों सुनिश्चित करें।
    संभाग आयुक्त ने निर्देश दिए कि होमगार्ड बाढ़ से निपटने हेतु गोताखोरों की व्यवस्था, बाढ़ के दौरान उपयोग में आने वाले उपकरणों एवं संसाधनों की व्यवस्था भी सुनिश्चित करें। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी जिले अपने जिलों में बाढ़ नियंत्रण प्रकोष्ठ का गठन कर उसके टेलीफोन नम्बर, पुलिस कंट्रोल एवं कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक कार्यालय एवं निवास सहित प्रशासन एवं पुलिस अधिकारियों को दें। बाढ़ नियंत्रण प्रकोष्ठ का नोडल अधिकारी अपर कलेक्टर स्तर के अधिकारी को बनाया जाए।
    संभाग आयुक्त श्री ओझा ने कहा कि बाढ़ से निपटने के कार्य में स्थानीय ग्राम सुरक्षा समितियों, नगर सुरक्षा समितियों, जल उपभोक्ता संथाओं के पदाधिकारियों को भी जोड़ें। इसके लिये उन्हें प्रशिक्षण भी प्रदाय किया जाए। किसी भी हालत में बाढ़ एवं अतिवृष्टि के कारण जन एवं पशु हानि न हो। पूर्व में जो आपदा प्रबंधन की योजना बनाई गई है उसे अद्यतन करें।
बांधों से पानी छोड़ने से पहले सूचना दें
संभाग आयुक्त ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि पुल-पुलियों पर से पानी बहने की स्थिति में वाहन न निकलें। इसके लिये पुल-पुलियों, रपटों पर साइन बोर्ड लगाने के साथ होमगार्ड के जवानों की भी ड्यूटी लगाई जाए। श्री ओझा ने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जलाशयों से पानी छोड़ने के पूर्व एवं अन्य सहायक नदियों से आने वाले पानी की सूचना समय रहते संबंधित जिलों के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक तथा पुलिस कंट्रोल रूम को भी दें, जिससे लोगों को सूचित किया जा सके। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के साथ नगरीय क्षेत्रों के निचली बस्तियों एवं नदी-नालों में वर्षा के पानी के कारण जल भराव की स्थिति निर्मित न हो । नालों पर ऐसे अतिक्रमण जिनके कारण बाढ़ की स्थिति निर्मित हो सकती है, उन नालों पर से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई भी करें। उन्होंने कहा जल संसाधन, ग्रामीण विकास, होमगार्ड, नगरीय निकायों के कार्यालय प्रमुख सहित उनके द्वितीय क्रम के अधिकारियों के मोबाइल नम्बर भी पुलिस कंट्रोल रूम को दिए जाएं। 
प्रावासी मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराएं
    संभाग आयुक्त ने कोविड-19 के कारण प्रवासी श्रमिकों के सर्वे कार्य की जानकारी लेते हुए कहा कि पोर्टल पर पंजीयन कराएं। स्किल के हिसाब से प्रवासी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराना है। उन्होंने दोनो संभागों के कलेक्टरो को निर्देश दिए कि ग्रामीण क्षेत्रों में तालाब (जल संरचना) के अधिक से अधिक कार्य शुरू करें, जिससे श्रमिकों को रोजगार प्राप्त होगा, वहीं तालाबों में वर्षा का अधिक से अधिक पानी संग्रहण होगा, जिससे जल स्तर में भी वृद्धि होगी। उन्होंने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि जो हैंडपंप एवं नल जल योजनायें स्वीकृत हो उनके खनन की कार्रवाई भी त्वरित करें तथा ऐसे हैंडपंप जिनका जल स्तर ठीक है लेकिन किसी कारण से बंद है उन्हें मरम्मत कर उपयोगी बनाया जाए।
    उन्होंने कहा कि दोनों संभाग मं समर्थन मूल्य पर गेहूँ की खरीदी गत वर्ष की अपेक्षा अधिक है। गेहूँ परिवहन में गति लाएं। कोविड-19 की संक्रमण को रोकने हेतु बेहतर कार्य किया गया है। ग्वालिर एवं चंबल संभाग के सभी जिलों के कलेक्टरों द्वारा बताया कि बाढ़ नियंत्रण की बैठक आयोजित की जा चुकी है। बाढ एवं अतिवृष्टि से निपटने हेतु सभी तैयारियां कर ली गई हैं। ऐसे गांव एवं स्थान जहां बाढ़ आने की संभावना हो सकती है उन्हें चिन्हित कर लिया गया है।
    मुरैना एनआईसी कक्ष में कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास, पुलिस अधीक्षक डॉ. असित यादव, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री तरूण भटनागर, संयुक्त कलेक्टर श्री एलके पाण्डे, होमगार्ड एवं सिंचाई विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।
    वीसी में कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास ने कहा कि बाढ़ नियंत्रण के संबंध में बैठक 8 मई को कर ली गई थी। बाढ़ के संबंध में आवश्यक निर्देश कम्यूनिकेशन प्लान, बाढ़ के दौरान आवश्यक सामग्री तैयार रखने तथा जो सामग्री अनउपलब्ध है। उसका नाम अंकित करके अनुमानित बजट का प्रस्ताव शासन को भेज दिया है। बजट प्राप्त होने पर सामग्री जैम से खरीद ली जावेगी। जिले में गोताखोरों को चिन्हित कर लिया है, उनके मोबाइल नम्बर भी सूची में अंकित कर लिये गये है। अधिकारियों एवं अधीनस्थ कर्मचारियों के मोबाइल नम्बर की सूची भी तैयार कर ली गई है।  
    श्योपुर एनआईसी कक्ष में कलेक्टर श्री राकेश कुमार श्रीवास्तव ने बाढ़ के संबंध में की गई तैयारियों से अवगत कराया कि श्योपुर जिले के अन्तर्गत डेम एवं नदियों में बाढ़ आने के कारण प्रभावित गांवों की सूची तैयार कर ली गई है। उन गांवों के सचिवों के मोबाइल नम्बर एकत्रित कर लिये गये है। जिससे उन्हें बाढ़ के संबंध में समय-समय पर अवगत कराया जा सके।
(38 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer