समाचार
|| अपराधिक घटनाओं पर तत्काल नियंत्रण हो || कलेक्टर ने की नागरिकों से गुरु पूर्णिमा पर्व घर में मनाने की अपील || पीड़ित मानवता की सेवा की बढ़ाई जायेगी गतिविधियां || कोरोना संक्रमित पाए गए व्यक्तियों के निवास स्थल कंटेंटमेंट क्षेत्र घोषित || चौथे दिन 43 हजार 717 घरों के 2 लाख से अधिक व्यक्तियों के स्वास्थ्य का हुआ सर्वे "किल कोरोना अभियान" || कलेक्टर ने 10 बिल्डरों के विरूद्ध प्रकरणों में किया अभियोजन की कार्यवाही का आदेश पारित || कोरोना से स्वस्थ होने पर 6 व्यक्ति डिस्चार्ज. || पौधारोपण कार्यक्रम में सहभागी बनने के इच्छुक व्यक्ति व संस्थाएं करें ऑनलाइन आवेदन || गत सत्र के अतिथि विद्वान ही नए सत्र के लिए आमंत्रित होगें || वार्डों के आरक्षण की कार्यवाही जल्द करने के निर्देश
अन्य ख़बरें
किसानों को खरीफ फसलों के लिये सामान्य सलाह
-
छिन्दवाड़ा | 02-जून-2020
 
       भारत सरकार के भारतीय मौसम विभाग पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय से संबध्द आंचलिक कृषि अनुसंधान केंद्र छिन्दवाड़ा द्वारा किसानों को खरीफ फसलों के लिये सामान्य सलाह दी गई है कि खरीफ फसलों की बोनी के समय आवश्यक आदान जैसे बीज, उर्वरक, खरपतवारनाशक, फफूंदनाशक, जैविक कल्चर आदि का क्रय कर उपलब्धता सुनिश्चित करें । वर्षा के आगमन के बाद मध्य जून से जुलाई के प्रथम सप्ताह में बोनी का उपयुक्त समय के अनुसार 100 मि.मी./4 इंच वर्षा होने के बाद ही बुआई करें, क्योंकि मानसून पूर्व वर्षा के आधार पर बोनी करने से सूखे का लंबा अंतराल रहने पर फसल को नुकसान हो सकता है। किसानों को सलाह दी गई है कि जिन स्थानों पर ग्रीष्मकालीन मूंग और उड़द की फसल पक गई है, उसे काटकर सुरक्षित स्थानों पर भंडारित करें ।

      इसी प्रकार किसानों को सलाह दी गई है कि भूमि के किस्मों के अनुसार संकर मक्का का चयन करें तथा शासकीय अनुसंधान केन्द्र द्वारा विकसित जे.एम.-216, जे.एम.-218, एच.क्यू.पी.एम.-वन, एच.क्यू.पी.एम.-5 व डी.एच.एम.-117 उन्नत जातियों के बीज की व्यवस्था कर बीज उपचारित करके ही बोनी करें । सोयाबीन की फसल बुआई के लिये खेतों के अंतिम जुताई के पूर्व अनुशंसित गोबर की खाद 10 टन प्रति हैक्टेयर या मुर्गी की खाद 2.5 टन प्रति हैक्टेयर की दर से खेत में डालकर अच्छी तरह मिट्टी में मिला लें और सोयाबीन की बीमारी से प्रतिरोधक क्षमता वाली किस्मों जे.एस.95-60, जे.एस.97-52, जे.एस.20-29, आर.बी.एस.2001-4, जे.एस.20-34, जे.एस.20-69, जे.एस.20-94, जे.एस.20-98, एन.आर.सी.86 आदि की बुआई करें । उपलब्ध सोयाबीन बीज का अंकुरण परीक्षण अवश्य करें और बोनी के लिये आवश्यक आदान जैसे उर्वरक, खरपतवारनाशक, फफूंदनाशक, जैविक कल्चर आदि का क्रय कर उपलब्धता सुनिश्चित करें। पीला मोजेक बीमारी की रोकथाम के लिये अनुशंसित कीटनाशक थायोमिथाक्सम 30 एफ.एस. 10 मि.ली.प्रति किलोग्राम या इमिडाक्लोप्रिड 48 एफ.एस. 1.2 मि.ली. प्रति किलोग्राम से बीज का उपचार करें । किसानों को सलाह दी गई है कि गन्ने की फसल घुटने की ऊंचाई तक आ-जाने पर निराई-गुड़ाई और सिंचाई के बाद संस्तुत मात्रा में खाद्य दें और शरदकालीन गन्ने में आधी गुड़ाई करें। गन्ने की फसल में वर्षा प्रारंभ होने के पूर्व सिंचाई और खड़ी फसल में नत्रजन की अंतिम मात्रा का प्रयोग करें और आखिरी मिट्टी चढ़ायें ।  
 
(32 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer