समाचार
|| केयर बाय कलेक्टर || 68 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने किये देवी मन्दिरों के ऑनलाइन दर्शन || अस्थाई पटाखा लायसेंस हेतु आवेदन 21 से 29 अक्टूबर तक किये जा सकेगें || 2 लाख रूपये की सहायता पाकर शालिनी की गृहस्थी की गाड़ी चल निकली "खुशियों की दास्तां" || छात्रवृत्ति के लिये ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 अक्टूबर तक || जिला पंचायत के सीईओ ने पंचायतों का किया औचक निरीक्षण || जिले के 13 स्थानों से कंटेनमेंट एरिया समाप्त || स्वास्थ्य विभाग की नई पहल - टीका एक्सप्रेस का हुआ शुभारंभ || कोरोना संक्रमित मिलने पर जिले के 30 स्थानों में बनाये गये कंटेनमेंट क्षेत्र || अंतरजातीय विवाह योजना के अन्तर्गत 2 लाख रूपये की सहायता स्वीकृत
अन्य ख़बरें
प्रगति द्वार की ओर बढ़ते कदम को रोके ना-जिपं उपाध्यक्ष श्रीमती गुड्डीबाई महिलाओं के उत्थान निर्णयों में उनकी सहभागिता हो-कलेक्टर डॉ जैन
-
विदिशा | 11-अक्तूबर-2020
 
     अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस 11 अक्टूबर को जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन एसएटीआई के कैलाश सत्यार्थी सभागृह में किया गया था। जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्रीमती गुड्डीबाई लालाराम अहिरवार ने बालिकाओं एवं महिलाओं से कहा कि प्रगति के द्वार की ओर अग्रसर हुए कदमों को रोके ना उनकी प्रगति से ही समाज की अन्य महिलाओं को मार्ग प्रशस्त होंगे। प्राचीन काल से ही महिलाओं को जो अधिकार मिलने चाहिए में धीरे-धीरे वृद्वि हुई है अब सामाजिक तौर पर महिलाएं भी पुरूषो के बराबरी दर्जे की अपेक्षा अनेक मामलों में आगे बढ गई है। उन्होंने कहा कि बालिकाओं की शैक्षणिक सुविधाओं के लिए राज्य सरकार द्वारा अनेक निर्णय लिए गए है। प्रदेश में लिंगानुपात के अंतर में कमी आए इसके लिए लाड़ली लक्ष्मी योजना ने महती भूमिका निभाई है।
    जिला स्तरीय किशोर न्याय बोर्ड की सदस्य श्रीमती मंजरी जैन ने बालिकाओं की शिकायतो की प्राप्ति हेतु टोल फ्री नम्बरों को रेखांकित करते हुए कहा कि अब प्रत्येक पुलिस थाना में एक-एक बाल कल्याण पुलिस अधिकारी नियुक्त किए गए है जो बालिकाओं एवं महिलाओं से संबंधित प्रकरणों में शासन के मापदण्डानुसार कार्यवाहियों का त्वरित सम्पादन करते है। उन्होंने सामाजिक जागरूकता पर बल देते हुए कहा कि महिलाएं खुद अपने निर्णय लेकर आगे बढे़ इसके लिए हर संभव प्रयास शासन स्तर पर संभव हुए है। उन्होंने बालिकाओं एवं महिलाओं को कानूनन प्रावधानो के तहत प्रदाय अधिकारो को रेखांकित किया।
    कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने कहा कि अनादिकाल से अधिकांश समाज पुरूष प्रधान हुआ करते है जिसमें महिलाओं के उत्थान हेतु शनैःशनैः प्रगति हुई है। वर्तमान युग में अब पुरूष और महिलाएं समतुल्य है। अनेक प्रतियोगी परीक्षाओं के अलावा अन्य विधाओं में अब महिलाओं ने पुरूषो को पीछे छोडा है।
    कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि महिलाओं एवं बालिकाओं के विकास उत्थान में लिए जाने वाले निर्णयों में अब महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित की गई है। इसके लिए बकायदा अधिनियमों का प्रावधान नियत किया गया है। उन्होंने सामाजिक जागरूकता पर बल देते हुए कहा कि किसी भी समाज का विकास आधुनिक परिवेश में महिलाओं, बालिकाओं के सर्वागीण विकास को अनदेखा कर संभव नही है।
    कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा महिलाओं के सर्वागीण विकास हेतु अनेक योजनाएं एवं कार्यक्रम संचालित किए जा रहे है। जिनका लाभ उन तक पहुंचे के लिए हर संभव प्रयास जिले में किए जा रहे है। उन्होंने प्रवीण्य सूची में स्थान हासिल करने वाली बालिकाओं को बधाई देते हुए कहा कि समाज को प्रगति की ओर ले जाएं। इस कार्य में अन्य की महत्वपूर्ण सहभागिता को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि बालिकाएं एक नही बल्कि दो कुलो को विकास की ओर अग्रसर करती है।
    अटल बिहारी वाजपेयी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ स्वाति ने बालिकाओं के मानसिक, शारीरिक विकास के दौरान होने वाले परिवर्तनो को रेखांकित करते हुए कहा कि अब हर क्षेत्र की प्रतियोगिताओें में महिलाओं को नकारा नही जा सकता है वे अपनी मेहनत और लगन से सर्वोच्च शिखर को प्राप्त कर रही है। उन्होंने महिलाओं के प्रति संकीर्ण मानसिकता प्रवृत्ति को छोड़ने की ओर इशारा करते हुए कहा कि आधुनिक युग में अब पुरूष व महिलाएं समतुल्य है। जिला विधिक सहायता अधिकारी ने महिलाओं को प्रदाय कानून अधिकारो पर प्रकाश डालते हुए जिला विधिक सहायता के माध्यम से प्रदाय प्रावधानो पर जानकारी दी है। कार्यक्रम को यूएनए की एफपीए की प्रतिनिधि श्रीमती निधि दुबे ने पास्को एक्ट, शोषण के तहत शारीरिक भावनात्मक, लैंगिग एवं उपेक्षा से कैसे बचाव करें इसके लिए कानूनन प्रावधान क्या-क्या है पर प्रकाश डाला। इससे पहले महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री बृजेश शिवहरे ने अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस आयोजन के उद्वेश्यों पर गहन प्रकाश डालते हुए आयोजनों की मूलअवधारणा से अवगत कराया है।
    आंगतुक अतिथियों द्वारा शैक्षणिक, प्रतियोगी परीक्षाओं के अलावा खेल, रंगोली सहित अन्य विधाओं में उत्कृष्ट स्थान हासिल करने वाली बालिकाओं को सम्मानित किया है। कार्यक्रम में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से बालिकाओं के सर्वागीण विकास को रेखांकित किया गया है। एसएटीआई के कैलाश सत्यार्थी सभागृह में सम्पन्न हुए उक्त कार्यक्रम में शामिल अतिथियों के प्रति आभार महिला एवं बाल विकास विभाग के सहायक संचालक श्री विकास शर्मा ने तथा कार्यक्रम का संचालन श्रीमती दीप्ति शुक्ला ने किया। आयोजन स्थल पर शैक्षणिक संस्थाओ के अलावा अन्य विधाओं में प्रगति के शिखर सोपान को हासिल करने वाली बालिकाएं, उनके परिवारजन तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी, कर्मचारी, गणमान्य नागरिक एवं मीडियाकर्मी मौजूद थे।
 
(10 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2020नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer