समाचार
|| सुल्तानिया अस्पताल गाँधी मेडिकल कॉलेज परिसर में होगा शिफ्ट : मंत्री श्री सारंग || होम स्टे की बढ़ती माँग को देखते हुए पर्यटन विभाग द्वारा नवीन योजनाएँ लागू || अपराधियों के विरूद्ध कार्यवाही में कोई कोताही नहीं बरतें - गृह मंत्री डॉ. मिश्रा || कोई भी पात्र हितग्राही योजना के लाभ से वंचित न रहे || मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा पचेटी डैम, आगर दुर्घटना में 5 व्यक्तियों की मृत्यु पर शोक व्यक्त || योजनाओं के लक्ष्यों की समय-सीमा में पूर्ति करें-राज्य मंत्री श्री कुशवाह || अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय सम्पूर्ण देश के लिए गौरव है - उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव || जनजातीय बाहुल्य विकासखण्डों में डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिये एटीएम की स्थापना || लोक निर्माण विभाग के नवीन एसओआर से कार्यों की गुणवत्ता होगी नियंत्रित - लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव || 65 करोड़ रूपये की लागत से बनाए जाएंगे 6 ब्रिज
अन्य ख़बरें
चुनाव को स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण संपन्न कराने आदर्श आचार संहिता का करें पालन- ऑब्जर्वर
जनरल तथा पुलिस ऑब्जर्वर ने अभ्यार्थी और राजनैतिक दलों के साथ की बैठक
रायसेन | 19-अक्तूबर-2020
   सांची विधानसभा उपचुनाव के लिए नियुक्त जनरल ऑब्जर्वर श्री कृपानंद झा आईएएस तथा पुलिस ऑब्जर्वर श्री जितेन्द्र मिश्रा ने कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित स्टेंडिंग कमेटी की बैठक में अभ्यार्थियों और राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों से कहा कि सॉची विधानसभा उपचुनाव को स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण संपन्न कराना सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों का पालन सुनिश्चित करने के लिए कहा। 
   ऑब्जर्वर श्री झा और श्री मिश्रा ने कहा कि राजनैतिक दलों और अभ्यर्थियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके समर्थक अन्य दलों द्वारा आयोजित सभाओं, जुलूसों आदि में बाधाएं उत्पन्न न करें या उन्हें भंग न करें। उन्होंने कहा कि दल या अभ्यर्थी को किसी प्रस्तावित सभा के स्थान और समय के बारे में स्थानीय प्राधिकारियों को उपयुक्त समय पर सूचना दे देनी चाहिए ताकि वे यातायात को नियंत्रित करने और शांति तथा व्यवस्था बनाये रखने के लिए आवश्यक इंतजाम कर सकें। मस्जिदों, गिरजाघरों, मंदिरों या पूजा की अन्य स्थानों का निर्वाचन प्रचार के मंच के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने निर्वाचन कार्य में संलग्न अधिकारियों के साथ सहयोग करने के लिए भी कहा।
उन्होंने कहा कि अभ्यार्थी को चुनाव प्रचार के दौरान प्रदर्शित किए जाने वाले विज्ञापन के पूर्व प्रमाणन के लिए निर्धारित समय सीमा में जिला स्तरीय मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण समिति को आवेदन देना होगा। प्रिंट मीडिया के लिए केवल मतदान दिवस और मतदान दिवस के एक दिन पूर्व प्रसारित होने वाले विज्ञापनों का पूर्व प्रमाणन भी जिला स्तरीय समिति द्वारा दी जाएगी।  
   कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री उमाशंकर भार्गव ने अभ्यार्थियों और राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों को चुनाव प्रचार के संबंध में अनुमतियों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुए निर्वाचन आयोग द्वारा 100 अधिक जनसमूह वाली सभाओं, राजनैतिक कार्यक्रमों के आयोजन के लिए दिशा-निर्देश दिए गए हैं, सभी अभ्यार्थी और राजनैतिक दल इनका पालन सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रकार की अनुमतियों के लिए भारत निर्वाचन आयोग के मार्गदर्शन में एकल खिड़की की व्यवस्था की गई है। राजनैतिक दल, प्रत्याशी सुविधा पोर्टल के माध्यम से वाहन रैली, जनसभा, हेलीकाप्टर सहित अन्य अनुमतियों के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि रोड शो के दौरान वाहनों के काफिले को सुरक्षा वाहनों सहित कुल 10 वाहनों के बजाय हर पांच वाहनों के तोड़ा जाना चाहिए। वाहनों के काफिले के दो सेटों के बीच अंतराल 100 मीटर के अंतराल के बजाय आधे घण्टे का होना चाहिए।  
   उन्होंने जानकारी दी कि भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशानुसार विधानसभा उप चुनाव लड़ने वाले अभ्यार्थी को अपने पूर्व के प्रचलित आपराधिक प्रकरण एवं दोष सिद्ध प्रकरण के संबंध में घोषणा करनी होगी। राजनैतिक दल द्वारा टिकिट दिये जाने पर निर्वाचन लड़ रहे अभ्यार्थी को स्वयं पर लंबित अपराधिक प्रकरण के संबंध में उस राजनैतिक दल को सूचना देना अनिवार्य है। संबंधित राजनैतिक दल अभ्यर्थी द्वारा दिये गये स्वयं पर लंबित अपराधिक प्रकरण की जानकारी स्वयं की वेबसाईट में दिखाये जाने हेतु बाध्य हैं। साथ ही, अभ्यर्थी एवं संबंधित राजनैतिक दल इस संबंध में एक घोषणा जारी करेंगे, जिसे उनके द्वारा समाचार पत्रों एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में प्रसारित/प्रकाशित कराना होगा। प्रकाशन करने से तात्पर्य नाम-निर्देशन पत्र भरने के पश्चात् कम से कम तीन बार प्रकाशन स्थानीय तौर पर अधिक प्रसार संख्या वाले समाचार पत्रों में एवं टी.व्ही. चैनलों पर कराया जाना होगा।
   उन्होंने अवगत कराया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार विधानसभा उप चुनाव लड़ने वाले अभ्यार्थी को निर्वाचन के दौरान आय-व्यय हेतु पृथक से बैंक खाता खोलना अनिवार्य है। विधानसभ उप चुनाव लड़ने वाले अभ्यार्थी को भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्वाचन व्यय की अधिकतम सीमा 28 लाख निर्धारित की गई है। अभ्यार्थी के खर्च पर निगरानी रखने हेतु जिले में व्हीएसटी एवं व्यय लेखा दल बनाए गए है। प्रत्येक व्यय पर अभ्यर्थी या उसके अभिकर्ता के हस्ताक्षर होना आवश्यक होगा। उन्होंने बताया कि निर्वाचन के परिणाम की घोषणा की तारीख से 30 दिनों के भीतर जिला निर्वाचन अधिकारी को अपना व्यय लेखा प्रस्तुत करना होगा। निर्धारित समयावधि में व्यय प्रस्तुत न करने पर संबंधित के विरूद्ध निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार कार्यवाही प्रस्तावित की जायेगी। अपर कलेक्टर श्री अनिल डामोर ने मतदान दलों के रेण्डमाईजेशन, ईव्हीएम और व्हीव्हीपैट मशीनों के रेण्डमाईजेशन एवं कमीशनिंग के बारे में जानकारी दी। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्रीमती मोनिका शुक्ला, उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री मकसूद अहमद सहित अभ्यार्थी एवं राजनैतिक दलों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।
(45 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2020जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
30123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer