समाचार
|| जिला चिकित्सालय में आई ओटी का किया गया शुभारंभ || स्वास्थ्य मंत्री डॉ.चौधरी ने देवरीगंज में पंचायत भवन का किया लोकार्पण || जिला चिकित्सालय में बाल्य रोग विशेषज्ञ चिकित्सक पदस्थ || महिला बाल विकास द्वारा जिले के 312 ग्रामों का भ्रमण कर बच्चों के स्वास्थ्य का लिया जायजा || कलेक्टर ने ग्राम तुर्री एवं धनौरा में मेडिकल टीम भेजकर अस्वस्थ्य बच्चों का कराया तत्काल उपचार || 7 दिसंबर को मनाया जाएगा सशस्त्र सेना झंडा दिवस || सोनाग्राफी, प्राईवेट वार्ड, डायलिसिस आदि के दरो में वृद्धि का लिया गया निर्णय || श्री ललित सुरजन का निधन पत्रकारिता जगत की बड़ी क्षति || मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना से किसानों को मिला सम्मान- स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी || कृषि मंत्री श्री कमल पटेल ने शोक-संवेदना व्यक्त की
अन्य ख़बरें
मानसिक स्वास्थ्य के लिये सकारात्मक दृष्टिकोण जरूरी
-
इन्दौर | 11-अक्तूबर-2020
विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर गत दिवस कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा वेबनार का आयोजन किया गया। इसमें चिकित्सा अधिकारी, मीडिया के प्रतिनिधियों में भाग लिया। मुख्य अतिथि के रुप में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया, विशेष अतिथि डॉ. संतोष वर्मा तथा समन्वयक के रुप में जिला विस्तार एवं माध्यम अधिकारी मनीषा पंडित ने भाग लिया। डॉ. प्रवीण जड़िया मुख्य अतिथि के रुप में बताया कि मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए सकारत्मक रहें, अच्छे कार्य करें, जीवन का संतुलन बनाए रखें, योग एवं ध्यान का नियमित अभ्यास करें, जींद पूरी लें, नशीले पदार्थों से दूर रहें, स्वयं का सक्रिय रखें।
मुख्य वक्ता के रुप में बोलते हुए डॉ. निधि जैन ने बताया कि नेशनल मेंटल हेल्थ सर्वे के अनुसार 10 प्रतिशत जनसंख्या कोई न कोई मानसिक बीमारी से ग्रस्त है, जिसमें 0.8 प्रतिशत लोग गंभीर बीमारी से
जूझ रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार हर 40 सेकंड में एक व्यक्ति आत्महत्या करता है और अधिकांश जनसंख्या का हिस्सा नशीले पदार्थ का सेवन करता है। मानसिक बीमारियों का कारण अनुवांशिक एवं तनाव होता है। जिससे दिमाग में कुछ यूरोट्रांसमीटरर्स की गड़बड़ी से मानसिक बीमारियां होती हैं। डिप्रेशन, बाईपोलर डिस्आर्डर, ओ.सी.डी., एंजाइटी आदि मानसिक बीमारियां कोरोना महामारी के समय नींद के समस्या एवं एंजाइटी डिसऑर्डर के केस बढ़ गए हैं। मानसिक बीमारियों की वजह से हमेशा अपराध, आत्महत्या, घरेलू हिंसा एवं तलाक के केस भी बढ़े हैं।
उन्होंने कहा कि मानसिक स्वास्थ्य हमारा भावनात्मक और सामाजिक कल्याण शामिल होता है। यह हमारे सोचने, समझने, महसूस करने एवं कार्य करने की क्षमता को प्रभावित करता है। मानसिक विकारों के संबंध में जागरुकता की कमी भी भारत के समक्ष मौजूद एक बड़ी चुनौती है। किसी भी मानसिक विकार से पीड़ित व्यक्ति को पागल ही माना जाता है। मानसिक स्वास्थ्य संबंधित मुद्दों को ठीक ढंग से संबोधित न किए जाने के कारण अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान उठाना पड़ता है। मानसिक रोग महामारी न बने इसके लिए प्रयासरत रहें, समस्याओं पर बात करें, भावनाओं को प्रकट करें।
(54 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2020जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
30123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer