समाचार
|| व्यय लेखा परीक्षण न कराने पर दो उम्मीदवारों को दूसरी बार दिया गया नोटिस || स्वीप प्लान 2020 के अंतर्गत जन जागरण अभियान चलाया गया || भारत सरकार जल शक्ति मंत्रालय के द्वारा सागर जिले को जल संरक्षण में मिला तृतीय स्थान || मध्यप्रदेश स्थापना दिवस पर शासकीय भवनों पर होगी रोशनी || मांधाता उप निर्वाचन के सामग्री वितरण एवं संग्रहण दलों का प्रशिक्षण 30 को || शहर के विभिन्न क्षेत्रों में 29 व 30 अक्टूबर को विद्युत प्रदाय बाधित होगा || निर्वाचन व्यय की अधिकतम सीमा में हुई वृद्धि || सुबह 7 से शाम 6 बजे तक होगा मतदान || कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए ग्रामीणों को किया जागरूक,दिलाई शपथ || निर्वाचन के दौरान ‘‘सुविधा‘‘ पोर्टल से ले सकते हैं ऑनलाइन अनुमतियॉं
अन्य ख़बरें
राष्ट्रव्यापी निष्ठा प्रशिक्षण कार्यक्रम की तिथि में आंशिक संशोधन
कलेक्टर श्री सुमन द्वारा सभी शिक्षकों को अनिवार्य रूप से प्रशिक्षण दिलाने के निर्देश
छिन्दवाड़ा | 08-अक्तूबर-2020
      सी.एम.राइस शिक्षक प्रशिक्षण के अंतर्गत राष्ट्रव्यापी निष्ठा प्रशिक्षण कार्यक्रम की तिथि में आंशिक संशोधन किया गया है। अब यह प्रशिक्षण कार्यक्रम 16 अक्टूबर 2020 से 15 जनवरी 2021 तक चलेगा। कलेक्टर श्री सौरभ कुमार सुमन द्वारा लगातार विभाग की समीक्षा एवं बेहतर का योजना का क्रियान्वयन कराने के कारण जिले का प्रदर्शन राज्य में उत्कृष्ट रहता है। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत भी जिले के बेहतर गुणवत्तापूर्ण प्रदर्शन के लिये कलेक्टर श्री सुमन द्वारा निर्देश दिये गये है कि जिले के पात्र शत-प्रतिशत शिक्षकों को अनिवार्य रूप से प्रशिक्षण दिलायें। शाला दर्पण कार्यक्रम के माध्यम से शालाओं और मोहल्ला कक्षाओं का निरीक्षण कर सतत् निगरानी करें। विकासखंड और जिला स्तर पर कंट्रोल रूम बनाकर प्रतिदिन इस कार्यक्रम की निगरानी करें और बी.आर.सी. प्राथमिकता से इसका प्रतिदिन फॉलो-अप कर जानकारी प्रस्तुत करें। जिन शिक्षकों द्वारा लापरवाही बरती जाएगी उनके विरूध्द कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने सभी शिक्षकों से अनुरोध किया हैं कि वे सभी 18 कोर्स को समय पर पूर्ण करें, इनसे सीखें और अपनी कक्षा में अध्ययनरत विद्यार्थियों के सीखने-सिखाने की प्रक्रिया में इनका उपयोग करें।

          जिला शिक्षा केंद्र के जिला परियोजना समन्वयक श्री जी.एल.साहू ने बताया कि निष्ठा शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत कुल 18 कोर्स होंगे जो 16 अक्टूबर 2020 से 15 जनवरी 2021 तक चलेंगे। प्रत्येक 15-15  दिवस की अवधि में तीन-तीन कोर्स आएंगे जिसे निर्धारित 15 दिवस की अवधि में ही पूर्ण करना अनिवार्य रहेगा। एक बार जो कोर्स छूट गया उसे निर्धारित 15 दिन के बाद पूरा नहीं कर पाएंगे, इसलिये शिक्षक निर्धारित समय सीमा में कोर्स अवश्य पूरा करें। सभी 18 कोर्स दीक्षा एप पर आएंगे जिसकी लिंक जिला प्रोग्रामर के माध्यम से बी.आर.सी.सी., फिर ब्लॉक एम.आई.एस. को-ऑर्डिनेटर के माध्यम से जन शिक्षक और जन शिक्षक के माध्यम से प्रत्येक शिक्षक को भेजी जाएगी। इन कोर्स की लिंक डिजिलेप ग्रुप के माध्यम से भी प्राप्त होगी। प्रत्येक कोर्स की अवधि 3 से 4 घण्टे की होगी, इसलिये शिक्षक समय प्रबंधन कर कोर्स को निर्धारित अवधि में पूर्ण करें। इसमें 5 या 6 कोर्स पेडोगोजी से संबंधित हैं, बाकी सामान्य विषयों पर रहेंगे जिसमें जेनेरिक विषय के 3, शैक्षणिक रणनीतियां के 3, विशिष्ट शिक्षा शास्त्र के 6 और  स्कूल नेतृत्व के 6 कोर्स शामिल है। उन्होंने बताया कि जिले में डाइट प्राचार्य इस कार्यक्रम के नोडल अधिकारी रहेंगे और प्रोग्रामर जिला शिक्षा केंद्र तकनीकी नोडल अधिकारी रहेंगे। इसी प्रकार ब्लॉक में बी.आर.सी.सी. और जनशिक्षा केंद्र पर जनशिक्षक नोडल अधिकारी रहेंगे। कोर्स से सम्बंधित कोई भी परेशानी आने पर शिक्षक इनमें से किसी भी नोडल अधिकारी अथवा ब्लॉक के एम.आई.एस. को-आर्डिनेटर से सम्पर्क कर सकते हैं, जो विकासखंड के  तकनीकी नोडल अधिकारी हैं। इसके लिए शिक्षकों को एक ई-मेल आई.डी. भी प्राप्त होगी जिस पर वे अपनी समस्या भेज सकते हैं।

          जिला शिक्षा केंद्र के जिला परियोजना समन्वयक श्री साहू ने शिक्षकों को निर्देश दिये है कि कोर्स करते समय एक डायरी तैयार कर लें और हर कोर्स के महत्वपूर्ण बिंदु भी नोट करते जाएँ। यह अत्यन्त महत्वपूर्ण होगा कि प्रत्येक कोर्स से क्या सीखा, उसे अपने बच्चों और कक्षा तक कैसे ले जाएंगे? प्रत्येक कोर्स के बाद एक पोस्ट टेस्ट आयोजित होगा और सभी 18 कोर्स करने के बाद जनवरी 2021 में आनलाइन कम्पीटेंसी टेस्ट आयोजित होगा जिसमें 60 प्रतिशत से अधिक अंक लाना अनिवार्य है। ऑनलाइन कंपीटेंसी  टेस्ट में न्यूनतम 60 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाले को ही  "निष्ठा प्रशिक्षण प्राप्त करने का प्रमाण पत्र"  एन.सी.ई.आर.टी. दिल्ली द्वारा प्रदान किया जाएगा। कोर्स करने से जो भी ज्ञान या कौशल शिक्षक प्राप्त करेंगे, उनका प्रयोग कक्षाओं में करने से ही लर्निंग आउट कम्स प्राप्त होंगे। सभी 18 कोर्स पूर्ण होने के बाद इनकी एंट्री ई-सर्विस बुक में की जायेगी। जो शिक्षक वीडियो फारवर्ड  कर कोर्स निर्धारित समय के पूर्व कर लेते हैं, ऐसे शिक्षकों की संख्या 6 से 10 प्रतिशत है और अगर निष्ठा कोर्स  में भी ऐसा किया जाता है तो उन शिक्षकों पर कार्यवाही होगी।  कोर्स पूरा करने में जो डाटा कन्ज्यूम होगा उसके लिए प्रत्येक शिक्षक के खाते में एक हजार रूपये कोर्स पूर्ण होने के बाद 10 से 15 दिन में जमा हो जाएगा। भविष्य में इन 18 कोर्स करने की समीक्षा की जायेगी व इनके परिणाम के आधार पर शिक्षक का भविष्य तय होगा, शिक्षक इसे गंभीरता से लें। यह कोर्स जिले में पदस्थ सभी मॉनिटरकर्ता अधिकारी व कक्षा एक से 8 तक पढ़ाने वाले सभी प्रधानाध्यापकों व शिक्षकों के लिए अनिवार्य है।
 
(20 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2020नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer