समाचार
|| जिले के 7 ग्रामों और एक नगरीय क्षेत्र का पूर्व निर्धारित कंटेनमेंट क्षेत्र समाप्त || बैंक सहायित सभी योजनाओं में अपेक्षित प्रगति लायें - कलेक्टर || आधार सीडिंग का कार्य शत-प्रतिशत करें -कलेक्टर || वनाधिकार पट्टों की समीक्षा बैठक संपन्न || तहसील सौंसर के ग्राम गांगतवाड़ा का निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया घोषित || नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) मीडिया बुलेटिन || आज फिर भोपाल से 56 व्यक्ति पूर्णतः स्वस्थ हो अपने घर हुए रवाना - सुखद खबरों का सिलसिला जारी || सभी अशासकीय विद्यालय अध्यनरत विद्यार्थियों से ट्यूशन फीस (शुल्क) जमा नहीं करने पर ऑनलाइन क्लास से वंचित नहीं करे - कलेक्टर श्री लवानिया || गुरुवार को कृषि उपज मंडी आगर में 1960 क्विंटल की हुई आवक || किसान उत्पादक संगठनों का गठन और संवर्धन योजनान्तर्गत बैठक सम्पन्न
अन्य ख़बरें
किसानों को 50 प्रतिशत अनुदान पर मिलेंगे बाँस के उन्नत पौधे
-
डिंडोरी | 13-जुलाई-2020
 
     राष्ट्रीय बाँस मिशन के तहत प्रदेश के किसानों को 50 प्रतिशत अनुदान पर उन्नत गुणवत्ता वाले बाँस के पौधे उपलब्ध कराये जा रहे हैं। प्रति पौधा 240 रूपये लागत वाला यह पौधा किसानों को 120 रूपये में मिलेगा। राशि अनुदान का वितरण  तीन वर्षो तक किया जायेगा। पहले साल में 60 रूपये प्रति पौधा, दूसरे में 36 रूपये और तीसरे साल में किसानों को 24 रूपये प्रति पौधा अनुदान मिलेगा। पहले वर्ष में रोपित सभी पौधों पर अनुदान दिया जायेगा। दूसरे साल 80 प्रतिशत पौधों की जीवितता पर (मृत पौधा बदलाव सहित) और तीसरे साल शत-प्रतिशत पौधों की जीवितता (मृत पौधा बदलाव सहित) सुनिश्चित करने पर अनुदान दिया जायेगा।
किसानों की आय बढ़ने के साथ बाँस उत्पादन में होगी बढोत्तरी
    योजना से प्रदेश में अच्छी गुणवत्ता वाले बाँस का उत्पादन बढ़ने के साथ ही किसानों को अच्छा मूल्य मिलने से अतिरिक्त आय होगी। बाँस आधारित शिल्पकारों और बाँस उद्योग को पर्याप्त मात्रा में कच्चे माल की आपूर्ति की जा सकेगी। किसान अपनी कृषि भूमि, मेड़ आदि पर अपनी इच्छा अनुसार बाँस की प्रजातियाँ लगाने के लिये स्वतंत्र रहेंगे। लेकिन किसानों को यह पौधे मध्यप्रदेश राज्य बाँस मिशन द्वारा मान्यता प्राप्त रोपणियों या भारत सरकार के बायोटेक्नोलोजी विभाग से एन.सी.एस.-टी.सी.पी. प्रमाण पत्र प्राप्त टिश्यू कल्चर प्रयोगशालाओं से गुणवत्ता पूर्ण पौधों को क्रय कर लगाना होगा। पौधा क्रय का भुगतान किसान द्वारा रोपणी/लेब को किया जायेगा।
वनमण्डलाधिकारियों को देना होगा आवेदन
    योजना का लाभ लेने के इच्छुक किसान संबंधित वनमण्डलाधिकारी को आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं। अधिकारी बाँस मिशन द्वारा आवंटित भौतिक एवं वित्तीय लक्ष्यों के सीमा के अनुसार हितग्राही का चयन करेंगे। चयन में अनुसूचित जाति, जनजाति और महिला कृषको को प्राथमिकता दी जायेगी। न्यूनतम रोपण 375 से 450 पौधे प्रति हेक्टेयर लगाने का प्रावधान है। पौधों का अन्तराल किसान खुद तय करेंगे। बाँस पौधो के बीच कृषि फसलों की अन्तरवर्ती फसलें भी ली जा सकेगी।
 
(24 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2020सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer