समाचार
|| कोरोना से स्वस्थ होने पर आज दस लोगों को दी गई छुट्टी || कलेक्टर ने विराम को सफल बनाने में सहयोग के लिये नागरिकों का आभार माना || किल कोरोना अभियान : बारहवें दिन 11 हजार घरों के 59 हजार व्यक्तियों के स्वास्थ्य का हुआ सर्वे || आज 5 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई || आज की नॉवल कोरोना वायरस हेल्थ बुलेटिन || कैबिनेट मंत्री श्री डंग 13 जुलाई को सुवासरा से भोपाल प्रस्थान करेंगे || जिले के लोग कोरोना से बचाव के लिए सावधानी बरतें, लापरवाही खतरनाक हो सकती है - कलेक्टर श्री लवानिया || स्व-सहायता समूह की महिलाएँ संचालित कर रहीं नर्सरी || छोटे व्यवसायियों को आत्मनिर्भर बनाने में मध्यप्रदेश अव्वल || जिले में रोको-टोको कार्यक्रम हेतु नोडल अधिकारी नियुक्त
अन्य ख़बरें
कन्टेन्मेन्ट जोन को छोड़कर मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारा आदि में गतिविधियॉ 8 जून से प्रारम्भ होंगी - कलेक्टर श्रीमती दास
-
मुरैना | 06-जून-2020
    भारत सरकार गृह मामलों के मंत्रालय आदेशानुसार कन्टेन्मेन्ट जोन को छोड़कर मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारा आदि गतिविधियॉ 8 जून 2020 से प्रारम्भ होंगी। इसमें गाइडलाइन के अनुसार कोविड-19 से बचने के लिये एतिहात बरतनें होंगे। यह बात कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्रीमती प्रियंका दास ने शनिवार को कलेक्ट्रेट सभागार मुरैना में जनप्रतिनिधिओं, धर्मगुरूओं, अधिकारियों से कही। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक डॉ. असित यादव, पूर्व विधायक श्री रघुराज सिंह कंषाना, अपर कलेक्टर श्री एसके मिश्रा, जिले के समस्त एसडीएम, विभिन्न धर्मगुरू, विभिन्न दलों के प्रतिनिधि, जिलाधिकारी आदि उपस्थित थे। 
    कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्रीमती दास ने कहा कि शासन की गाइडलाइन अनुसार चरणबद्ध तरीके से सामाजिक व धार्मिक स्थल की गतिविधियां 8 जून से प्रारंभ करने का निर्णय सभी की सहमति से लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुरैना जिले के लिए आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के अधीन जारी दिशा-निर्देशों का पालन सुनिश्चित कराते हुए इस क्रम में प्राप्त नवीन दिशा-निर्देशों के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए मुरैना जिले में दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 में निहित शक्तियों के अधीन निम्न उद्देष्यों की पूर्ति हेतु कन्टेन्मेन्ट जोन को छोड़कर यथा संसोधित गतिविधियां संचालित होंगी। जिसमें धार्मिक प्रतिष्ठानों, पूजा स्थल पर गतिविधियॉ शर्तो के अधीन की जा सकेगी। जिसमें 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं एवं 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे तथा रोगी व्यक्तियों का धार्मिक प्रतिष्ठानों में प्रवेश वर्जित रहेगा। धार्मिक प्रतिष्ठानों पर दर्शनार्थियों के मध्य 06 फीट की दूरी रखना अनिवार्य होगा। दर्शनार्थियों को चेहरे पर मास्क, फेस कवर तथा सेनीटाईज्ड़ करना अनिवार्य होगा।देखने में गंदे न होने पर भी साबुन एवं पानी से बार-बार 40-60 सेकंड तक हाथ धोये जायें, अल्कोहल युक्त सेनिटाइजर से (कम से कम 20 सेकंड तक) हार्थो को सेनिटाइज करने की सुविधा उपलब्ध कराई जावें।  छींकते, खॉसते समय मुॅह को रूमाल, टिश्यू पेपर, कोहनी से ढ़ांके। स्वयं के स्वास्थ्य की निगरानी की जावें, बीमारी के लक्षण होने पर तत्काल जिले की हेल्पलाईन पर सम्पर्क किया जावें। थूकना सर्वथा वर्जित रहेगा। आरोग्य सेतु एप का उपयोग कराया जावें।  प्रवेश द्वार पर हैण्ड हायजीन के लिए सेनेटाइजर डिस्पेन्सर एवं थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था अनिवार्य रूप से की जावें। लक्षण रहित व्यक्तियों (सर्दी, खॉसी, बुखार आदि न होने पर) को ही परिसर में प्रवेश की अनुमति दी जावें। मास्क, फेस कवर पहनने पर ही प्रवेष की अनुमति दी जावें। जूते, चप्पल स्वयं के वाहन में खोल कर आने की समझाईश दी जावें। आवश्यक होने पर जूते, चप्पल प्रत्येक व्यक्ति, परिवार के लिए निर्दिश्ट पृथक स्थन पर स्वयं द्वारा रखे जाएं। परिसर के बाहर एवं पार्किंग एरिया में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सुनिश्चित कराना होगा। परिसर के अन्दर अथवा बाहर संचालित दुकान, स्टॉल, कैफेटेेरिया में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन 24ग्7 सुनिश्चित करना होगा। सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने के लिए कतार की लाईन में गोले के निशान बनवाना अनिवार्य होगा। संभव होने पर प्रवेश एवं निकास द्वार पृथक रखें। परिसर में प्रवेश के पूर्व आगन्तुकों द्वारा साबुन एवं पानी से हाथ एवं पैर धोना सुनिश्चित किया जावें। वातानुकूलन, ए.सी. के लिए सी.पी.डब्ल्यू.डी. द्वारा जारी किए गए निर्देशों का पालन किया जावें। ए.सी. का तापमान 24˚ व 30˚ हो। रिलेटिव हयूमिडिटी 40-70 प्रतिशत हो। ताजी हवा का आवागमन एवं क्रॉस वेंटीलेशन पर्याप्त होना सुनिश्चित करें। मूर्ति, धार्मिक ग्रंथ आदि को स्पर्श करने की अनुमति नहीं रहेगी। धार्मिक प्रतिष्ठानों में प्रसाद, चरमामृत, छिड़काव आदि का वितरण वर्जित रहेगा। आरती की थाली, मूर्ति आदि पर नगद के रूप में चढ़ावा वर्जित रहेगा तथा ट्रांसफर ऑफ मनी को प्राथमिकता दी जावें अथवा दान पेटी में दान लिया जावें। धार्मिक प्रतिष्ठान में फूल, नारियल, अगरबत्ती, चादर, चूनरी आदि चढ़ाना प्रतिबंधित रहेगा। मंदिर में घण्टी बजाना प्रतिबंधित रहेगा। रेलिंग को स्पर्श करने से बचने की सलाह दी जावें। अधिक भीड़, बड़ी संख्या में व्यक्तियों के एकत्रित होने पर प्रतिबंध रहेगा। कोविड़-19 संक्रमण के परिपेक्ष्य में प्रि-रेकॉर्डेड भजन, गीत बजाए जाएं। कॉयर, सिंगिंग, गुरूवाणी गाने की अनुमति वर्जित रहेगी। यदि कोई नया कन्टेन्मेन्ट क्षेत्र भविष्य में घोषित होता है तो वहॉ उक्त छूटें स्वयमेव समाप्त हो जावेगी। 
         इन निर्देशों के उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 51 से धारा 60 एवं भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता 188 के अधीन पृथक-पृथक कार्यवाही की जा सकेगी। 
(37 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer