समाचार
|| कलेक्टर ने किया विक्टोरिया अस्पताल के आईसीयू वार्ड का निरीक्षण || तीन नये कंटेनमेंट जोन बने || आज स्व-सहायता समूहों को किया जायेगा ऋण वितरण "गरीब कल्याण सप्ताह" || कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने पर 209 व्यक्ति डिस्चार्ज || गार्वेज शुल्क के संबंध में कमेटी गठित || नर्सरियों का निरीक्षण करने मटकुली पहुंचे उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्कण स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री श्री कुशवाह || रायसेन कन्या उमावि को विश्व स्तरीय स्कूल बनाया जाएगा- स्वास्थ्य मंत्री || जिले में अब तक 1302.1 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज || सांची ब्लॉक के ग्राम बनगवां में निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया से मुक्त घोषित || मण्डीदीप के वार्ड नम्बर-12 में निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया से मुक्त घोषित
अन्य ख़बरें
कोविड 19-क्या है होम आइसोलेशन या होम क्वारंटाइन - अनुराग उईके (विशेष लेख)
-
भोपाल | 02-अगस्त-2020
      कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के साथ ही उपचार को लेकर सरकार द्वारा आमजनों की जागरूकता के लिए समय समय पर गाइडलाइंस जारी की जाती है,अब भी लोगो में तरह तरह की जिज्ञासा रहती है। होम आइसोलेशन और कोरेन्टीन क्या है,किसे जरूरत है,यह व्यवस्था कैसे सुनिश्चित होगी और किस तरह की सावधानियां हो,यह अब भी लोगों को बहुत ज्यादा नहीं पता है।
होम आइसोलेशन में किसे रहना है
    कोरोनावायरस संक्रमण से प्रभावित क्षेत्रों में आवागमन के बाद आने वाले ऐसे व्यक्ति जो  बिना लक्षण वाले लोगो अथवा ऐसे व्यक्तियों के संपर्क में आए हो जो बीमार हो उन लोगों को होम आइसोलेशन में रहना चाहिए ।
क्या करना है -
    ऐसे व्यक्ति एक ऐसे अलग हवादार कमरे में परिवार के अन्य सदस्यों से दूर रहें जिसमें अलग बिस्तर और शौचालय की व्यवस्था हो और उस कमरे का उपयोग सिर्फ होम आइसोलेशन में रह रहा व्यक्ति ही करें ।अपने उपयोग का सामान जैसे कपड़े, बर्तन, तौलिया आदि अलग रखें और खुद ही उन्हें रोज अच्छी तरह से भी विसंक्रमित और साफ करें ।
    घर के भीतर किसी से भी मिलते समय मास्क पहने, बार-बार साबुन तथा पानी से हाथ धोएं, गर्म पानी पीए,  पोस्टिक आहार और तरल पदार्थ लेते रहें, सक्रिय बने रहें,योग,व्यायाम और प्राणायाम करें । पल्स ऑक्सीमीटर से spo2 लगातार नापे एवं अपना तापमान बार-बार देखें यदि बुखार हो तो स्वास्थ्य विभाग को सूचित करें । फोन में सार्थक एप, आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कर उसमें आवश्यक जानकारी रोज भरें ।
चिकित्सकीय परामर्श के अनुरूप हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन लें, विटामिन सी युक्त पदार्थ का नियमित सेवन करें ।
क्या नहीं करना है -
     होम आइसोलेशन वाले सदस्य घर के अन्य कमरों में न जाएं, अपने उपयोग के अलावा अन्य चीजों को न छुएं । इधर उधर थूके नहीं, घर में यदि गर्भवती महिलाओं, बच्चों, बुजुर्गों या पहले से गंभीर बीमार व्यक्ति है तो उनसे बिल्कुल दूर रहें, या फिर बेहतर होगा कि आप होम क्वॉरेंटाइन के बजाय संस्थागत क्वॉरेंटाइन में चले जाएं ।

खतरे के लक्षण क्या है-
     लगातार तेज बुखार, सीने अथवा गले में लगातार दर्द या भारीपन, मानसिक भ्रम या सचेत होने में कठिनाई, होंठ तथा चेहरे का नीला पड़ना, जैसे लक्षण होने पर तुरंत स्वास्थ्य अधिकारियों को सूचित करें ।

देखभाल करने वाले लोगों को क्या-क्या करना है -
    जब भी हम क्वारंटाइन व्यक्ति के संपर्क में आएं तो मास्क पहन कर रखें , घर के अन्य लोगों से सुरक्षित दूरी बनाकर मिले, अपने स्वयं के स्वास्थ्य का ध्यान रखें और सर्दी, जुखाम बुखार जैसे लक्षण होने पर तुरंत जांच कराएं । अन्य लोगों से ना मिले जुले ना ही किसी बाहरी लोगों को घर में आने दें । बाजार, पार्क, कार्यालय जैसे अन्य सार्वजनिक स्थानों पर न जाएं।
होम क्वॉरेंटाइन में कितने दिन रहना है
     कोविड-19 पुष्ट केस के संपर्क में आने की तारीख से 14 दिनों तक लक्षण रहित होने पर अथवा संदिग्ध इंडेक्स केस की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने तक अथवा चिकित्सीय परामर्श लेने के बाद ही कमरे से निकलना चाहिए।
(लेखक सहायक संचालक, जनसम्पर्क हैं।)
(49 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer