समाचार
|| शासकीय विभागों में रिक्त पद भरने के लिए तत्काल प्रक्रिया प्रारंभ करें- मुख्यमंत्री श्री चौहान || नगर परिषद मऊगंज के लिए रजिस्ट्रीकरण अधिकारी नियुक्त || राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के द्वारा स्व-सहायता समूह की महिलाएं बन रही हैं आत्मनिर्भर (सफलता की कहानी) || मुख्यमंत्री श्री चौहान 24 सितम्बर को ग्रामीणों को व्यवसाय के लिये सरकार की गारंटी पर बैंक ऋण वितरित करेंगे || संसाधनों का समान वितरण कर जरूरतमंदों को सहारा देती है संबल योजना || किसानों को फसल बीमा में न्यूनतम राशि का निर्धारण किया जाएगा || रीवा जिले में अब तक 859.4 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज || 24 सितंबर से कृषि उपज मंडी अनिश्चितकाल के लिए बंद || रामपायली में प्रवासी श्रमिकों का मशरूम उत्पादन पर दिया गया प्रशिक्षण || जिले में कुल कोरोना से संक्रमितों की संख्या 1658 1169 ठीक, एक्टिव केस 475
अन्य ख़बरें
स्वसहायता समूह हेंचिंग सेंटर के माध्यम से अंडो से चूजे निकालने में हो रहा है अग्रसर "सफलता की कहानी"
-
श्योपुर | 07-सितम्बर-2020
 
     कडकनाथ मुर्गे की पैदावार में अब झाबुआ की भांति श्योपुर जिले में भी कडकनाथ प्रजाति के मुर्गा, मुर्गियां पैदा करने के लिए ग्राम बरगवा में हेचिंग सेंटर स्थापित किया गया है। यह हेचिंग सेंटर मप्र डे-आजीविका मिशन के अंतर्गत संचालित स्वसहायता समूह की महिलाओ द्वारा संचालित किया जा रहा है। इस सेंटर पर 21 दिन में 95 से 98 कडकनाथ चूजे जन्म ले रहे है। साथ ही आस-पास की महिलाएं अपने चूजे सेहने के लिए एक रूपये प्रति अंडा उपलब्ध करा रही है। जिसके कारण श्रीमती रामनाथी प्रजापति का समूह इस कार्य से मुनाफा कमाने में अग्रसर हो रहा है।  
    कलेक्टर श्री राकेश कुमार श्रीवास्तव के निर्देशन में मप्र डे-आजीविका मिशन के माध्यम से श्योपुर जिले में झाबुआ से कडकनाथ के चूजे डीपीएम श्री एके मुगदल के माध्यम से लाने का कार्य निरंतर जारी है। साथ ही आदिवासी बाहुल्य ग्रामों में स्वसहायता समूहो के माध्यम से कडकनाथ प्रजाति के अंडो को सेहने के बाद चूजे निकालने का कार्य प्रगति पर चल रहा है। ग्राम बरगवा में लगाये गये हेचिंग सेंटर के माध्यम से अंडो को सेहने निकलने जा रहे है चूजे। इस कार्य को स्वसहायता समूह की आदिवासी महिलाएं एवं अन्य वर्गो की महिलाएं निरंतर आगे बढा रही है। साथ ही हर 21 दिन में 95 से 98 कडकनाथ चूजे जन्म ले रहे है। साथ ही स्वसहायता समूह की महिलाएं चूजे बडे होने के बाद कडकनाथ प्रजाति के मुर्गा-मुर्गियो को बेचकर अपनी आदमनी बढाने में अग्रसर हो रहे है।  
    जिले के आदिवासी विकासखण्ड कराहल के ग्राम बरगवा की रामनाथी प्रजापति ने अपने घर में अंडो से चूजे निकालने वाला हेचिंग सेंटर लगा लिया है। उनका हेंचिंग सेंटर विगत 01 अगस्त 2020 से कडकनाथ प्रजाति के अंडो को सेहने निकाले जा रहे चूजे के कार्य को आगे बढा रहा है। इस सेंटर पर 21 दिन तक कडकनाथ के अंडो को रखा जाता है। साथ ही 20 से 21वे दिन अंडो से चूजे निकलने लगते है। इसके पूर्व रामनाथी प्रजापति खुद की मुर्गियो के अंडो को सेहने (हेचिंग) का काम करती थी। लेकिन अब आस-पास के मुर्गी पालक भी अपने अंडे यहां लाने लगे है। अंडो को हेंचिंग करने के एवज में रामनाथी बाई एक अंडे का प्रतिदिन का एक रूपये की फीस भी ले रही है। इस हेंचर में 100 अंडे ही रखे जा सकते है। वही रामनाथी के यहां एडवास में ही बुकिंग होने लगी है। यहा हेचर सौरउर्जा से चलता है। और इसमें बिजली की कोई जरूरत नही है।
    आदिवासी विकासखण्ड कराहल के ग्राम बरगवा रामनाथी बाई प्रजापति ने बताया कि मेरे यहां लगाये गये हेचिंग सेंटर के माध्यम से अंडो को सेहने का कार्य निंरतर किया जा रहा है। इसके तहत 100  चूजे निकाले जा रहे है। कडकनाथ प्रजाति के अंडो को सेहने से एक अंडे पर एक रूपया का मुनाफा कमा रही है। जिससे मेरा समूह तरक्की की रफ्तार पकडने मेंआगे बढ रहा है। 
(16 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer