समाचार
|| कलेक्टर ने किया राज्य कैंसर संस्थान का निरीक्षण || ट्रक एसोसिएशन की माँगों पर होगा गंभीरता से विचार-परिवहन मंत्री श्री राजपूत || कटनी कैंप और फारेस्ट कॉलोनी में किया त्रिकूट काढ़े का वितरण || एक मास्क अनेक जिंदगी अभियान || अब इग्नू में प्रवेश 15 अगस्त, 2020 तक || 15 अगस्त प्रातः 8 बजे संयुक्त जिला कार्यालय भवन में किया जायेगा ध्वजारोहण || रोको-टोको अभियान : 945 व्यक्तियों से वसूला गया २ लाख 40 हजार रूपये का जुर्माना || "सहयोग से सुरक्षा अभियान" 15 अगस्त से || मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में जाँच एजेंसियों में पंजीबद्ध प्रकरणों के विचारार्थ समिति गठित || एक सितम्बर से प्रारंभ हो जाएगा आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप पर कार्य
अन्य ख़बरें
मत्स्य उत्पादन एवं विकास के लिए नवीन तकनीकी संसाधनों को बढ़ावा दिया जाये- कलेक्टर श्री लवानिया
प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना क्रियान्वयन तथा मत्स्य विकास की जिला स्तरीय बैठक संपन्न
भोपाल | 08-जुलाई-2020
   कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना क्रियान्वयन तथा मत्स्य विकास की जिला स्तरीय समिति की बैठक कलेक्ट्रेट कार्यालय के सभाकक्ष में संपन्न हुई। बैठक मे आगामी कार्यो के संबंध में और वित्तीय वर्ष 2019-20 एवं 2020-21 की कार्ययोजना और प्रस्तावों पर विस्तृत चर्चा की गई। इस मौके पर सीईओ जिला पंचायत श्री विकास मिश्रा श्री बिरेंद्र चौहान मत्स्य विभाग सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 
   बैठक में कलेक्टर ने भोपाल जिले में मत्स्य उत्पादन एवं मत्स्य विकास हेतु नवीन तकनीकी संसाधनों को बढ़ावा देने पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा की बायोफॅलाक, केज कल्चर, आर.ए.एस, क्योस्क, फिश फिड मिल, परिवहन हेतु मोटर साईकल विथ आईस वॉक्स, आटो मोबाईल मार्केटिंग वैन, इंसुलेटेट ट्रक इत्यादि का मत्स्य उत्पादन तथा रोजगार सृजन के लिए विभाग द्वारा केन्द्र सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन का बेहतर प्रबंध किया जाये जिससे जिले में मत्स्य उत्पादन से अधिक लोगों को रोजगार मिल सके। 
   कलेक्टर ने कहा की प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना अंतर्गत क्लस्टर विकास को प्राथमिकता देते हुए भोपाल जिले में बैरसिया विकास खण्ड में ग्राम गोलकुन्डा एवं फंदा विकास खण्ड में ग्राम डोबरा जागीर तथा कलियासोत डेम के समीप क्लस्टर विकास को बढ़ावा दिया जाये। उन्होंने कहा की शहर में मत्स्य उत्पादन श्रमता को बढ़ाने के लिए नवीन तकनीकी संसाधनों को उपयोग में लाया जाए। 
   बैठक में सहायक संचालक श्री बिरेंद्र चौहान, मत्स्य ने विभाग की योजनाओं एवं लक्ष्य के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने बताया की कुल योजना लागत में अनुदान राशि का केन्द्राश: 60 और राज्य अंश 40 प्रतिशत का लक्ष्य रखा गया है। प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना अंतर्गत कुल योजना लागत में सामन्य, पिछड़ा वर्ग के लिए 40 प्रतिशत अनुदान तथा अनुसूचित जाति,जनजाति, महिला वर्ग के लिए 60 प्रतिशत अनुदान राशि का प्रावधान किया गया है तथा शेष राशि हितग्राहियों द्वारा वहन की जा रही है।
   मत्स्य संपदा योजनांतर्गत मत्स्योत्पादन को बढ़ावा देने के लिये हितग्राहियो को स्वयं की भूमि में बायोफ्लाक योजना अंतर्गत 4 मीटर डाय एवं 1.5 मीटर गहराई के 7 टेंक को एक यूनिट माना गया है। प्रत्येक यूनिट में लगभग 7 टन मत्स्य उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजनांतर्गत बड़ी फिश फिड मिल का भी प्रावधान है। भोपाल जिले में प्रदेश स्तरीय प्रथम बड़ी फिश मिल लगाई जा रही है। इससे जिले के मत्स्य कृषकों को कम दाम पर मत्स्य अहार उपलब्ध कराया जा सकेगा।
(35 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2020सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer