समाचार
|| विशेष विशेषज्ञों के सुझावों के आधार पर बनेगा आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप || ई-लोक अदालत में 266 प्रकरणों का निराकरण कर 8 करोड़ से अधिक के अवार्ड पारित || सार्वजनिक स्थानों पर कोई भी धार्मिक कार्य व त्यौहार का आयोजन नहीं होगा || मॉस्क लगाने में जनता का भरपूर सहयोग मिल रहा है - कलेक्टर श्री सिंह || तीन वर्ष में हासिल कर लेंगे आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का लक्ष्य || प्राचीन-काल से आदिवासियों को जंगल और वन्य-प्राणियों से गहरा लगाव रहा है || आम आदमी की जिन्दगी सरल बनाना ही सुशासन : मुख्यमंत्री श्री चौहान || आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमेप के लिये सुशासन विषय पर वेबीनार || रेडियो स्कूल में सुनाई जायेंगी स्वाधीनता संग्राम की कहानियाँ || शहर विकास की ऐसी प्लानिंग हो कि आय वृद्धि के साथ ही रोजगार के अवसर भी बढ़े
अन्य ख़बरें
किसानों की रूचि एवं संभावनाओं को ध्यान में रखकर बनाएं जिलेवार उद्यानिकी की कार्ययोजना - उद्यानिकी राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार - श्री कुशवाह
-
टीकमगढ़ | 20-जुलाई-2020
    किसानों की रूचि एवं संभावनाओं को ध्यान में रखकर हर जिले के लिये उद्यानिकी की कार्ययोजना बनाएं। कार्ययोजना ऐसी हो जो किसानों की आय का प्रमुख जरिया बने। इस आशय के निर्देश उद्यानिकी व खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तथा नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री श्री भारत सिंह कुशवाह ने रविवार को ग्वालियर में आयोजित बैठक में अधिकारियों को दिए। राज्य मंत्री श्री कुशवाह ग्वालियर एवं चंबल संभाग के अधिकारियों की बैठक में उद्यानिकी विभाग की योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे।
    रविवार को राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने कहा कि उद्यानिकी के क्षेत्र में ग्वालियर एवं चंबल संभाग के सभी जिलों में अपार संभावनायें हैं। उन्होंने कहा कि  किसानों की राय लेकर ठोस कार्ययोजना बनाएं। उन्होंने निर्देश दिए कि विकासखंडवार सब्जियाँ, फल, फूल, औषधीय व मसाला फसलों की संभावनाओं का आंकलन कर जिले की कार्ययोजना को अंतिम रूप दें। कार्ययोजना ठीक होने पर सरकार द्वारा धन की कमी नहीं आने दी जायेगी। उन्होंने उद्यानिकी फसलों का रकबा बढ़ाने पर विशेष जोर दिए जाने के निर्देश भी दिए।
    राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने कहा कि प्रधानमंत्री एवं  मुख्यमंत्री द्वारा भी उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण को विशेष बढ़ावा दिया जा रहा है।  सभी अधिकारी पूरी गंभीरता के साथ किसानों को उद्यानिकी फसलों के लिये प्रेरित करें। वर्तमान दौर में उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण के लिये अनुकूल परिस्थितियां हैं। उन्होंने निर्देश दिए कि सरकार द्वारा संचालित आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत उद्यानिकी विभाग की योजनाओं को जोड़कर किसानों को लाभान्वित कराया जाए। जिससे किसान आत्मनिर्भर बन सकें। राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने कहा उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देकर हम कृषि कर्मण पुरस्कार की तरह राष्ट्रीय स्तर के सम्मान प्राप्त कर सकते हैं।
    ग्वालियर एवं चंबल संभाग के सभी जिलों में फल, सब्जी, मसाला, पुष्प एवं औषधीय वनस्पतियों के उत्पादन की समीक्षा के साथ राज्यमंत्री ने। नर्सरियों की वास्तविक स्थिति भी जानी। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को भरोसा दिलाया कि उद्यानिकी को बढ़ावा देने में संसाधनों की कमी नहीं आने दी जायेगी। राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने कहा कि किसानों को मजबूरन कम दाम पर अपनी सब्जियां न बेचनी पड़ें, इसके लिये सरकार मंडी में कोल्ड रूम बनाने पर गंभीरता से विचार कर रही है। उन्होंने  यह भी कहा कि उद्यानिकी फसलों के लिये फसल बीमा योजना के तहत ली जाने वाली प्रीमियम राशि को कम करने एवं बीमा क्लेम बढ़ाने के लिये शासन  स्तर पर बीमा कंपनी एवं विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा की जायेगी।
    बैठक में संभागीय संयुक्त संचालक उद्यानिकी श्री रतन सिंह कटारा सहित ग्वालियर एवं चंबल संभाग के सभी जिलों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।
विभागीय नर्सरी होंगी पुनर्जीवित
    उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने विभागीय रोपणियों (नर्सरियों) को पुनर्जीवित करने पर विशेष बल दिया। उन्होंने कहा कि हर जिले में जिला मुख्यालय की नर्सरी को मॉडल बतौर विकसित करें। इसमें उन सभी प्रजातियों के पौधे उपलब्ध हों जिनकी जिले में माँग है। जरूरत होने पर बाहर से भी पौधे मंगाए जाएं। राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने निर्देश दिए कि हर जिले में स्थित नर्सरियों का श्रेणीकरण करें। सी-श्रेणी की नर्सरी को बी में और बी-श्रेणी की नर्सरी को ए श्रेणी में लाने के प्रयास किए जाएं। नर्सरी को सुरक्षित करने के लिये जालीदार फैंसिंग करने की बात भी उन्होने कही।  राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने कहा जिला मुख्यालय की नर्सरी में पॉलीहाउस बनाए जाएं। साथ ही उद्यानिकी फसलों में विशेष रूचि रखने वाले किसानों को भी पॉलीहाउस निर्माण के लिये विभागीय योजनाओं के तहत अनुदान मुहैया कराया जाए।
संभाग के शेष जिले भी उद्यानिकी मिशन में शामिल कराए जायेंगे
    राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने बैठक में जानकारी दी कि ग्वालियर संभाग के शिवपुरी व चंबल संभाग के भिण्ड, मुरैना व श्योपुर जिले को भी उद्यानिकी मिशन में शामिल कराने के लिये गंभीरता से प्रयास किए जायेंगे। ग्वालियर संभाग के अन्य जिले पहले से ही उद्यानिकी मिशन में शामिल हैं।
 
(19 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2020सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer