समाचार
|| म.प्र.राज्य घुड़सवारी अकादमी के 14 घुड़सवारों का जूनियर राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए चयन || किसानों को मिलें सब्जियों के सही दाम || पूरी सावधानियां रखें पर यह भी ध्यान रखें कि अर्थव्यवसथा पर प्रतिकूल प्रभाव न पड़े || पूरी सावधानियां रखें पर यह भी ध्यान रखें कि अर्थव्यवसथा पर प्रतिकूल प्रभाव न पड़े || संबल योजना के हितग्राही शालेय बच्चों से नहीं ली जाएगी परीक्षा फीस || मध्यप्रदेश भूकम्प की जोन 2 एवं 3 में भूकम्प के समय घबराएं नहीं, सावधानियां बरतें || मध्यप्रदेश प्रोफोशनल एक्जाम बोर्ड सुरक्षित ऑनलाइन परीक्षाओं के लिये सशक्त सेवा प्रदाता का सहयोग लेगा || सरकार की सबसे बड़ी प्राथमिकता महिला सशक्तीकरण सरकारी खरीद में एक हिस्सा महिला स्व-सहायता समूहों के उत्पादों का होगा || किसानों को मिलें सब्जियों के सही दाम थोक व खुदरा मूल्य में न हो अधिक अंतर, समर्थन मूल्य निर्धारित किए जाने के संबंध में रिपोर्ट तैयार करें || मुख्यमंत्री श्री चौहान जनकल्याणकारी योजनाओं की स्थिति का जायजा लेंगे
अन्य ख़बरें
स्वास्थ्य संस्थाओं में स्ट्रोक के लक्षण एवं बचाव की दी गई जानकारी
विश्व स्ट्रोक दिवस पर नागरिकों को किया गया जागरूक
भोपाल | 30-अक्तूबर-2020
   विश्व स्ट्रोक दिवस पर  जिले की विभिन्न स्वास्थ्य संस्थाओं में जागरूकता कार्यक्रम हुए। इस अवसर पर जनसमुदाय को स्ट्रोक के लक्षण एवं बचाव संबंधी जानकारी दी गई।
   नागरिकों को बताया गया कि स्ट्रोक एक तरह का मस्तिष्क का अटैक है, जो मस्तिष्क को खून की आपूर्ति करने वाली रक्त वाहिका के फटने से या दिमाग की नसों में खून का बहना रूकने के कारण होता है। यह एक चिकित्सकीय आपातकाल की अवस्था है जिसमें मरीज को तुरंत अस्पताल में चिकित्सकीय उपचार की आश्यकता होती है। स्ट्रोक दुनियाभर में वयस्कों में विकलांगता का एक मुख्य कारण है।
   स्ट्रोक के मरीजों में चलने, बोलने और समझने में परेशानी होना, चेहरा, हाथ या पैर में पक्षाघात या अकड़न जैसी समस्याएं होती हैं। स्ट्रोक में लोगों को कमजोर मांसपेशियों के साथ पक्षाघात, चलने में परेशानी, मांसपेशियों में जकड़न, शरीर के एक तरफ लकवा या सामान्य से ज्यादा सजगता, कुछ समय के लिए एक आंख से दिखाई देना कम हो जाना, दो-दो दिखाई देना या धुंधला दिखना, आवाज चले जाना, बोलने में लड़खड़ाना या कठिनाई होना, बहुत उंचाई से नीचे देखने पर चक्कर, थकान या सिर घुमना, चुभन महसूस होना या स्पर्श कम महसूस होना जैसी परेशानियां होती हैं।
   स्ट्रोक से बचने के लिए ब्लडप्रेशर को नियंत्रित रखना आवश्यक है, इसलिए ब्लड प्रेशर की जाँच नियमित रूप से कराना चाहिए। धूम्रपान और नशीले पदार्थों का सेवन नही करना चाहिए। कोलेस्ट्रॉल युक्त खाने से परहेज करना एवं कैलोरी को बर्न करने के लिए शारीरिक गतिविधियों को दिनचर्या में शामिल करना चाहिए। रोजाना सैर, व्यायाम, फल और हरी सब्जियों का सेवन कर स्ट्रोक की संभावना को बेहद कम किया जा सकता है। कार्यक्रम के अवसर पर लोगों में जन-जागरूकता एवं व्यवहार परिवर्तन के लिए परामर्श सत्रों का आयोजन किया गया। योग प्रशिक्षण एवं खान-पान संबंधी जानकारियां भी साझा की गई।
(25 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2020दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer