समाचार
|| ललिता कहती हैं, हमें हर आड़े वक्त में सरकार से मिला सहारा || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री जसवंत सिंह के निधन पर दु:ख व्यक्त किया || सब्सिडी और उद्योगों को रियायती जमीन की नीति से सैकड़ो नव उद्यमी आगे आये : मंत्री श्री सखलेचा || कोविड उपचार के लिये रिकार्ड समय में तैयार हुआ आईसीयू : मंत्री श्री सखलेचा || विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं नवाचार नीति महिला सशक्तिकरण और पंचायत स्तर तक मजबूती देगी || टेस्टिंग टारगेट पूरा करने के लिये फीवर क्लीनिक की संख्या का निर्धारण जिला स्तर पर || मंत्री श्री पटेल ने रामराजा दरबार में दर्शन किए || नौनेर को पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान, मत्स्यकीय महाविद्यालय की सौगात || सागरताल को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा : ऊर्जा मंत्री श्री तोमर || गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने 3 करोड़ 31 लाख की लागत के पुलिस आवासीय परिसर का किया भूमिपूजन
अन्य ख़बरें
5 हजार 5 सौ करोड़ की माधवराव सिंधिया सिंचाई परियोजना के सर्वे के लिए सैद्धांतिक अनुमति दी गई
जल संसाधन विभाग के प्रतिनियुक्ति पर गए अधिकारी वापस बुलाए जाए - मंत्री श्री सिलावट
कटनी | 07-सितम्बर-2020
     जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने विभाग की समीक्षा बैठक में 5500 करोड़ की से माधवराव सिंधिया परियोजना के लिए सर्वे का काम शुरू करने की सैद्धांतिक मंजूरी दी है। पार्वती, काली सिंध और चंबल नदी पर यह परियोजना प्रस्तावित है। इस परियोजना से कृषि, सिंचाई, उद्योगों और पीने के लिए पानी उपलब्ध होगा। मंत्री श्री सिलावट ने केन बेतवा परियोजना के लिए जल्दी ही उत्तर प्रदेश के सिंचाई मंत्री के साथ दिल्ली में बैठक करने के निर्देश दिए है। जल संसाधन मंत्री के निवास पर आयोजित समीक्षा बैठक में राज्य मंत्री श्री राम किशोर कांवरे अपर मुख्य सचिव श्री एस.एन. मिश्रा, ई एन सी श्री डाबर और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
            बैठक में जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने निर्देश दिए की अतिवर्षा के बाद प्रदेश में डेम, तालाब, नहरो, की क्या स्थिति है, इसके निरीक्षण के लिए राज्य स्तरीय कमेटी गठित की जाए जो उपरोक्त संरचना की वास्तविक स्थिति समीक्षा कर 15 दिन में रिपोर्ट प्रस्तुत करे।
       मंत्री श्री सिलावट ने अपर मुख्य सचिव को निर्देश दिए की  प्रति नियुक्ति पर दूसरे विभागों गए अधिकारियों वापस विभाग में बुलाया जाए। विभाग में किसी भी अधिकारी की पदस्थापना के समय वरिष्ठता को प्राथमिकता दी जाए। उन्होंने कहा कि सीनियर पद पर जूनियर की नियुक्ति नहीं होना चाहिए। अतिवर्षा के समय यदि  सम्बन्धित अधिकारी डेम, तालाब और फील्ड में नहीं गए है तो उन्हें चेतावनी पत्र जारी किया जाए। संभाग स्तर पर विभागीय कमेटी गठित की जाए जो अपने क्षेत्रो में स्थित सभी डेम तालाब का निरीक्षण करे और सम्बन्धित जल संरचनाओं की ऑडिट रिपोर्ट 8 दिन में प्रस्तुत करे। मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि विभाग में फ्लाइंग स्काड का गठन किया जाए जो अति वर्षा वाले स्थानों का निरीक्षण कर त्वरित कार्रवाई करे और राज्य स्तर पर रिपोर्ट प्रस्तुत करे। बांध निर्माण और अन्य परियोजना के लिए प्रस्तावित किसी भी टेंडर लगाने की दिनांक आगे नहीं बढ़ाई जाए। सिंचाई परियोजना में देरी का मतलब कृषि उत्पादन पर असर डालता है इस कारण कोई भी सिंचाई परियोजना में  देरी नहीं होना चाहिए।
            बैठक में राज्यमंत्री श्री राम किशोर कांवरे ने कहा कि जितनी परियोजना पुरानी हो चुकीं हैं। उनका ऑडिट कराया जाए, इन पर विशेष निगरानी रखी जाए। बालाघाट की बाबनथड़ी परियोजना के लिए अलग से कार्य योजना बनाकर शेष बची नहर से कृषि के लिए पानी उपलब्ध कराया जाये।
अपर मुख्य सचिव श्री एस एन मिश्रा ने कहा कि विभाग ने अति वर्षा के समय सभी बांधो पर कंट्रोल रूम से चौकसी रखी गई है। सभी बांध और तालाब सुरक्षित है।
              बैठक में प्रदेश में सभी बड़े बांध और अन्य बांध की वर्तमान स्थिति की समीक्षा की गई। जिसमें बताया गया कि लगभग सभी बाध क्षमता अनुसार भर चुके है। बुन्देलखण्ड के छतरपुर में सामान्य से कम वर्षा के कारण वहां के बांध 20 प्रतिशत खाली है जो आने वाले दिनों में वर्षा से भरने की सम्भावना है।


 
(21 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer