समाचार
|| मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महेशचंद गोयल के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की || त्यौहारों को शांति एवं सौहार्दपूर्ण वातावरण में मनाये जाने हेतु जिला स्तरीय बैठक 25 सितम्बर 2020 को || नवीन पात्रता पर्चियों के वितरण कराने के निर्देश || मुख्यमंत्री पीएम स्व-निधि योजना के लाभार्थियों से चर्चा करेंगे || कलेक्टर कार्यालय परिसर में धारा 144 प्रभावशील || ‘‘मद्य निषेध सप्ताह‘‘ 2 से 8 अक्टूबर तक || पिछले 24 घंटों में 46.4 मि.मी. औसत वर्षा || गौशाला का शुभारंभ || 160 मेगा वोल्ट एम्पियर ट्रांसफार्मर का उद्घाटन || अब ग्रामीण पथ विक्रेता भी होंगे आत्मनिर्भर- राज्यमंत्री श्री परमार
अन्य ख़बरें
चुप्पी तोडे़ हिंसा के विरूद्ध आवाज उठायें
-
बुरहानपुर | 22-जुलाई-2020
    जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री सुमन कुमार पिल्लई ने जानकारी देते हुए बताया कि, महिला एवं बाल विकास विभाग बुरहानपुर के अंतर्गत वन स्टॉप सेंटर (सखी) कार्यालय दिनांक 13 फरवरी, 2017 से संचालित है। जिसमें किसी भी प्रकार की हिंसा या घरेलू हिंसा, छेड़छाड़, बलात्कार, एसिड अटैक, साइबर अपराध या अन्य किसी भी प्रकार का अपराध से पीड़ित महिला, बच्चें एवं बालिकाओं को एक ही स्थान पर संरक्षण एवं सहायताएं निम्नानुसार प्रदान की जाती है।
  • अस्थाई आश्रय सुविधाः- सेंटर पर महिलाओं, बच्चों एवं बालिकाओं को अस्थाई आश्रय, भोजन, वस्त्र, चिकित्सा, न्यायिक सहायता सोशल परामर्श इत्यादि की सहायता दी जाती है।
  • चिकित्सा सहायताः-लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की गाइड लाइन एवं प्रोटोकॉल अनुसार हिंसा से पीड़ित महिलाआ को तत्काल समीपस्थ अस्पताल में चिकित्सा सहायता/जांच हेतु सहायता दी जाती है।
  • पुलिस सहायताः-महिला को एफआईआर, एन.सी.आर., डी.आई.आर.दर्ज करने की सहायता उपलब्ध कराई जाती है।
  • विधिक सहायता (शासकीय अधिवक्ता द्वारा परामर्श)- विधिक सहायता विभाग द्वारा  अधिवक्ताओं का चिन्हिंत पैनल द्वारा सेंटर में ही पीड़ित महिला को न्याय दिलाने के लिए विधिक सहायता एवं परामर्श दिया जाता है।
  • मनोवैज्ञानिक सामाजिक परामर्शः-पीड़िता के साथ हुई हिंसा की प्रकृति अनुसार चिन्हिंत कुशल मनोसामाजिक परामर्शदाताओं के पैनल से सहायता उपलब्ध कराई जाती है। यह परामर्श प्रक्रिया महिला का आत्मविश्वास बढ़ाने एवं न्याय दिलाने तथा ड्रिप्रेशन से बाहर निकलने में सहायता करती है।
  • आपातकालीनः-गैर आपातकालीन सहायताः-सेंटर में हिंसा से पीड़ित महिलाओं के बचाव हेतु सहायता प्रदान की जाती है। इस कार्य हेतु मुख्यमंत्री महिला हेल्प डेस्क लाइन 181, 1090, 108 की सेवाएं पीसीआर वेन डायल 100 द्वारा पीडित महिला को घटना की जगह से बचाव कर सेंटर में महिला की स्थिति अनुसार सहायता प्रदान की जाती है।
  • मुख्यमंत्री महिला हेल्प लाईन 181 पर भी अपनी शिकायत दर्ज करने पर तुरंत वन स्टॉप सेंटर से सहायता प्रदान की जायेगी। यदि आप घरेलू हिंसा या अन्य किसी भी प्रकार की हिंसा से पीड़ित है तो निम्नानुसार नंबरों पर कॉल कर सहायता प्राप्त कर सकते है।                    
  • दूरभाष नंबर 07325-255500, मो.नं. 83056-07883 प्रशासक मो.नं.99264-60664 तथा वन स्टॉप सेंटर (सखी) जिला चिकित्सालय में अपनी शिकायत दर्ज कर सकते है।
 
(65 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer