समाचार
|| किसी क्षेत्र में कौओं एवं पक्षियों की अप्राकृतिक मृत्यु होने पर दें सूचना || शत प्रतिशत टीकाकरण हेतु विस्तृत कार्य योजना के तहत किया जाए कार्य -कलेक्टर श्री दीपक सिंह || समस्त पोल्ट्री फार्म एवं मीट मार्केट में रखी जाए साफ सफाई एवं स्वच्छता -कलेक्टर श्री दीपक सिंह || गाय की रक्षा करना प्रत्येक मानव का धर्म : मंत्री भार्गव || आबकारी विभाग ने 3 लाख 16 हजार की महुआ लहान जब्त की || रोजगार पाने का बहुत सुनहरा अवसर || अवैध शराब पर कार्यवाही, महुआ लाहन नष्ट की गई || विधायक निधि से निर्मित ओपन जिम का पूर्व मंत्री एवं रीवा विधायक ने किया लोकार्पण || अतिक्रमण कर अवैध रूप से व्यापारिक प्रतिष्ठान ढाबा संचालित करने वाले के अतिक्रमण को जिला प्रशासन व्दारा ढहाया गया || सीवरेज परियोजनाओं का कार्य तीव्र गति से किया जाए
अन्य ख़बरें
फाईलेरिया से बचाव के लिये 20 दिसम्बर से चलेगा एमडीए कार्यक्रम
-
कटनी | 17-नवम्बर-2020
    फाईलेरिया (हांथी पांव) बीमारी से बचाव के लिये आगामी माह में 20 से 22 दिसम्बर तक 2 वर्ष की उम्र से अधिक के व्यक्तियों को डीईसी और एल्बेन्डाजोल की गोली की खुराक खिलाई जायेगी। इस आशय की जानकारी मंगलवार को कलेक्टर शशिभूषण सिंह की अध्यक्षता में सम्पन्न मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कार्यक्रम की जिला समन्वय समिति की बैठक में दी गई। इस मौके पर सीईओ जिला पंचायत जगदीश चन्द्र गोमे, आयुक्त नगर निगम सतेन्द्र धाकरे, सीएमएचओ डॉ. प्रदीप मुड़िया, महामारी विशेषज्ञ डॉ. राशी गुप्ता सहित विभाग प्रमुख अधिकारी उपस्थित थे।
    जिला समन्वय समिति की बैठक में जिले के नागरिकों से अपील करते हुये कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि हांथीपांव और फाईलेरिया रोग का कोई इलाज नहीं है। केवल डीईसी की गोलियों की खुराक लेकर इस बीमारी से बचा जा सकता है। उन्होने कहा कि 20 दिसम्बर से 22 दिसम्बर के मध्य जिले के प्रत्येक परिवार से सम्पर्क कर आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, स्वयंसेवी एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा घर-घर पहुंचकर डीईसी की गोली और एलबेन्डाजोल खिलाई जायेगी। वर्ष में केवल एक बार इस दवा की खुराक लेने से हांथीपांव फाईलेरिया रोग से बचा जा सकता है। कटनी जिले को फाईलेरिया मुक्त जिला बनाने सभी नागरिक गोलियों का सेवन कर अपना सहयोग प्रदान करें। कलेक्टर श्री सिंह ने मास ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन कार्यक्रम के व्यापक प्रचार-प्रसार ग्रामीण क्षेत्रों में करने प्रभावी माध्यम अपनाने के निर्देश भी दिये हैं।
    डब्ल्यूएचओ के कोर्डिनेटर डॉ. मनजीत चौधरी ने फाईलेरिया रोग के लक्षण, फैलने के कारण आदि की जानकारी प्रस्तुत की। उन्होने बताया कि 2 वर्ष से 5 वर्ष आयुवर्ग के बच्चों को डीईसी की एक गोली, 6 वर्ष से 14 वर्ष तक 2 गोली और 15 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को डीईसी की 3 गोली की खुराक दी जायेगी। डीईसी गोलियों के साथ एलबेन्डाजोल की एक-एक गोली भी दी जायेगी। बीमार, गर्भवती महिलाओं और अतिवृद्धजनों को यह दवा खुराक नहीं दी जायेगी।
 
(61 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer