समाचार
|| केयर बाय कलेक्टर || 68 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने किये देवी मन्दिरों के ऑनलाइन दर्शन || अस्थाई पटाखा लायसेंस हेतु आवेदन 21 से 29 अक्टूबर तक किये जा सकेगें || 2 लाख रूपये की सहायता पाकर शालिनी की गृहस्थी की गाड़ी चल निकली "खुशियों की दास्तां" || छात्रवृत्ति के लिये ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 अक्टूबर तक || जिला पंचायत के सीईओ ने पंचायतों का किया औचक निरीक्षण || जिले के 13 स्थानों से कंटेनमेंट एरिया समाप्त || स्वास्थ्य विभाग की नई पहल - टीका एक्सप्रेस का हुआ शुभारंभ || कोरोना संक्रमित मिलने पर जिले के 30 स्थानों में बनाये गये कंटेनमेंट क्षेत्र || अंतरजातीय विवाह योजना के अन्तर्गत 2 लाख रूपये की सहायता स्वीकृत
अन्य ख़बरें
सामान्य प्रेक्षक श्री अहमद नदीम और श्री अनिमेष कुमार पाराशर ने सेक्टर ऑफीसरों को मतदान के दौरान बताये कर्तव्य
निष्पक्ष एवं पारदर्शी चुनाव सम्पन्न कराने में माइक्रो आब्जर्वर की महत्वपूर्ण भूमिका
मुरैना | 18-अक्तूबर-2020
 
     मुरैना जिले की पांचों विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव के लिए नियुक्त माईक्रो ऑब्जर्वरों को निर्विघ्न और सुचारू रूप से मतदान सम्पन्न कराने के लिए पॉलीटेक्निक कॉलेज मुरैना में प्रशिक्षण दिया गया। इस दौरान भारत निर्वाचन आयोग द्वारा नियुक्त सामान्य प्रेक्षक श्री अहमद नदीम और श्री अनिमेष कुमार पाराशर ने कहा कि सेक्टर ऑफीसर को मतदान के दौरान निष्पक्ष एवं पारदर्शी चौकन्ना रहकर चुनाव संपन्न कराना है। अप्रिय घटनाओं की सूचना हमें अवश्य करें। इस अवसर पर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री अनुराग वर्मा ने बताया कि मतदान के दिन सभी को अपने-अपने दायित्व चुनाव आयोग ने दिये है। उन पर ड्यूटी के दौरान खरे उतरें। यह निर्देश रविवार को पॉलीटेक्निक कॉलेज मुरैना में माईक्रो ऑब्जर्वरों की 9 कक्षों में चल रही ट्रेनिंग के दौरान दिये। इस अवसर पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री तरूण भटनागर, उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री एलके पाण्डे, समस्त रिटर्निंग ऑफीसर एवं चुनाव के लिये वल्नरेवल मतदान केन्द्रों पर लगने वाले 360 माईक्रो ऑब्जर्वर उपस्थित थे।
    मुरैना, दिमनी, अम्बाह के लिये नियुक्त सामान्य प्रेक्षक श्री अहमद नदीम ने कहा कि इन माइक्रो ऑब्जर्वरों में 60 प्रतिशत ऐेसे लोंग होंगे, जिन्होंने पहले चुनाव कराये होंगे। किन्तु वे यह न सोचा कि हमें सब कुछ आता है। चुनाव आयोग हर चुनाव नये-नये बिन्दु भेजता है। उन सभी बिन्दुओं पर हम सभी को खरे उतरना है। उन्होंने कहा कि मॉकपोल से लेकर मतदान के दौरान गतिविधियां, अप्रिय घटना से लेकर मतदान दल सामग्री जमा करने तक अपनी रिपोर्ट माइक्रो ऑब्जर्वरों को अलग से हमें अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करनी होती है, हर माइक्रो ऑब्जर्वर को मतदान केन्द्र पर चौकन्ना होकर कार्य करने की जरूरत है।
    जौरा, सुमावली के नियुक्त सामान्य प्रेक्षक श्री अनिमेष कुमार पाराशर ने कहा कि पूरी पारदर्शिता के साथ पोल डे के दिन मॉकपोल से लेकर फ्री फेयर होकर चुनाव संपन्न करायें। चुनाव आयोग ने माइक्रो ऑब्जर्वर पर मतदान केन्द्र की गतिविधियों को रिपोर्ट करने के लिये विश्वास के रूप में रखा है। इसलिये मॉकपोल से लेकर सभी गतिविधियों पर नजर बनाये रखें। उन्होंने कहा कि मॉकपोल के बाद क्लियर बटन दबाना पॉलिंग पार्टी समझें। आवश्यकता पड़ने पर उन्हें बतायें, मॉकपोल के वोट ईव्हीएम में रहे तो मतदान प्रक्रिया दूषित होने का डर रहेगा।     
    राज्य स्तरीय मास्टर ट्रेनर श्री विवेक वर्मा ने सहायक मास्टर ट्रेनर्स के रूप में 18 कर्मचारियों को नियुक्त किया गया था। जिन्होंने 9 कक्षों में माइक्रो ऑब्जवरों को मतदान प्रारंभ होने से समाप्ति तक मतदान प्रक्रिया की मॉनीटरिंग के साथ-साथ निर्धारित प्रारूप में जानकारी प्रस्तुत करने के संबंध में प्रशिक्षण दिया गया। माइक्रो ऑब्जर्वर के कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए प्रशिक्षण में बताया गया कि मतदान शुरू होने के 90 मिनट पहले राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों को मॉकपोल करके वोटिंग की प्रक्रिया बताई जाएगी। मतदान शुरू होने से पहले मतदान मशीन को शून्य करके फिर नये सिरे से मतदान शुरू किया जाएगा। ईवीएम, बैटरी, वीवीपैट जो भी पार्ट खराब हो सिर्फ वही बदला जाएगा। वोटिंग मशीन में 12 तरह के एरर आने पर मतदान की पूरी मशीन बदली जाएगी। मतदान केन्द्रों पर मतदाताओं के लिए गोले बनाकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जाएगा। माइक्रो ऑब्जर्वर बूथ एप के माध्यम से जानकारी समय-समय पर ले सकेंगे।  
    मतदान केंद्रों पर तैनात होने वाले माईक्रो ऑब्जर्वरों को जानकारी दी कि माइक्रो ऑब्जर्वर मतदान केंद्र पर यह देखेंगे कि मॉकपोल किया गया है, मॉकपोल के बाद कंट्रोल यूनिट का डाटा क्लियर किया गया है, मॉक पोल के दौरान कितने पोलिंग एजेंट उपस्थित थे, किसी एक अभ्यर्थी के एक से अधिक पोलिंग एजेंट मतदान केंद्र में तो नहीं है, कोई अनाधिकृत व्यक्ति मतदान केंद्र के अंदर तो नहीं आ गया है, मतदाता की अंगुली पर अमिट स्याही लगाई जा रही है या नहीं, मतदाता के पहचान के दस्तावेज देखे जा रहे हैं या नहीं, पीठासीन अधिकारी डायरी में गतिविधियों को नोट कर रहे हैं। प्रशिक्षण में बताया गया कि माईक्रो ऑब्जर्वरों को मतदान प्रारंभ से लेकर समाप्ति तक प्रत्येक घंटे में हुए मतदान के प्रतिशत की जानकारी भी लेनी होगी।  
(2 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2020नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer