समाचार
|| कलेक्टर ने कलेक्ट्रेट सहित आस-पास के कार्यालयों के परिसर में करायी गई साफ-सफाई || कलेक्टर ने ब्यौहारी के वार्ड नम्बर-5 में बनाए गए कंटेनमेंट एरिया का किया निरीक्षण || कलेक्टर ने ब्यौहारी बाजार में बिना मास्क के लोगो को किया मास्क वितरित || स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम राज्य स्तर, जिला जनपद पंचायत,पंचायत मुख्यालयों पर होंगे || पशुपालन मंत्री श्री पटेल द्वारा स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ || राज्यमंत्री श्री रामकिशोर कांवरे ने स्वतंत्रता दिवस पर दी बधाई एवं शुभकामनाएँ || मंत्री श्री विश्वास सारंग ने स्वतंत्रता दिवस पर दी बधाई एवं शुभकामनाएँ || महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी ने दी स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ || दो कोरोना योद्धाओं ने कोरोना महामारी से जीती जंग (कहानी सच्ची है) || तकनीकी एवं व्यवसायिक पाठ्यक्रमों में कांउसलिंग 18 अगस्त से प्रारंभ होगी
अन्य ख़बरें
ऑनलाइन शिक्षा से घर ही बने विद्यालय "सफलता की कहानी"
ज्ञान के मंदिर वाट्सएप ग्रुपों व अन्य माध्यमों से जोड़कर विद्यार्थियों को दी जा रही शिक्षा
नरसिंहपुर | 04-जुलाई-2020
 
     कोविड- 19 के संक्रमण से बचाव के लिए जिले में 22 मार्च 2020 से बंद सभी शासकीय व अशासकीय शैक्षणिक संस्थाओं को एक बार फिर 31 जुलाई 2020 तक बंद रखने का निर्णय लिया गया है। इस संबंध में लोक स्वास्थ्य एवं लोक हित में मप्र शासन के स्कूल शिक्षा विभाग ने आदेश भी जारी कर दिये हैं। ऐसी स्थिति में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा 6 जुलाई से हमारा घर हमारा विद्यालय योजना प्रारंभ की जा रही है। जिसके तहत बच्चे घर को ही अपना विद्यालय बना सकते हैं।
वाट्सएप ग्रुपों से जुड़े 35 से 40 प्रतिशत विद्यार्थी
   जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि कोरोना काल में विद्यार्थियों अथवा उनके अभिभावकों को वाट्सएप ग्रुप्स में जोड़कर कक्षा छटवीं से आठवीं और नवमीं से बारहवीं कक्षा तक की ऑनलाइन तैयारी करायी जा रही है, अब तक 35 से 40 प्रतिशत विद्यार्थी इससे जुड़ चुके हैं। साथ ही कक्षा नवमीं से 12 वीं तक की पढ़ाई मप्र दूरदर्शन के माध्यम से करायी जा रही है। जो शैक्षणिक सामग्री वाट्सएप ग्रुप से भेजी जाती है उसी का प्रसारण अलग- अलग वक्त पर दूरदर्शन द्वारा किया जा रहा है। इस शिक्षा व्यवस्था की सतत मॉनिटरिंग भी की जा रही है।
सीबीएसई पाठ्यक्रम भी ऑनलाइन
   सीबीएसई विद्यालयों ने भी अपने विद्यार्थियों को वेबेक्स के माध्यम से ऑनलाइन जोड़कर अध्ययन- अध्यापन शुरू किया है। जिसमें टीचर द्वारा ऑनलाइन मीटिंग आयोजित की जाती है और उसमें लिंक के माध्यम से विद्या‍र्थी ज्वाइन होता जाता है। इस दौरान विद्यार्थियों व शिक्षकों के मध्य आपसी वार्तालाप भी होता है। टीचर द्वारा पुस्तक अथवा कॉपी में लिखित सामग्री को स्क्रीन में शेयर भी किया जाता है। कुल मिलाकर इस ऑनलाइन शिक्षा पद्धति ने घरों को ही विद्यालय बना दिया है।
(41 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2020सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer