समाचार
|| व्यय प्रेक्षक श्री चाम्बोलकर ने किया मीडिया मॉनिटरिंग सेल का निरीक्षण || काल सेन्टर से हो रहा है निर्वाचन संबंधी शिकायतों का तत्काल निराकरण || भारत निर्वाचन आयोग के प्रेक्षकों द्वारा चुनाव तैयारियों की समीक्षा "विधानसभा उप निर्वाचन-2020" || लाखा बंजारा लेक रिजुवनेशन एंड डेवलपमेंट हेतु कार्यों की जानकारी आमजन को दी गई || सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने करें प्रभावी प्रयास - श्री अभय मनोहर सप्रे || मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा इतिहासकार श्री शुक्ल के निधन पर दुःख व्यक्त || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जबलपुर के पत्रकार श्री अजीत वर्मा के निधन पर दुःख जताया || सुरखी विधानसभा क्षेत्र के 297 मतदान केन्द्रों पर चुनावी साक्षरता क्लब की बैठक संपन्न || मलेरिया, डेंगू एवं चिकिनगुनिया का शहरी आशा कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण एवं कोविड - 19 अनुकूल व्यवहार परिवर्तन सघन अभियान के तहत प्रतिज्ञा दिलाई || निजी खाद विक्रेताओं के नाम सार्वजनिक, किसानों को यूरिया और डीएपी खाद की जानकारी उपलब्ध होगी
अन्य ख़बरें
पट्रोल-डीजल पंप के लिये सिंगल विंडो से मिलेगी एनओसी
प्रमुख सचिव खाद्य श्री किदवई ने किया सॉफ्टवेयर का उद्घाटन
रतलाम | 09-अक्तूबर-2020
 
     प्रमुख सचिव खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण श्री फैज अहमद किदवई ने पट्रोल एवं डीजल पंप खोलने के लिये सिंगल विंडो क्लीयरेंस सिस्टम सॉफ्टवेयर का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि इस एप के द्वारा पट्रोल एवं डीजल पंप खोलने के लिये आवेदकों के लिये 8 विभागों से अलग-अलग एनओसी प्राप्त करना होती थी, जिसके कारण मेन्यूअली मिलने वाली इस अनुमति में आवेदकों को लंबा इंतजार करना पड़ता था।
ऑनलाइन मिलेगा क्लीयरेंस
    श्री किदवई ने बताया कि इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से दस्तावेजों के भौतिक सत्यापन की आवश्यकता नहीं होगी। इसके प्रत्येक चरण में संबंधित विभाग को समय-सीमा के बारे में एसएमएस और ई-मेल के द्वारा रिमाइंडर भेजे जा सकेंगे। आवेदन प्राप्त होने पर प्रत्येक विभाग पोर्टल में अपनी सहमति अपडेट करेगा। एक बार सभी विभागों की सहमति पोर्टल पर अपडेट होने के बाद कलेक्टर भी पोर्टल पर ही अपनी अंतिम रिपोर्ट सहमति/असहमति के रूप में दर्ज कराएंगे। एनओसी की हस्ताक्षरित प्रति उसके पश्चात सिस्टम में अपलोड की जायेगी। उन्होंने बताया कि डिजीटल सिग्नेचर से एनओसी जारी करने के लिये सॉफ्टवेयर को अपडेट किया जा रहा है।
    उन्होंने कहा कि अभी तक रिटेल आउटलेट/रूरल रिटेल आउटलेट खोलने के लिये तेल कंपनियाँ आवेदन के साथ 8 प्रतियों में दस्तावेज आवेदक से प्राप्त कर एनओसी के लिये कलेक्टर के पास जमा कराती हैं। कलेक्टर द्वारा 8विभिन्न विभागों को प्रपत्र भेजकर उनकी अनापत्ति प्राप्त होने के बाद कलेक्टर अपनी अंतिम रिपोर्ट तेल कंपनी को भेजा करते हैं। इसमें कईं बार विभाग प्रश्नों के साथ या अतिरिक्त दस्तावेज जमा कराने के लिये आवेदन वापस भी भेज दिया करते थे। मेन्यूअली होने वाली इस पूरी प्रक्रिया में 3 से 4 माह का समय लग जाता था। एप के उपयोग से अब अतिशीघ्र एनओसी दी जा सकेगी।
    इंडियम ऑयल के कार्यकारी निदेशक एवं राज्य प्रमुख श्री वी. सतीश कुमार ने डिजीटल प्लेटफार्म विकसित करने के लिये अपने सुझाव रखे। इस अवसर पर प्रबंध संचालक नागरिक आपूर्ति निगम श्री अभिजीत अग्रवाल, श्री पदम पांडे सीजीएम, श्री निर्मल कुमार जाना जीएमआईटी एवं श्री पीयूष मित्तल भी उपस्थित थे।
(10 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2020नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer