समाचार
|| कोविड-19 की उपचार दरों के संबंध में हाइकोर्ट ने दिये सख्त निर्देश || सफाई कर्मचारियों के हित में योजना बनाने समिति गठित || नागरिकों को मूलभूत सुविधाएं प्रदान करना ही स्मार्ट सिटी का दायित्व है-मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह || कोरोना से बचाव के लिये मास्क ही है सबसे प्रभावी साधन || किसानों को आत्मनिर्भरता की ओर ले जाएगी मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना || किसानों को राहत सहयोग और प्रोत्साहन निरंतर जारी रहेगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान || शनिवार को आयोजित हुई स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत || भवन संनिर्माण श्रमिकों के पंजीयन के लिये 2 अक्टूबर से चलेगा अभियान || खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 के तहत किसानों का पंजीयन 15 अक्टूबर तक || 10 उद्यानिकी कृषकों को मिली 30 हजार रुपये की फसल बीमा क्लेम
अन्य ख़बरें
चंबल नदी के क्षेत्र में बाढ की स्थिति पर रखे निगरानी-कमिश्नर
जल संसाधन विभाग के अंतर्गत प्रचलित कार्यो की समीक्षा
श्योपुर | 26-जुलाई-2020
 
         चंबल संभाग के कमिश्नर श्री आरके मिश्रा ने कहा है कि कोटा बैराज से चंबल नदी में बरसात के दौरान अधिक पानी छोडने से श्योपुर-मुरैना जिले के क्षेत्र में लगे गांवो में बाढ की स्थिति निर्मित होती है। जिस पर जल संसाधन विभाग के इंजीनियर चंबल नदी के क्षेत्र में कोटा बैराज से छोडने वाले पानी की स्थिति पर निगरानी रखे। साथ ही कन्ट्रोलरूम स्थापित कर बाढ की संभावना के मद्देनजर सूचनाओ का आदान-प्रदान निंरतर करें। वे आज कलेक्टर कार्यालय श्योपुर में सभागार में जल संसाधन विभाग के अंतर्गत प्रचलित कार्यो की समीक्षा बैठक में विभागीय अधिकारियो को दिशा-निर्देश दे रहे थे।
    बैठक में कलेक्टर श्री राकेश कुमार श्रीवास्तव, पुलिस अधीक्षक श्री सम्पत उपाध्याय, डीएफओ सामान्य वन मंडल श्री सुधाश यादव, अपर कलेक्टर श्री एसआर नायर, सहायक कलेक्टर श्री पवार नवजीवन विजय, एसडीएम श्री रूपेश उपाध्याय, कार्यपालन यंत्री पीडब्ल्यूडी श्री संकल्प गोलिया, जल संसाधन श्री सुभाष गुप्ता, पीएचई श्री संतोष श्रीवास्तव, पीआईयू श्री विपिन सोनकर एवं संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।
    आयुक्त चंबल संभाग श्री आरके मिश्रा ने बैठक में कहा कि जल संसाधन विभाग द्वारा बाढ की दिशा में चंबल नदी में छोडे जाने वाले कोटा बैराज से पानी की जानकारी कन्ट्रोलरूम के माध्यम से निरंतर दी जावे। यह कन्ट्रोलरूम 24 घंटे कार्य करना चाहिए। उन्होने कहा कि विगत वर्ष में चंबल नदी में 07 लाख क्यूसेक पानी छोडने से नदी क्षेत्र के गांवो के पानी का भराव अधिक हो गया था। ऐसी स्थिति सन् 1996 में भी निर्मित हुई थी। उन्होने कहा कि गांधी सांगर से कोटा बैराज से पानी पहुचेगा। इसके बाद कोटा बैराज से पानी चंबल नदी में छोडा जावेगा। इस दिशा में जल संसाधन विभाग के इंजीनियर प्रभावी कार्यवाही करे। जिससें बरसात के दौरान बाढ की स्थिति पर नियंत्रण पाने में सुविधा होगी।
    कलेक्टर श्री राकेश कुमार श्रीवास्तव ने बैठक में बताया कि बरसात के दौरान राजस्थान से कोटा बैराज से विगत वर्ष बडे पैमाने पर पानी छोडा गया था। जिससे श्योपुर जिले में क्षेत्र में चंबल किनारे के गांव जलमग्न हुये थे। उन्होने कहा कि कार्यपालन यंत्री जल संसाधन श्योपुर एवं कोटा बैराज से पानी छोडने की जानकारी प्राप्त करने के प्रयास किये जावेगे। साथ ही इस दिशा में बरसात के दौरान कन्ट्रोलरूम को प्रभावी बनाया जावेगा। बैठक में जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री सुभाष गुप्ता ने जल संसाधन विभाग के माध्यम से बनवाये जा रहे स्टॉप डैम की जानकारी दी। साथ ही लघु सिचांई परियोजनाओ की प्रगति से अवगत कराया। उन्होने कहा कि बरसात के दौरान कोटा बैराज से छोडे जाने वाले पानी पर निरंतर निगरानी रखी जावेगी। साथ ही कन्ट्रोलरूम 24 घंटे सूचना प्रदान करने में मदद करेगा।
(62 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer