समाचार
|| निर्वाचन कार्य के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का करें पालन- कलेक्टर || स्वीकृत निर्माण कार्यो को शीघ्र प्रारंभ करने के कलेक्टर ने दिए निर्देश || ग्रामीण क्षेत्रों में आने वाले प्रवासी लोगों को अनिवार्य रूप से होम क्वारेंटाईन करानें के कलेक्टर ने दिए निर्देश || कलेक्टर द्वारा निर्माणाधीन कन्या शिक्षा परिसर उमरिया का निरीक्षण || मास्क न पहनने वाले व्यक्तियों के लिए होगा "रोको-टोको" कार्यक्रम || जिले में अभी तक 228.2 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज || कोरोना की आज 188 रिपोर्ट प्राप्त || आधार सीडिंग का कार्य प्राथमिकता से करें- कलेक्टर || 15 मई के बाद प्रदेश के बाहर व इंदौर, उज्जैन व भोपाल से जिले में आये दो हजार 205 व्यक्ति || सर्दी- खांसी के 46 हजार 651 मरीजों की हुई मेडिकल जांच
अन्य ख़बरें
सभी दंत क्लिनिक्स को निर्धारित शर्तों पर खोले जाने की अनुमति
कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने जारी किये आदेश
इन्दौर | 29-मई-2020
              विभिन्न एहतियाती उपायों का पालन करते हुये नागरिकों की सुविधा के दृष्टिगत दंत बीमारियों  से पीड़ित जनता की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए जिले के समस्त रजिस्टर्ड दंत चिकित्सकों के रजिस्टर्ड दंत क्लिनिक्स को निर्धारित शर्तों के अधीन खोले जाने की अनुमति प्रदान की गयी है। इस संबंध में कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री मनीष सिंह द्वारा आदेश जारी कर दिये गये हैं। जारी आदेश में तय की गयी शर्तों और दिशा-निर्देशों, नियमों का सभी को पालन करना जरुरी होगा।

 कंटेनमेंट एरिया में कोई भी क्लिनिक नहीं खुलेगी

            सभी दंत चिकित्सकों एवं क्लीनिक संचालकों को भारतीय दंत परिषद द्वारा गत 7 मई, 2020 को जारी एडवाईजरी तथा आज जारी किये गये आदेश में उल्लेखित शर्तों के अनुरूप ही क्लीनिक संचालन की अनुमति दी गयी है। जारी आदेश के अनुसार कंटेनमेंट एरिया में कोई भी क्लिनिक नहीं खुलेगी। यदि क्लिनिक का कोई कर्मचारी कंटेनमेंट एरिया में रहता हो तो उसे क्लिनिक में कार्य करने की अनुमति नहीं होगी। सभी डॉक्टर्स कोविड-19 से सुरक्षा हेतु समय-समय पर जारी गाईड लाईन का पालन सुनिश्चित करेंगे तथा व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण जैसे-थर्मल गन, ट्रिपल सर्जिकल मॉस्क, फेस शील्ड, हैंड ग्लब्स, सेनेटाईजर आदि का नियमित रूप से उपयोग करेंगे। यथासंभव मरीजों को पूर्व अपार्इंटमेंट के आधार पर ही क्लिनिक में आने की अनुमति प्रदान की जायेगी। किसी भी पेशेंट के क्लिनिक पर आने पर सर्वप्रथम थर्मल गन से उसका तापमान तथा पल्स ऑक्सीमीटर से उसका ऑक्सीजन सेच्युरेशन ज्ञात करना होगा तथा पूर्ण संतुष्टि के उपरांत ही सामान्य उपचार प्रारंभ करना होगा।

 एरोसोल बनाने वाली क्रियाओं जैसे नेबुलाईजर आदि का उपयोग प्रतिबंधित

            यह सुनिश्चित करना होगा कि क्लिनिक के वेटिंग रुम में दो-दो मीटर मान से ही दूरी रहे। यथासंभव क्लिनिक में ए.सी. का उपयोग नहीं किया जाये। अत्यावश्यक होने की स्थिति में ही 25 से 27 डिग्री तापमान तथा 40 से 7 डिग्री हिम्युडिटी पर ए.सी. चलाया जाये तथा साथ ही  यह भी सुनिश्चित करे कि ए.सी. का यूनिट डॉक्टर की कुर्सी के पीछे हो। क्लिनिक की खिड़कियाँ खोलकर रखें। एरोसोल बनाने वाली क्रियाओं जैसे नेबुलाईजर आदि का उपयोग न करें। क्लिनिक के वेटिंग रुम में किताबे, खिलौने तथा अन्य अनावश्यक अनुपयोगी सामग्री न रखें।

            आदेश में निर्देश दिये गये हैं कि क्लिनिक की साफ-सफाई तथा विसंक्रमण आदि का विशेष ध्यान रखा जाये। इस हेतु एक प्रतिशत सोडियम हाईपोक्लोरेट या 70 प्रतिशत अल्कोहल का उपयोग उपयुक्त होगा। संक्रमित अपशिष्ट निपटान के लिये एक लीकप्रूफ थैली का उपयोग करें तथा पूर्व में तयशुदा एजेंसी को ही सौंपे। क्लिनिक के फ्लोर एवं टायलेट को दिन में दो बार अनिवार्यत: साफ कराएँ। उपचार के दौरान उपयोग होने वाली सामग्री जैसे पेशेंट बेड, टेबल, बी.पी. इन्स्ट्रूमेंट, स्टेथेस्कोप आदि की सफाई का विशेष ध्यान रखें। अन्य उपयोगी वस्तुएँ जैसे कॉलबेल,बिजली के स्वीच, रेलिंग, दरवाजे के हेंडल आदि को समय-समय पर सेनेटाईज करते रहें।

 हर बार लिखना होगा नया प्रिस्केप्शन

            मरीज के पुराने कागजों एवं रिपोर्ट को हाथ न लगायें तथा हर बार नवीन प्रिस्केप्शन लिखे। वेटिंग रूम में एक पोस्टर लगाया जाये जिसमें कोविड-19 से संबंधित सुरक्षा उपायों का विस्तृत उल्लेख हो। क्लिनिक के ओ.पी.डी. का समय यथासंभव कम रखें। सायं 6 बजे के पूर्व क्लिनिक को बंद करना सुनिश्चित करें। सभी डॉक्टर एवं क्लिनिक संचालकों द्वारा प्रशासन द्वारा तैयार किए गए एक एप डाउनलोड कर उसमें पंजीयन कराना अनिवार्य रहेगा। इस लिंक का प्रशिक्षण 28 मई, 2020 को सायं 7 से 8 बजे के मध्य नेहरु स्टेडियम में दिया जा चुका है। निर्धारित लिंक https://dashboard.covidindore.com/login में केवल उन मरीजों का विवरण अंकित करना अनिवार्य होगा, जिनका ऑक्सीजन  सेच्युरेशन 95 प्रतिशत से कम हो एवं सर्दी, खाँसी, बुखार के लक्षण हो।

 सर्दी,खाँसी, बुखार के मरीजों को फीवर क्लीनिक भेजें

            सभी क्लीनिक संचालकों को निर्देश दिये गये हैं कि सर्दी,खाँसी, बुखार तथा ऐसे मरीज जिनका ऑक्सीजन सेच्युरेशन 95 प्रतिशत से कम है, को अपने क्लीनिक पर नहीं देखें तथा निकटतम फीवर क्लीनिक पर भेजें। ऐसे मरीजों का विवरण ऐप में भी अंकित करें।

            चिकित्सकों को यह निर्देशित किया गया है कि वे चिकित्सक जिनकी उम्र 60 वर्ष से अधिक हो तथा को-मोर्बीनिटी हैं तो उन्हें यह सलाह दी जाती है कि वे अपना दो माह तक क्लिनिक बंद रखें तथा घर से ही अपने मरीजों को फोन पर परामर्श दें।

 मिलेगा प्रधानमंत्री कोविड-19 बीमा योजना का लाभ

             निजी क्लिनिक वाले चिकित्सकों को  यह भी अनुमति दी गयी  है कि वे अपने मरीजों को देखने के  लिये उनके घरों में जा सकते हैं। यह उपयुक्त होगा कि क्लिनिक के बाहर एक कर्मचारी की ड्युटी लगा दी जाये, जो सभी पेशेंट से आवश्यक जानकारी प्राप्त कर उनके लक्षण पृथक से नोट कर ले। क्लिनिक में आने वाला कोई मरीज यदि भविष्य में कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है, तो क्लिनिक को एक दिन बंद कर पूर्णत: सेनेटाईज करने के उपरांत ही पुन: प्रारंभ करें। यदि क्लिनिक का कोई कर्मचारी अस्वस्थ होता है, तो उसकी ड्युटी क्लिनिक में न लगाई जाये। सभी डॉक्टर्स, क्लिनिक संचालकों तथा उनके कर्मचारियों को यथा आवश्यक प्रधानमंत्री कोविड-19 बीमा योजना का लाभ दिया जायेगा।
 
(45 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer