समाचार
|| 300 लीटर अवैध मिट्टी का तेल एवं परिवहन में लगा वाहन राजसात || मतपत्रों के मुद्रण हेतु जिलावार मुहरबंद निविदाएं मंगाई गयी || प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना के तहत हितग्राहियों का निःशुल्क प्रशिक्षण कार्यक्रम || मिलावट से मुक्ति अभियान- मिलावटखोरी से बाज आएं अन्‍यथा होगी कठोर कार्रवाई - कलेक्‍टर || अभ्‍यर्थियों एवं निर्वाचन व्‍यय लेखा संधारणकर्ता अभिकर्ताओं एवं कार्मिकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण (फेसिलिटेशन) आज || नवीन पात्रता पर्चीधारक जो राशन नही उठा रहे हैं वे अपने नजदीकी उचित मूल्‍य दुकान पहुंचे और प्राप्‍त करें राशन || रोको-टोको अभियान में स्थानीय प्रतिनिधियों ने जारी की अपील || स्वच्छता अभियान में बेहतर कार्य करने वाली निकायों को किया सम्मानित || किसान प्रधानमंत्री मानधन योजना के आवेदन करें || आयुष्मान भारत योजना कार्ड पर 5 लाख रूपये की स्वास्थ्य सुविधाओ का मिलेगा लाभ
अन्य ख़बरें
पंचायत सचिव पथ विक्रेताओं के ऋण प्रकरण बनाए
ग्राम टुकराना में संपन्न हुए राजस्व शिविर में कलेक्टर ने दिये निर्देश
शाजापुर | 29-अक्तूबर-2020
    छोटा-मोटा व्यवसाय करने वाले ग्रामीणों को मुख्यमंत्री स्ट्रीट वेंडर योजना के तहत 10 हजार रूपये का ऋण उपलब्ध कराने के लिए ग्राम पंचायत सचिव प्रकरण तैयार करें। उक्त निर्देश कलेक्टर श्री दिनेश जैन ने आज ग्राम टुकराना में राजस्व अभियान प्रथम चरण के तहत संपन्न हुए शिविर में दिये। उल्लेखनीय है कि जिले में 01 अक्टूबर से 30 दिसम्बर राजस्व सेवा अभियान के प्रथम चरण में प्रत्येक गुरूवार को राजस्व अधिकारियो द्वारा ग्रामों में उपस्थित रहकर राजस्व संबंधी आवेदनों-शिकायतों एवं अन्य कार्यों का निष्पादन किया जा रहा है। इस तारतम्य में आज जिले के 14 ग्रामों में राजस्व शिविर लगाए गये थे। लगाए गए शिविरों के निरीक्षण के लिए कलेक्टर श्री जैन आज अचानक ग्राम टुकराना में पहुंचे थे। इसके पूर्व कलेक्टर ने ग्राम सूरजपुर का दौरा कर शिविर के दौरान की जा रही कार्रवाई की जानकारी ली। ग्राम टुकराना में तहसीलदार डॉ. मुन्ना अड़, सरपंच प्रतिनिधि श्री कमल पाटीदार तथा ग्राम सूरजपुर में नायब तहसीलदार श्री संदीप इवने भी उपस्थित थे।
    ग्राम टुकराना में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कलेक्टर ने कहा कि राजस्व संबंधी कार्यों के लिए ग्रामीणों को तहसील अथवा जिला मुख्यालय के कार्यालय में भटकना नहीं पड़े, इसके लिए राजस्व अभियान संचालित कर ग्रामीण क्षेत्रों में शिविर लगाए जा रहे हैं। ग्रामीण अपने अविवादित बटवारे व नामांतरण की कार्रवाई शिविर के माध्यम से करा सकते हैं। साथ ही और भी राजस्व संबंधी शिकायतों का भी शिविर में निराकरण किया जा रहा है। मुख्यमंत्री स्ट्रीट वेंडर योजना के तहत लाभांवितों की जानकारी प्राप्त करने पर ग्राम पंचायत सचिव द्वारा संतोषप्रद जवाब नहीं देने पर कलेक्टर ने निर्देश दिये कि ग्राम में छोटे-मोटे व्यवसाय करने वाले  ग्रामीणों के प्रकरण तैयार कर जनपद पंचायत को भेजें। इस योजना के तहत ग्राम के छोटे-छोटे व्यवसायियों को 10 हजार रूपये का ब्याजमुक्त ऋण उपलब्ध कराया जाता है, जिससे ग्रामीण अपने व्यवसाय को आगे बढ़ा सकें। ग्राम में विद्यालय परिसर में ग्रामीणों द्वारा कचरा एवं गंदगी डालने पर कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त करते हुए ग्राम पंचायत सचिव को कचरा हटवाने और जो लोग कचरा डाल रहे हैं उन्हें मना करने के निर्देश दिये। तहसीलदार को निर्देश दिये कि समझाने के बावजूद नहीं मानने वालों के विरूद्ध कार्यवाही करें। इसी तरह सीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों के सत्यापन के कार्य को शीघ्र समाप्त करने के निर्देश पटवारी को दिये। कलेक्टर ने पटवारी को निर्देश दिये कि जिन किसानों के सत्यापन नहीं हुए हैं उनके नाम का वाचन करें और उनसे संपर्क करने का प्रयास करें। पशु पालकों को क्रेडिट कार्ड नहीं मिलने की शिकायत ग्रामीणों ने की। कलेक्टर ने तहसीलदार को निर्देश दिये कि वे पता लगाए कि पशु पालकों को क्रेडिट कार्ड क्यो नहीं दिये जा रहे हैं। ग्राम में कुछ वर्ष पूर्व बनी पेयजल टंकी को उपयोगी बनाने के लिए कलेक्टर ने पीएचई के कार्यपालन यंत्री को निर्देश दिये। कलेक्टर ने सभी ग्रामीणों से कहा कि ग्राम में सफाई रखें और ग्राम पंचायत को सफाई रखने में सहयोग भी करें। ग्राम में पशु चिकित्सक नियमित रूप से नहीं आने की शिकायत मिलने पर कलेक्टर ने चिकित्सक को नोटिस देने के निर्देश दिये। ग्रामीणों ने बताया कि उचित मूल्य की दुकान से नियमित रूप से सामग्री प्राप्त हो रही है।
    ग्राम सूरजपुर में राजस्व शिविर के निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने ग्रामीणों द्वारा दी गई समस्याओं की जानकारी ली। साथ ही यहां बनने वाली गौशाला के लिए आवंटित भूमि का स्थल निरीक्षण किया और ग्राम पंचायत द्वारा शासकीय भूमि पर लगाए गए पौधों को भी देखा।
    कलेक्टर ने दोनों ग्राम के ग्रामीणों से कहा कि वे अपनी पड़त निजी भूमि को उर्जा विभाग को किराए से दे सकते हैं उर्जा विभाग द्वारा भूमि का किराया दिया जायेगा अथवा उत्पादित बिजली से प्राप्त होने वाली आमदनी का हिस्सा दिया जायेगा। इस मौके पर कलेक्टर ने एग्री इंफ्रास्टक्चर फंड की जानकारी देते हुए बताया कि किसानों को प्याज भंडारण के लिए गोडाउन बनाने हेतु योजना के तहत ऋण उपलब्ध कराया जायेगा। इच्छुक किसान अपने-अपने नाम पटवारी के माध्यम से भिजवाएं।
 
(37 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2020जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
30123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer