समाचार
|| जिले में एक हजार 286 आजीविका स्व-सहायता समूहों को 1414.52 लाख रूपये का ऋण वितरित || हितग्राही श्रीमती पठाम बाई को 4 लाख रूपये की आर्थिक अनुदान सहायता राशि स्वीकृत || जनसुनवाई कार्यक्रम में 102 आवेदकों ने प्रस्तुत किये आवेदन || पंचायत चुनावों में मतपत्र मुद्रण के लिये मुहरबंद निविदायें आमंत्रित || हितग्राही श्री देवीसिंह को 4 लाख रूपये की आर्थिक अनुदान सहायता राशि स्वीकृत || कला विविधताओं का प्रदर्शन ‘गमक’ || खरीफ की अनाधिकृत उपज रोकने के लिये सीमावर्ती जिलों की सीमा पर चैकिंग सख्त || ग्रामीण नल-जल प्रदाय के लिये इंदौर संभाग में 580 योजनायें मंजूर || मण्डियों को स्मार्ट बनाने पेट्रोल पम्प भी लगायेंगे - मंत्री श्री पटेल || वन विहार जू के मान्यता दिवस पर बर्ड वाचिंग कैम्प एवं नेचर वॉक
अन्य ख़बरें
’आदिम-जाति कल्याण विभाग में एकीकृत छात्रावास योजना शुरू’
-
श्योपुर | 27-अक्तूबर-2020
    आदिम-जाति कल्याण विभाग में छात्रावासों के संचालन को सुविधाजनक बनाने के लिये एकीकृत छात्रावास योजना शुरू की गई है। योजना के क्रियान्वयन से अब विभाग के छात्रावासों में बजट की राशि प्रति छात्रावास के मान से उनके बैंक खातों में पहुँच सकेगी।
    विभाग द्वारा प्रदेश के आदिवासी क्षेत्रों में 199 जूनियर छात्रावास, 979 सीनियर छात्रावास, 152 महाविद्यालयीन छात्रावास  और 218 उत्कृष्ट छात्रावास  संचालित किये जा रहे हैं। इन छात्रावासों में स्वीकृत सीटों की संख्या 81 हजार 804 है। पूर्व में प्रत्येक छात्रावास के लिये प्रत्येक योजना क्रमांक एवं व्यय के अन्य मद प्रचलित थे। इस व्यवस्था से छात्रावासों के बैंक खातों में राशि पहुँचने में अनावश्यक विलंब होता था। इन दिक्कतों को दूर करने के लिये इस वित्तीय वर्ष से विभाग एकीकृत छात्रावास योजना क्रमांक 9673 के नाम से परिवर्तित की गई है।
    पूर्व में अलग-अलग छात्रावासों की व्यय राशि अलग-अलग शीर्ष में आती थी, जबकि राशि का उपयोग सभी छात्रावासों में एक ही था। एकीकृत छात्रावास योजना से पृथक-पृथक छात्रावासों में बजट की गणना, बजट का प्रावधान, स्वीकृति एवं देयकों के माध्यम से राशि का आहरण आदि कार्यों में सरलीकरण हुआ है। विभाग के सॉफ्टवेयर डच्ज्।।ै परियोजना के माध्यम से एक ही पूल एकाउंट में सभी राशियों का आहरण के बाद जमा किये जाने से छात्रावासों को सीधे बैंक खाते में राशि जारी किया जाना संभव हुआ है। आदिम-जाति कल्याण विभाग ने छात्रावासों का एकीकरण किये जाने के साथ ही छात्रावासों में विभिन्न वर्गों के विद्यार्थियों को प्रवेश देने के लिये नवीन नियम बनाये गये हैं, जिसमें अनुसूचित-जनजाति, अनुसूचित-जाति, पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक कल्याण और घुमक्कड़ एवं अर्द्ध-घुमक्कड़ जाति के विद्यार्थियों को छात्रावासों में प्रवेश दिया जा सकेगा। इस नियम के बन जाने से छात्रावासों में रिक्त रहने वाली सभी सीटों को भी भरा जा सकेगा।
 
(28 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2020दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer