समाचार
|| गंभीर बीमारियों से पीडि़त और घर के बुजुर्गों का समय पर उपचार कराएं || अतिरिक्त महानिदेशक जेल श्री राय ने किया केन्द्रीय जेल का निरीक्षण || कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने पर 51व्यक्ति डिस्चार्ज || "सहयोग से सुरक्षा अभियान" 15 अगस्त से || रोडमेप में शामिल सभी क्षेत्रों में होंगे कार्य, जो बनेंगे आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के साक्षी || परिवहन मंत्री श्री राजपूत के आश्वासन के बाद ट्रक आपरेटर्स की हड़ताल समाप्त || रोको-टोको अभियान : 759 व्यक्तियों से वसूला गया 83 हजार रूपये का जुर्माना || बैंक खाता नंबर, ए.टी.एम. नंबर, क्रेडिट एवं डेबिट कार्ड नंबर, पासवर्ड और ओ.टी.पी. की जानकारी किसी को न दें || परिवहन मंत्री श्री राजपूत के आश्वासन के बाद ट्रक आपरेटर्स की हडताल समाप्त || आज 9 पॉजिटिव मरीज मिले
अन्य ख़बरें
राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम 15 जुलाई से होगा शुरू
अब पशुओं के भी बनाये जायेंगें हेल्थ कार्ड
दमोह | 05-जुलाई-2020
            जिले के कलेक्टर तरुण राठी ने पशु पालकों से कहा है राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम जो 15 जुलाई  से 15 अगस्त 2020 तक शुरु होने जा रहा है। पशु पालक निर्धारित अवधि में अपने पशुओं का इलाज आवश्यक रूप से करायें। प्रत्येक पशुपालक अपने पशुओं में टीकाकरण करवाकर इस संक्रामक बीमारी से पशुओं को मुक्त रखने भरपूर लाभ प्राप्त करें।

       पशु चिकित्सा सेवाएं उपसंचालक डॉ डीके विश्वकर्मा ने बताया तैयारी पूर्ण हो गयी है। यह टीकाकरण अभियान डोर टू डोर चलेगा दमोह जिले में 617824 पशुओं में टीकाकरण किया जाना है इसकी ऑनलाइन मॉनिटिंग की व्यवस्था की गयी है।  टीकादृव्य के भण्डारण की कोल्ड चेन की व्यवस्था की गयी है। प्रत्येक टीकाकरण कार्यकर्ता को प्रतिदिन लगभग 75 पशुओं में टीकाकरण, टेंगिंग, हेल्थकार्ड भरने का लक्ष्य रखा गया है। प्रत्येक विकासखण्ड स्तर पर नोडल अधिकारी की नियुक्ति की गयी है। जो प्रतिदिन की रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे।

       उन्होंने बताया खुर वाले पशुओं में गौवंशीय/भैंसवंशीय भेड़ बकरी, सूकर में मुंहपका खुरपका (foot and mouth Disease) रोग का टीका लगाया जायेगा। यह एक विषाणु जनक रोग है, जो खुर वाले पशुओं के लिये संक्रामक है। इसमें पशु के खुर व मुंह में छाले पड़ जाते है। खाना पीना बंदकर देता है तथा उम्र भर कमजोर बना रहता है। संक्रमण होने से पशु की मृत्यु तक हो जाती है।

       इस रोग में पशु एक दम कमजोर हो जाता है तथा पशु की कीमत घट जाती है। यह रोग तेजी से अन्य पशुओं में फैलता है। गौ-भैंस वंशीय पशुओं में यह टीका 4-5 माह की उम्र से लगना शुरु हो जायेगा तथा हर 06 माह की उम्र में लगता रहेगा। टीकाकरण पूर्व पशु की डिवर्मिंग (पेट के कीड़े मारने की दवा) दवा देने से टीकाकरण के अच्छे परिणाम आयेंगें।   उन्होंने कहा टीकाकरण पूर्व पशु के कान में ईयर टैग (12 अंकों का प्लास्टिक टेग) लगाया जावेगा तथा उसको इनॉफ सॉफ्टवेयर में अपलोड होगा तथा पशुपालक को पशु स्वास्थ कार्ड दिया जावेगा जिसमें टीकाकरण का पूर्ण विवरण रहेगा।
 
(38 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2020सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer