समाचार
|| कोविड-19 की उपचार दरों के संबंध में हाइकोर्ट ने दिये सख्त निर्देश || सफाई कर्मचारियों के हित में योजना बनाने समिति गठित || नागरिकों को मूलभूत सुविधाएं प्रदान करना ही स्मार्ट सिटी का दायित्व है-मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह || कोरोना से बचाव के लिये मास्क ही है सबसे प्रभावी साधन || किसानों को आत्मनिर्भरता की ओर ले जाएगी मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना || किसानों को राहत सहयोग और प्रोत्साहन निरंतर जारी रहेगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान || शनिवार को आयोजित हुई स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत || भवन संनिर्माण श्रमिकों के पंजीयन के लिये 2 अक्टूबर से चलेगा अभियान || खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 के तहत किसानों का पंजीयन 15 अक्टूबर तक || 10 उद्यानिकी कृषकों को मिली 30 हजार रुपये की फसल बीमा क्लेम
अन्य ख़बरें
दीदी कैफे का संचालन कर स्व-सहायता समूह की महिलाओं की बदली तकदीर (कहानी सच्ची है)
-
मुरैना | 17-जून-2020
      मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के मार्गदर्शन में मां शीतला स्व-सहायता समूह 89 से जुड़ी 12 महिलायें आत्मनिर्भर बन गई है। यह सपना नहीं, हकीकत है। ग्राम नूरावाद की वे गरीब महिलाओं की जो घर-गृहस्थी के छोटे-बड़े खर्च को चलाने के लिये साहुकार से पैसा लेकर गुजारा करती थी। आज उनकी तकदीर और तस्वीर दोंनो बदल गई है।
    समूह की अध्यक्ष श्रीमती द्रोपती बाथम ने बताया कि पारिवारिक स्थिति अच्छी नहीं थी, इस कारण मन में तरह-तरह के ख्याल आते थे कि क्यों न कुछ रोजगार खोलकर पति के साथ सहयोगी बनूं। मुझे आजीविका मिशन के माध्यम से मार्गदर्शन मिला तो मेरे द्वारा 12 सदस्यीय ’’मां शीतला स्व-सहायता समूह 89’’ का गठन किया। धीरे-धीरे 10 रूपये की रूई लाकर दीपक-बाती बनाई। जिससे 100 रूपये की आय होना शुरू हुई। कोरोना वायरस के दौरान 1 लाख 50 हजार मास्क बनाये। उन्हें बेचकर समूह की महिलाओं को 90 हजार रूपये की आय प्राप्त हुई।
    मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत द्वारा मां शीतला स्व- सहायता समूह 89 के कार्यों को देखकर जिला पंचायत कार्यालय मुरैना में दीदी कैफे (कैन्टीन) संचालन करने हेतु आदेशित किया। स्व सहायता समूह द्वारा 15 हजार रूपये का ऋण लेकर कच्ची सामग्री खरीदकर समूह की अध्यक्ष श्रीमती द्रोपती बाथम ने दीदी कैफे (कैन्टीन) का संचालन किया। समूह को प्रतिदिन 300-400 रूपये की आय होना शुरू हो गई। समूह की अध्यक्ष श्रीमती द्रोपती बाथम ने बताया कि गठन से पहले ये गरीब परिवार की महिलाएं अपनी आवश्यकताओं की पूर्ती के लिये गांव के साहूकारो से कर्ज लेकर अपनी जीवन यापन कर रही थी। समूह में रेखा, मीना, भारती, रामवती, बादामी, रानी, सीमा, हसना बानो, सीमा बानो, मनीषा जाटव आदि सभी महिलाओं की तकदीर बदल गई और अपने-अपने पतियों के साथ घर-गृहस्थी के खर्च में सहयोगी बन गई है।        
अध्यक्ष द्रोपती बाथम का मोबा. नं. 7489550293       
डी.डी.शाक्यवार  
(101 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer