समाचार
|| कलेक्टर श्री सिंह द्वारा कोविड-19 के महाटीकाकरण अभियान के चयनित केन्द्रों का जायजा || 02 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग || उभयलिंगी व्यक्तियों को समान अधिकार, संपूर्ण सामाजिक समावेश में किसी भी प्रकार का भेदभाव न हो || टीकाकरण के बाद स्वास्थय कर्मी और डॉक्टर्स ने कहा अच्छा लग रहा, कोई परेशानी नहीं - खुशियों की दास्तां || सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बटियागढ़ में लगा पहला टीका अभिलाषा यादव को || पहला टीका जयंती सूर्यवंशी को लगते ही पूरे परिसर में खुशी का माहौल || कलेक्टर तरुण राठी की अध्यक्षता में आयोजित प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनान्तर्गत जिला स्तरीय शिकायत निवारण || ईश्वर ने इस दुनिया में जीवन रक्षा के लिए किसी को भार सौंपा है,तो वह डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मी है-विधायक पीएल तंतुवाय || एएनएम संध्या भदौरिया ने जिले में कोरोना वैक्सीन का प्रथम टीका लगाने का अवसर मिलने से हैं प्रसन्न "खुशियों की दास्तां" || वैक्सीनेशन के पहले दिन कोरोना वायरस वैक्सीन लगने से खुश है सोनल कुमार "खुशियों की दास्तां"
अन्य ख़बरें
बिरसा मुण्डा की जयंती पर कार्यक्रम आयोजित
-
शाजापुर | 15-नवम्बर-2020
      आदिवासी नायक और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्वर्गीय श्री बिरसा मुंडा की जयंती के अवसर पर आज स्थानीय शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय में कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें अतिथि के रूप में श्री अम्बाराम कराड़ा, पूर्व विधायक श्री अरूण भीमावद, श्री शीतल भावसार, श्री गोविन्द नायक, अपर कलेक्टर श्रीमती मंजूषा विक्रांत राय, अनुविभागीय अधिकारी श्री एस.एल. सोलंकी, डिप्टी कलेक्टर सुश्री प्रियंका वर्मा, नागपालिका सीएमओ श्री भूपेन्द्र दीक्षित, उत्कृष्ट विद्यालय प्रचार्य श्री के.के. अवस्थी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारीगण एवं आमजन सहित जनप्रतिनिधिगण उपस्थित थे।
     इस अवसर पर श्री कराड़ा ने संबोधित करते हुए कहा कि 15 नवंबर 1875 में जन्म लेने वाले बिरसा मुंडा के संघर्ष की कहानी से संघर्ष की प्रेरणा मिलती है। उन्होंने कहा कि 1857 की क्रांति में अंग्रेजों को इस देश से भगा देने का एक बड़ा आंदोलन देश के अंदर खड़ा हुआ था। दुर्भाग्य से वह क्रांति हमारी सफल नहीं हुई। उसके बाद अंग्रेजों का एक दमन चक्र बहुत तेज गति से चला था। उसी कालखंड के अंदर 15 नवंबर 1875 के दिन बिरसा मुंडा का जन्म हुआ। एक अभावग्रस्त क्षैत्र में बिरसा मुंडा ने जन्म लिया, जहां अशिक्षा का वातारण था और तमाम प्रकार के अभाव थे। इन सबके बीच देवीय शक्तियों को प्राप्त कर महापुरूष ने जन्म लिया। बड़े होने पर उन्होंने मात्र भूमि की रक्षा के लिए सब कुछ निछावर कर दिया। उस दौर में जनजातीय समाज के अंदर जो शिक्षा का अभाव था, तमाम प्रकार के अंधविश्वासों के बीच उनका जीवन चलता था। इन सबके बीच उनके अंदर मातृभूमि की रक्षा के लिए प्रेरणा जाग्रत हुई, 25 साल की कम आयु के अंदर बिरसा मुंडा ने जो चेतना जगाने का कार्य किया वह अद्धभुत है। उन्होने कहा कि बिरसा मुंडा ने हमें यह प्रेरणा दी है कि चाहे चुनौतिया कितनी भी बड़ी और चाहे अंधकार कितना ही घनघोर हो, यदि संकल्प हमारे मन में हैं और हम प्रयत्न करते हैं तो क्रांति का हम बीजारोपण कर सकते हैं।
पूर्व विधायक श्री भीमावद ने संबोधित करते हुए कहा कि बिरसा मुंडा बाल्यकाल से ही प्रतिभावान थे। उन्होंने आदिवासी समाज को उंचा उठाने का काम किया। उन्होंने अंग्रेजों के सामने कभी घुटने नहीं टेके। ऐसे राष्ट्रभक्त को हम विवेकांनद और एकलव्य की भी उपाधि दे सकते हैं। मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने आदिवासी वर्ग के जनकल्याण के लिए आर्थिक एवं शिक्षा के स्तर को उंचा उठाने की विशेष भूमिका निभाई है। इस अवसर पर अपर कलेक्टर श्रीमती राय एवं डिप्टी कलेक्टर सुश्री वर्मा ने भी संबोधित किया। इसके पूर्व कार्यक्रम का शुभारंभ श्री कराड़ा एवं पूर्व विधायक श्री भीमावद ने बिरसा मुंडा के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम का संचालन शिक्षक श्री हेमंत दुबे ने किया और आभार अनुविभागीय अधिकारी श्री सोलंकी ने माना।
 
(62 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer