समाचार
|| ईवीएम एवं वीवीपैट का प्रदर्शन कर मतदाताओं को समझाई जा रही है मतदान की प्रक्रिया || पर्व को दृष्टिगत रख कलेक्टर ने वन रक्षकों को नियुक्त किया विशेष पुलिस अधिकारी || स्वसहायता समूह की जागृत महिलाएँ दे रही हैं 03 नवम्बर को मतदान का संदेश || माइक्रो आब्जर्वर आयोग के प्रेक्षक के अधीन रहकर कार्य करेंगे || इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर राजनैतिक विज्ञापन देने से पूर्व प्रमाणीकरण जरूरी || मतदान केंद्र पर पहचान के लिए 12 दस्तावेज प्रयोग कर सकते हैं || आरोपी पर 10 हजार का नगद पुरस्कार || डाकमत पत्र से मतदान सम्पन्न || डी.पी.सी. कार्यालय परिसर में स्वच्छ और हराभरा बनाएं - कलेक्टर || लोक तंत्र में मतदान मतदाता का अधिकार, इसे नही करें बेकार
अन्य ख़बरें
केबल चैनलों एवं प्रिंट मीडिया में पेड न्यूज पर 24 घण्टे नजर
उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने एमसीएमसी कक्ष का किया निरीक्षण
मुरैना | 18-अक्तूबर-2020
 
     विधानसभा उप निर्वाचन 2020 के दौरान जिले में केवल चैनलों एवं प्रिन्ट मीडिया से प्रसारित कार्यक्रमों पर 24 घण्टे नजर रखी जा रही है। इसके लिये  यहाँ पुरानी कलेक्ट्रेट (जिला सीईओ कक्ष) में स्थित एमसीएमसी कक्ष बनाया गया है। जिसमें जिले के पांचों विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों  का  इकजाई मीडिया अनुवीक्षण कक्ष स्थापित किया गया  है। जिसका उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री एलके पाण्डे ने पहुँचकर मीडिया अनुवीक्षण प्रकोष्ठ का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान निर्देश दिए कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और प्रिन्ट मीडिया पर प्रसारित होने वाली हर उस खबर को रिकॉर्ड करें, जो प्रथम दृष्टया पेड़ न्यूज नजर आ रही हो। एमसीएमसी द्वारा खबर को पेड़ न्यूज घोषित किए जाने पर उसका खर्चा प्रत्याशी के खाते में जुड़वाएँ।  
    ज्ञात हो भारत निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देशों के तहत  पेड न्यूज पर नजर रखने के लिये जिला स्तर पर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में मीडिया अनुवीक्षण एवं प्रमाणन समिति (एमसीएमसी) गठित की गई है। आयोग ने पेड न्यूज पर बारीकी से ध्यान देने के निर्देश दिए हैं। एमसीएमसी द्वारा मीडिया सैल (मीडिया अनुवीक्षण प्रकोष्ठ) के जरिए 24 घण्टे इलेक्ट्रोनिक मीडिया और प्रिंट मीडिया द्वारा प्रसारित होने वाली खबरों की गहन छानबीन की जा रही है। पेड न्यूज साबित होने पर संबंधित प्रत्याशी के निर्वाचन व्यय में पेड न्यूज प्रकाशन पर हुआ खर्च जोड़ा जायेगा।
    इलेक्ट्रोनिक मीडिया पर चुनाव-प्रचार संबंधी कार्यक्रम व क्लिपिंग इत्यादि प्रसारित कराने के लिये प्रत्याशी को पूर्व अनुमति लेनी होगी। साथ ही मूल स्क्रिप्ट सहित सम्पूर्ण प्रचार सामग्री की कैसेट, सीडी इत्यादि डिवाइस एमसीएमसी को दिखानी होगी। मूल स्क्रिप्ट सहित सम्पूर्ण चुनाव प्रचार सामग्री की बारीकी से जाँच करने के बाद ही इलेक्ट्रोनिक मीडिया से चुनावी प्रचार संबंधी कार्यक्रम व विज्ञापन पट्टियाँ प्रसारित करने की अनुमति दी जायेगी। इस जाँच में खासतौर पर यह देखा जायेगा कि इस प्रचार-प्रसार में राजनैतिक दलों व प्रत्याशियों द्वारा चुनावी खर्चा तो नहीं छुपाया जा रहा।
दो भागों में संचालित है मीडिया अनुवीक्षण प्रकोष्ठ
    मीडिया अनुवीक्षण प्रकोष्ठ दो भागों में संचालित हो रहा है। एक भाग में केवल चैनलो व प्रिन्ट मीडिया से प्रसारित होने वाले कार्यक्रमों को रिकॉर्ड करने के लिये टीव्ही, कम्प्यूटर लगाए गए हैं। इन टीव्हियों पर तीन पालियों में पृथक-पृथक अधिकारी व कर्मचारी 24 घण्टे तैनात किए गए हैं। केबल चैनलों व प्रिन्ट मीडिया से प्रसारित हो रहे कार्यक्रम चुनावी प्रचार से संबंधित होने स्क्रिप्ट का मोबाइल से रिकॉर्ड करते है। इस प्रकार रिकॉर्ड किए गए कार्यक्रमों का एमसीएमसी कमेटी द्वारा परीक्षण किया जाता है। साथ ही इसकी जानकारी निर्धारित प्रपत्र में व्यय लेखा अधिकारी को भेजी जाती है।
    मीडिया अनुवीक्षण प्रकोष्ठ के दूसरे भाग में प्रिंट मीडिया अर्थात अखबारों में प्रकाशित होने वाली चुनाव से संबंधित पेड न्यूज सहित अन्य चुनावी खबरों व विज्ञापनों पर नजर रखी जा रही है। एमसीएमसी कमेटी द्वारा खबरों की जाँच की जाती है और जो खबर पेड न्यूज साबित होगी उसका खर्चा संबंधित प्रत्याशी के चुनावी व्यय में जोड़ने के लिये व्यय अधिकारी को लिखा जायेगा।
(6 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2020नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer