समाचार
|| निर्धारित दर से अधिक कीमत पर शराब बेचने के मामलों में नौ दुकानों से एक दिन के लिए शराब के क्रय-विक्रय पर प्रतिबंध || माफिया के विरुद्ध प्रशासन की कार्यवाही जारी || आज दिनांक तक 45331 व्यक्तियों का अभी तक लिया गया सैंपल || कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने पर 89 व्यक्ति डिस्चार्ज || 639 व्यक्तियों से वसूला गया 63 हजार रुपये का जुर्माना - रोको-टोको अभियान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी गुरु नानक जयंती की बधाई || लोक निर्माण विभाग ने भरवाए छावनी की सडक के गहरे गड्ढे || देवास जिले में रविवार को ग्रामीण क्षेत्रो में 8 हजार 533 चालान मास्क नही पहनने पर बनाये गये तथा 97 हजार 169 रुपये की वसूली की गईं || शाजापुर जिले में आज 09 कोरोना पाजीटिव मरीज मिले || 8 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई
अन्य ख़बरें
जिले में फसलों के डंठलों/ नरवाई में आग लगाने पर प्रतिबंध
जिला दंडाधिकारी द्वारा धारा 144 के तहत आदेश जारी
नरसिंहपुर | 22-अक्तूबर-2020
   जन सामान्य के हित, सार्वजनिक सम्पत्ति की सुरक्षा, पर्यावरण की हानि रोकने एवं लोक व्यवस्था को बनाये रखने के उद्देश्य से जिला दंडाधिकारी नरसिंहपुर श्री वेद प्रकाश द्वारा जिले की सीमा में फसलों के डंठलों/ नरवाई में आग लगाई जाने पर प्रतिबंध लगाया गया है। यह आदेश जिला दंडाधिकारी द्वारा दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत आदेश जारी किया गया है। आदेश तत्काल प्रभाव से लागू किया गया है।
   इस सिलसिले में जारी आदेश में कहा गया है कि यह आदेश नरसिंहपुर राजस्व जिले के सम्पूर्ण सीमा क्षेत्र में प्रभावशील होगा। उक्त आदेश का उल्लंघन भारतीय दंड विधान की धारा 188 के अंतर्गत दंडनीय होगा।
   उल्लेखनीय है कि उप संचालक कृषि द्वारा जिला दंडाधिकारी के संज्ञान में लाया गया कि नरसिंहपुर जिले में फसल कटाई के पश्चात अगली फसल के लिए खेत तैयार करने हेतु बहुसंख्यक कृषकों द्वारा अपनी सुविधा के लिए खेत में आग लगाकर फसल काटने के उपरांत भूमि में जड़ व डूढ (नरवाई) को नष्ट कर खेत साफ किया जाता है, जिससे व्यापक अग्नि दुर्घटनायें होकर जन- धन की हानि होती है। इसे नरवाई में आग लगाने की प्रथा के नाम से भी जाना जाता है। नरवाई में आग लगाने पर प्रतिबंध लगाया जाना जनहित में आवश्यक है।
   खेत की आग के अनियंत्रित होने पर जनसंपत्ति व प्राकृतिक वनस्पति, जीवजंतु आदि नष्ट हो जाते हैं, जिससे व्यापक नुकसान होता है। खेत की मिट्टी में प्राकृतिक रूप से पाये जाने वाले लाभकारी सूक्ष्म जीवाणु इससे नष्ट होते हैं, जिससे खेत की उर्वराशक्ति शनै: शनै: घट रही है और उत्पादन प्रभावित हो रहा है। खेत में पड़ा कचरा, भूसा, डंठल सड़ने के बा भूमि को प्राकृतिक रूप से उपजाऊ बनाते हैं, इन्हें जलाकर नष्ट करना ऊर्जा को नष्ट करना है। आग लगाने से हानिकारक गैसों का उत्सर्जन होता है, जिससे पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। जिले में कई कृषकों द्वारा रोटेवेटर से व अन्य साधनों से गेहूं के डंठल खेत से हटाने हेतु साधन अपनाये जाने लगे हैं। अत: कृषकों के पास वैकल्पिक सुविधा जो कि जनहित में भी है, उपलब्ध हो गई है।
   उप संचालक कृषि के प्रतिवेदन और उपरोक्त परिस्थितियों में जनहित में जिला दंडाधिकारी द्वारा उक्त आदेश जारी किया गया है। तत्संबंध में जिला दंडाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया है।
(39 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2020दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer