समाचार
|| आज से राजस्व न्यायालय का कार्य पुनः प्रारंभ करने के कलेक्टर ने दिये निर्देश || कोविड-19 मे जारी प्रोटोकाल का पालन नही करने पर अब संबंधित को कोरोना वॉलिंटियर्स के रूप करनी होगी ड्यूटी || कोविड की एसओपी का पालन कराने के लिए अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई || आज एक पॉजिटिव मरीज मिला || किल कोरोना अभियान : छठवें दिन 48 हजार 215 घरों के 2 लाख 47हजार व्यक्तियों के स्वास्थ्य का हुआ सर्वे || कोरोना से स्‍वस्‍थ हुये दो व्‍यक्ति डिस्‍चार्ज || कलेक्‍टर श्री यादव ने दसवीं कक्षा की प्रावीण्‍य सूची में शामिल सभी छात्रों को किया सम्‍मानित || जिले विक्‍टोरिया अस्‍पताल के कूलरों एवं पानी की टंकियों में की गई लार्वा की जांच || आई.टी.आई. में प्रवेश के लिए 19 जुलाई तक रजिस्ट्रेशन || राज्यमंत्री श्री कावरे का भ्रमण कार्यक्रम
अन्य ख़बरें
प्रदेश में संचालित हो जागरूकता अभियान
कोरोना नियंत्रण की जंग को हर हालत में जीतना है - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मन्दसौर | 02-जून-2020
       मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना नियंत्रण के प्रयासों में निरंतर मिल रही कामयाबी के बाद भी पूरे प्रदेश में रोग नियंत्रण के लिये पूरी सावधानी रखने की आवश्यकता है। कोरोना से जंग को हर हालत में जीतना है। इस संबंध में जागरूकता अभियान का संचालन पूरे प्रदेश में किया जाये। इसमें एनसीसी, एनएसएस, जन अभियान परिषद और कम्युनिटी लीडर्स को शामिल किया जाये। एक ऐसी फौज तैयार हो जो लोगों को कोरोना वायरस से बचाव के सभी उपायों की सरल तरीके से जानकारी देते हुये जागरूक करें। जून के महीने में निरंतर जागरूकता के लिये भी सब्जी विक्रेताओं से लेकर अन्य सभी दुकानदारों को शिक्षित और जागरूक बनाने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में किसी भी स्थान पर लापरवाही बरतने वाले दुकानदारों की दुकान सील की जाये। इस संबंध में दुकानदार स्वयं सजग रहकर दुकान एवं बाजार क्षेत्र को सेनेटाइज करने में भी सहयोग दें।
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रालय में प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के प्रयासों की समीक्षा करते हुये कहा कि कोरोना ई-परामर्श सेवा को और अधिक लोकप्रिय बनाया जाये। आयुर्वेदिक काढ़े की उपलब्धता सुनिश्चित करवाई जाये। इसे बड़ी संख्या में नागरिकों तक नि:शुल्क वितरित किया गया है। शरीर को रोगों से लड़ने और वायरस से बचाव के लिये सक्षम बनाने में त्रिकटु चूर्ण और काढ़े का विशेष महत्व है, इसे सशुल्क उपलब्ध करवाने पर भी विचार किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भोपाल के चिरायु अस्पताल से 1000 से अधिक रोगियों का स्वस्थ होकर डिस्चार्ज होना एक उपलब्धि है। देश में बहुत कम चिकित्सा संस्थान इतने बेहतर कार्य कर पाये हैं। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव रोगियों के रिकवर होने की दर काफी बढ़ी है। मध्यप्रदेश में रिकवरी रेट दूसरे क्रम पर है। इसके बाद भी प्रत्येक रोगी के उपचार के साथ ही संदिग्ध रोगियों की देखरेख भी गंभीरतापूर्वक की जाये। प्रदेश में मृत्यु दर भी अन्य राज्यों से कम है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में इस वायरस से मृत्यु नहीं होना चाहिये।
    बैठक में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आयुर्वेदिक काढ़े को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के लिये आपूर्ति व्यवस्था लागू करने का सुझाव दिया। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस ने फीवर क्लीनिक और अन्य उपायों द्वारा जिला स्तर पर सतत समीक्षा करने को कहा। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान ने इंदौर से वीडियो कान्फ्रेंसिंग से भागीदारी करते हुये वायरस नियंत्रण की जानकारी दी। बैठक में आयुक्त स्वास्थ्य श्री फैज अहमद किदवई ने खरगौन एवं छतरपुर जिलों में कोरोना नियंत्रण के साथ ही अन्य जिलों में रोगियों के स्वास्थ्य में सुधार और अपनाये जा रहे एहतियाती उपायों का विस्तृत विवरण दिया। बैठक में पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, अपर सचिव मुख्यमंत्री श्री ओमप्रकाश श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।
मध्यप्रदेश का रिकवरी रेट 60.4 है, जो देश में दूसरे क्रम पर सबसे अच्छा
    समीक्षा में बैठक में जानकारी दी गई कि मध्यप्रदेश में रिकवरी रेट 60.4 है, जो राजस्थान के 68.3 के बाद देश में दूसरे क्रम पर बेहतर है। यह देश के रिकवरी रेट से 12.3 प्रतिशत अधिक है। गत 13 अप्रैल को प्रदेश में 9 प्रतिशत रिकवरी रेट ही था, जो डेढ़ माह में 60 प्रतिशत तक पहुंचा है। देश में रिकवरी रेट के मामले में उत्तरप्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु और महाराष्ट्र मध्यप्रदेश से पीछे हैं, जो क्रमश: 59.9, 59.1, 57.1 और 53.4 के साथ तीसरे से लेकर छटवें स्थान पर आते हैं। देश का औसत रिकवरी रेट 48.1 है। प्रदेश में 8283 प्रकरणों में से एक्टिव केसेस 2922 हैं। इनमें 5003 रिकवर केसेस हैं। प्रदेश में इस समय करीब 6000 टेस्ट प्रतिदिन की क्षमता विकसित हो गई है। रविवार को प्रदेश में 6023 टेस्ट हुये जो एक दिन में हुये सर्वाधिक टेस्ट हैं। प्रदेश में 21 लैब यह कार्य कर रही हैं। इंदौर की स्थिति में सुधार परिलक्षित हुआ है। आई.सी.यू. और बिस्तर क्षमता की उपलब्ध व्यवस्था का लगभग एक तिहाई उपयोग करने की ही जरूरत पड़ रही है। प्रदेश में ऐसे जिलों की संख्या चार है जहाँ गत 21 दिन में कोई पॉजिटिव केस नहीं मिला है। अभी प्रदेश में 958 कंटेनमेंट क्षेत्र हैं। प्रदेश में 1149 मोबाइल मेडिकल यूनिट और 3670 सर्वे दल कार्य कर रहे हैं। फीवर क्लीनिक 1197 हैं।
कोरोना ई-परामर्श सेवा
    कोरोना ई-परामर्श सेवा के अंतर्गत 2407 कॉल्स आये थे। टोल फ्री नंबर 104 से कोरोना ई-परामर्श सेवा को भी जोड़ा गया है। इसका उपयोग बढ़ाने पर ध्यान दिया जाएगा। प्रदेश में टेलीमेडिसीन सेवा को लोकप्रिय बनाया जाएगा। इसके लिय की गई व्यवस्था का लाभ अधिक लोग लें, इसके लिये टेली कंसलटेशन से अधिक विशेषज्ञों को जोड़ा जायेगा। वर्तमान में ई-संजीवनी ओपीडी के अंतर्गत 283 टेली कंसलटेशन दिए जा चुके हैं।
 
(35 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer