समाचार
|| ईवीएम मशीनों की एफएलसी का काम प्रारंभ || नगरीय निकायों और पंचायतों की मतदाता सूची पर दावे-आपत्तियां अब 25 जुलाई तक || 111 व्यक्तियों का पल्स ऑक्सीमीटर व थर्मल स्क्रीनिंग कर किया स्वास्थ्य परीक्षण || जिले में औद्योगिक क्षेत्र के विस्तार हेतु उद्योगपतियों ने अपने सुझाव एवं मांग से अवगत कराया || राष्ट्रीय शिक्षक सम्मान के लिये ऑनलाइन आवेदन 11 जुलाई तक आमंत्रित || नौ दिनों में जिले में कुल 85 हजार 353 घर एवं 4 लाख 52 हजार से अधिक परिवारों का सर्वे (किल कोरोना अभियान) || जिला स्तरीय डायग्नोस्टिक टीम का गठन || हरपालपुर का वार्ड क्रमांक 1 कंटेनमेंट एरिया घोषित || कलेक्टर श्री शर्मा ने कंटेनमेंट एरिया मस्जिद गली एवं छावनी का निरीक्षण किया || मस्जिद गली, सराफा बाजार कंटेनमेंट एरिया घोषित
अन्य ख़बरें
बाल विवाह मे सेवा देने पर होगी 2 वर्ष की सजा एवं एक लाख का जुर्माना
-
सीहोर | 25-जून-2020
    लाडो अभियान अंतर्गत गुरुवार को बाल विवाह को रोकने के संबंध में कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस दौरान जानकारी दी गई कि इस वर्ष 29 एवं 30 जून को विवाह हेतु अंतिम शुभ मोहर्त होने के कारण बाल विवाह होने की प्रायिकता अधिक है। इस अवसर पर बाल विवाह को रोकने विकासखण्ड, परियोजना स्तर पर अधिकारी, कर्मचारीयों की ड्यूटी लगाई गई है। साथ ही शासकीय भवनों मंदिरों आदि पर दीवार लेखन किया गया है।
    18 वर्ष से कम उम्र की लड़की एवं 21 वर्ष से कम उम्र के लडके का विवाह बाल विवाह की श्रेणी मे आता है। भारतीय संविधान मे बाल विवाह को दण्डनीय अपराध माना गया है। बाल विवाह निषेध अधिनियम के तहत बाल विवाह कराने वाले माता पिता, भाई बहन, एवं परिवारजन सम्मिलित बाराती, एवं सेवा देने वाले जैसे टेंट हाउस, प्रिन्टर्स, ब्यूटी पार्लर, हलवाई, मेरिज गार्डन, घोड़ी वाले, बैंड बाजे वाले, कैटर्स, धर्मगुरू, पण्डित, समाज के मुखिया, आदि के विरूद्ध कानूनी कार्यवाही की जाने के साथ उन्हे जेल भेजने का प्रावधान भी किया गया है। 
    बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 अंतर्गत 18 साल से कम उम्र की लड़की और 21 साल से कम उम्र का लडका बच्चा होता है। बच्चे का विवाह कराना अपराध है। बाल-विवाह कराने पर व्यक्ति को जमानत नही मिलेगी। बाल विवाह मे दो वर्ष की सजा एवं एक लाख का जुर्माना है। बाल विवाह होने पर कोई भी व्यक्ति इसकी रिपोर्ट पुलिस, बाल विवाह निषेध अधिकारी, प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट और जिला मजिस्ट्रेट को दे सकता है।
    दुष्परिणाम-  जब बच्चों का विवाह होता है तो उनके शरीर और दिमाग दोनो बहुत कमजोर होते है। लड़किया कम उम्र मे गर्भवती हो जाती है। समय से पूर्व बच्चे पैदा होते है जिससे प्रसव के समय शिशु मृत्यू दर अधिक होती है। कम उम्र मे विवाह से षिक्षा के अधिकारों का हनन होता है। बाल विवाह के कारण बच्चे अनपढ और अकुशल रह जाते है। जिससे उन्हे रोजगार नहीं मिलता। दोषियों मे निम्नलिखित शामिल लड़के लडकी के अभिभावक, पादरी पण्डित मौलवी, दोनों तरफ के रिष्तेदार, समस्त सेवा प्रदाता, सामूहिक विवाह समारोह कराने वाले। कार्यक्रम में बाल संरक्षण अधिकारी श्री अनिल पोलाया, परामर्शदाता सुरेश पांचाल, स्वस्थ्य भारत प्रेरक श्री प्रतिक चोकसे, जिला समन्वयक पोषण अभियान मोईजउद्दीन जमाली आदि उपस्थित थे।
 
(14 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer