समाचार
|| आवास योजना समस्या संबंधी निराकरण शिविर का आज अंतिम दिवस || मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान से जिले के 02 जरूरतमंद मरीजों को उपचार के लिए 90 हजार रूपये की सहायता राशि जारी || निर्वाचन सामग्री क्रय करने के लिये सीलबंद निविदायें आमंत्रित || ग्राम झिलमिली के मेसर्स वर्मा कृषि केंद्र का उर्वरक लायसेंस निरस्त || प्रकरण समय पर भेजे जायें- कलेक्टर श्री राठी || किल कोरोना अभियान का जायजा लेने चिकित्सा शिक्षा आयुक्त पहुंचे ग्राम कुमेरिया || एक अधीक्षिका को कारण बताओ सूचना पत्र जारी || ग्राम माचागोरा के मेसर्स साक्षी कृषि केंद्र का उर्वरक लायसेंस निरस्त || किल कोरोना अभियान दमोह को कोरोना मुक्त करने में सफल होगा- चिकित्सा शिक्षा आयुक्त श्री निशांत वरबड़े || नगरीय निकायों और पंचायतों की मतदाता-सूची पर दावे-आपत्तियाँ अब 25 जुलाई तक
अन्य ख़बरें
खरीफ में रामतिल फसल एक बेहतर विकल्प
मवेशी एवं जंगली जानवरो के खाने का डर नही एवं सभी प्रकार की मृदा एवं वातावरण के लिए रामतिल उपयुक्त- उप संचालक कृषि
होशंगाबाद | 18-जून-2020
    उप संचालक कृषि जितेन्द्र सिंह एवं कृषि वैज्ञानिको के अनुसार रामतिल फसल किसान भाईयो के लिए उपयोगी साबित हो सकती है। किसान भाई कम लागत में अधिक मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं।
    उप संचालक कृषि ने विगत वर्ष का अनुभव साझा करते हुए बताया कि विकासखंड बनखेड़ी के ग्राम गुंदरई के किसान दीपक, दिनेश, हेमंत महेश्वरी ने नवाचार कर 250 एकड़ में रामतिल की बोनी की थी इस फसल का तत्समय जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति डॉ.पीके बिसेन, कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिको की टीम, जिला प्रशासन की ओर से कलेक्टर एवं आयुक्त नर्मदापुरम् संभाग द्वारा फसल का अवलोकन किया गया था एवं उनके निर्देशानुसार जिले के किसानो को भी स्थल निरीक्षण कृषि विभाग द्वारा कराया गया था। रामतिल फसल की सभी ने एकमत से सराहना की थी और इसे अपनाने के लिए जिले के किसानो को प्रोत्साहित करने की बात कही थी। यहां यह उल्लेखनीय है कि गत वर्ष अतिवर्षा के कारण अन्य फसलो को जहाँ भारी नुकसान हुआ था वही रामतिल फसल को कुछ भी नुकसान नही हुआ था, गत वर्ष बनखेड़ी विकासखंड में लगभग 2 हजार मिली लीटर वर्षा हुई थी इसके कारण धान फसल को छोड़कर सभी फसले खराब हो गई थी। रामतिल की पैदावार प्रति एकड़ लगभग 3 से 4 Ïक्वटल हुई थी और लगभग 20 से 25 हजार रूपए प्रति एकड़ आमदनी प्राप्त हुई थी।
    उप संचालक कृषि ने उक्त जानकारी देते हुए जिले के किसानो से कहा है कि वे रामतिल फसल को प्रायोगिक तौर पर अपने खेतो में एक बार जरूर ले। इस फसल की यह खासियत है कि इसे किसी भी प्रकार के जानवर नुकसान नही पहुँचाते हैं और इसकी लागत भी अन्य फसलो से कम है। इस फसल की बुवाई 15 जून से 5 जुलाई तक की जा सकती है, 2 किलो बीज प्रति एकड़ के हिसाब से बुवाई करना है। यह सभी प्रकार की मृदा में लगाई जा सकती है किन्तु हल्की मृदा इसके लिए उपर्युक्त है, भारी जमीन होने पर रिज एंड फरो मेथड से बुवाई करे एवं जिन जमीनो में पानी का भराव होता है उन खेतो में न लाये। इस फसल पर कीट एवं बीमारियो का प्रकोप नही के बराबर होता है, इस फसल की औसत उत्पादकता 4 से 5 Ïक्वटल प्रति एकड़ है जिसका समर्थन मूल्य 6700 रूपए प्रति Ïक्वटल है एवं यह फसल 90 से 100 दिवसो में पककर तैयार हो जाती है।
रामतिल फसल का बीज होशंगाबाद जिले में कृषि विभाग के प्रत्येक वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी कार्यालय में 88.50 रूपए प्रतिकिलो की दर से उपलब्ध है। उप संचालक कृषि ने जिले के किसानो से आग्रह किया है कि वे रामतिल फसल को नवीन विकल्प के रूप में अपनाकर जोखिम कम कर अच्छा उत्पादन ले सकते हैं।
 
(21 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer