समाचार
|| कृषक राकेश शून्य प्रतिशत पर ब्याज पाकर हुए प्रफुल्लित (कहानी सच्ची है) || तेंदूखेड़ा में बगैर मास्क के घूमने वाले 40 लोगों पर लगा 2750 रूपये का जुर्माना || संसाधनों का समान वितरण कर जरूरतमंदों को सहारा देती है संबल योजना || गोटेगांव में अधिकारियों का संयुक्त निरीक्षण || ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर्स ऋण वितरण कार्यक्रम का आयोजन 24 सितम्बर को || आई.टी.आई. में पुन: रजिस्ट्रेशन के लिए 30 सितम्बर तक तिथि बढ़ी || कोविड- 19 की गाइड लाइन का पालन कराने कलेक्टर व एसपी निकले शहर के भ्रमण पर || शासकीय विभागों में रिक्त पद भरने के लिए तत्काल प्रक्रिया प्रारंभ करें- मुख्यमंत्री श्री चौहान || बलात्संग के आरोपी की जमानत याचिका न्यायालय ने की निरस्त || महिलाओं से संबंधित कानून और मुद्दों के बारे में विधिक साक्षरता शिविर संपन्न
अन्य ख़बरें
उड़्द की फसल में कहीं-कहीं पीला पत्ता रोग का प्रकोप देखा जा रहा है - मौसम आधारित कृषि परामर्श (विशेष लेख)
किसान भाई फसल का निरीक्षण करें तथा पाये जाने पर रोकथाम हेतु ग्रसित पौधे को उखाड़कर जमीन के अन्दर दबा दें, इमिडाक्लोप्रिड दवा की 0.5 मिली. मात्रा को प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर आसमान साफ होने पर छिड़काव करें
टीकमगढ़ | 04-अगस्त-2020
    आने वाले 5 दिनों के दौरान हल्की से मध्यम वर्षा होने तथा आसमान में बादल छाये रहने की संभावना है। अधिकतम तापमान 31 डि.से. के आस-पास तथा रात का न्यूनतम तापमान 23 डि.से. के आस-पास रहने की संभावना है। हवा की औसत गति 13 से 17 किलोमीटर प्रति घंटा रहने की संभावना हैं। मूंगफली में सफेद कीड़ा देखा जा रहा है। किसान भाई इसकी रोकथाम के लिए फोरेट 10 ग्राम / 10-15 कि.ग्रा. दवा प्रति हेक्टेयर की दर से भुरकाव करें। वर्तमान में पपीता की फसल में पत्ती सिकुड़न (लीफ कर्ल) रोग का प्रकोप देखा जा रहा है, इससे बचाव हेतु किसान भाई, मिथायल डेमेटाँन 25 ई.सी. दवा की 2 मिली लीटर दवा प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें। वर्तमान मौसम में बैगन में फल वेधक कीट का प्रकोप को देखते हुए, इससे बचाव हेतु ट्राइजोफास 40 ई.सी. दवा की 2.0 मिलीलीटर मात्रा 1 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें तथा दवा छिड़काव करने के बाद सात दिन तक सब्जी न तोडें।
   दुघारु पशुओं में बरसात के घास का पाचन कम होता है अतः दुघारु पशुओं के आहार में खनिज लवण का समावेश करें। पशुओं को खुरपका-मुँहपका रोंगो से बचाव हेतु टीके अवश्य लगवायें ताकि इनके अन्दर रोगरोघक क्षमता का विकास हो सकें। भैड़ व बकरियों को भीगने से बचायें अन्यथा उन्हें दस्त, निमोनियां की शिकायत हो सकती है।
(50 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer