समाचार
|| बिजली उपभोक्ताओं की संतुष्टि पर कोई कसर बाकी न रखे || संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने आलीराजपुर जिले के डूब प्रभावित ग्रामों का निरीक्षण किया || संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने मुर्गीपालन हितग्राही से चर्चा कर गतिविधि की जानकारी ली || संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने जिला चिकित्सालय आलीराजपुर का किया निरीक्षण || कोविड-19 के उपचार दर रिशेप्शन काउन्टर पर प्रदर्शित करें || राजधानी में तीन दिवसीय राष्ट्रीय फेडरेशन कप जूनियर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप का आयोजन 25 जनवरी से || मुख्यमंत्री श्री चौहान 24 जनवरी को करेंगे पंख अभियान का शुभारंभ || प्रदेश में इस वर्ष पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक वर्ग के 13 हजार 500 युवाओं को दिया जायेगा कौशल प्रशिक्षण || किसान पंजीयन प्रक्रिया निर्धारण हेतु प्रशिक्षण सम्पन्न || जहरीली शराब पीने से नही हुई गोलू की मौत
अन्य ख़बरें
सागर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की आयोजित सत्रहवी बैठक में विभिन्न परियोजनाओं की समीक्षा कर प्रारंभ करने के लिए दी गई स्वीकृति
-
सागर | 17-नवम्बर-2020
    सागर स्मार्ट सिटी लिमिटेड कार्यालय में बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की सत्रहवी बैठक जिला कलेक्टर सह अध्यक्ष सागर स्मार्ट सिटी लिमिटेड श्री दीपक सिंह की अध्यक्षता में संपन्न हुई। उक्त बैठक में सागर स्मार्ट सिटी द्वारा सागर शहर में विकसित की जाने वाली विभिन्न परियोजनाओं से जुड़े डी पी आर एवं आर एफ पी प्रारूपों की समीक्षा बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स द्वारा कर सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान की गई। कोरोना महामारी को देखते हुए कुछ डायरेक्टर्स इस मीटिंग में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सम्मिलित हुए।
बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की बैठक में निम्नांकित प्रस्तावित एजेंडों को शामिल कर निर्णय लिए गए
     नगरीय प्रसाशन एवं विकास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह द्वारा दिये गये र्निदेशानुसार मकरोनिया नगर पालिका परिषद एवं केंट बोर्ड क्षेत्र को स्मार्ट सिटी के पेन सिटी एरिया में शामिल कर आईटीएमएस प्रोजेक्ट अंर्तगत लिए गए तीन नए चौराहों परेड मंदिर जंक्शन, कबूलापुल जंक्शन, एवं मकरोनिया जंक्शन का अतिक्रमण हटा कर सुरक्षित व सुंदर बनाया जायेगा।
     स्वच्छ भारत मिशन अंर्तगत स्वच्छ सर्वेछण में शहर को अव्वल बनाने हेतु युद्ध स्तर पर कार्य करने के निर्देश कलेक्टर श्री सिंह द्वारा दिये गए जिसके अंर्तगत मटेरियल रिकवरी फैसेलिटी सेंटर, सी एंड डी वेस्ट प्लांट जैसे प्रोजेक्टों पर तेजी से कार्य किये जाने का निर्णय लिया गया साथ ही स्वीपिंग मशीन, वायो डाइजेस्टर मशीन, फ्लोरल डाइजेस्टर मशीन, माड्यूलर एसटीपी निर्माण, इंसीनेटर एंड सेनेटरी पेड वेंडिंग मशीनों की व्यवस्था भी शहर में की जायेगी। शहर को स्वच्छ रखने के लिए जिला कलेक्टर ने दुकानों, रेस्टोरेंटों, होटलों आदि पर डस्टविन रखवाने एवं कचरा डस्टविन में ही डलवाने हेतु सख्त निर्देश देते हुए कहा की यदि किसी दुकान के आसपास कचरा पाया जाये तो उस दुकानदार को तत्काल अर्थदण्ड से दण्डित किया जाये।
    सागर शहर की तंग गलियों को देखते हुए यहां एक एडवांस स्मार्ट फायर फाइटिंग सिस्टम की सैद्धांतिक स्वीकृति दी गई। जिसके अंर्तगत फायर फाइटिंग वाईक, फोमवेस्ड फायर फाइटिंग व्हीकल, वॅाटरवेस्ड फायर फाइटिंग व्हीकल की व्यवस्था की जायेगी। इन व्हीकल्स पर लगे जीपीएस सिस्टम से इनकी मानीटरिंग इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से की जा सकेगी एवं शहर में होने वाली आगजनी की छोटी-बड़ी घटनाओं को रोका जा सकेगा।
    रैनवॉटर हार्वेस्टिंग प्रोजेक्ट हेतु निर्णय लेते हुए निर्देश दिये गये की, स्मार्ट सिटी मिशन अंर्तगत लिया गया यह अच्छा प्रोजेक्ट है। इसके लिए ऐसे स्थलों का चयन करें जो लाखा बंजारा लेक केचमेंट एरिया के बाहर है। इसके लिए सीवीसी की गाईडलाइन का भी ध्यान रखें।
    आर्ट एण्ड कल्चर सेंटर तैयार करने की सैद्धांतिक स्वीकृति देते हुए कहा की स्मार्ट सिटी मिशन की स्मार्टनेश हेतु शहर की संस्कृति (आर्ट एंड कल्चर) को बढ़ावा देना अति आवश्यक है। सागर बुंदेलखण्ड की सांस्कृतिक विरासत वाला शहर है यहां भी आर्टस एंड कल्चर सेंटर तैयार किये जायें जहां सागर की पारंपरिक संस्कृति से लोगों को परिचित कराया जा सके। यहां के प्रसिद्ध बधाई नृत्य, बरेदी नृत्य जैसी अन्य विधाओं का प्रदर्शन किया जा सके। साथ ही यहां की स्वसहायता समूहों में कार्य कर पारंपरिक उत्पाद तैयार करने वाले कारिगरों, महिलाओं आदि को एक मंच दिया जा सके। जहां खादी ग्रामोद्योग, मृगनयनी, विंध्य हर्बल, देवश्री, सेरीकल्चर का प्रकृति आदि अन्य संस्थाओं को एक स्थान दिया जाये।   
    केन्द्र सरकार के महत्वाकांछी अभियान टयूलिप इंटर्नशिप प्रोग्राम के तहत सागर स्मार्ट सिटी में जो प्रोजेक्ट चल रहे है उन से संबंधित विषय के छात्रध्छात्राओं  को इंर्टनशिप हेतु चयनित करें ताकि छात्रों को नया सीखने मिले। उनकी स्किल और डेवलप हो साथ ही स्मार्ट सिटी को भी उनका फायदा मिले। इसके लिए मध्यप्रदेश के ऐसे एजुकेशनल संस्थानों से बात करें जहां आपकी आवश्यक्ता अनुसार विषयों के छात्रध्छात्रायें मिल सकें। उन्हे चयनित कर इंटर्नशिप करायें।
    इसके अलावा सी लॉन्ग प्रोजेक्ट, कंप्रिहेंसिव मोबिलिटी प्लान, इंटीग्रेटेड स्पोर्ट कॉम्पलेक्स, स्टार्म वॉटर एण्ड ड्रेनेज सिस्टम, रीडेवलपमेंट ऑफ यूनिर्वसिटी रोड, ओल्ड आरटीओ कैंपस डेवलपमेंट, कनेरादेव केनाल वर्क आदि पर चर्चा करते हुए कहा गया की जिन प्रोजेक्ट्स में इन्वायमेंटल क्लीयरेंस की आवश्यकता है उनके अप्रूवल लें एवं जो भी बिल्डिंग निर्माण के कार्य है उनमें टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट एवं म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन से अप्रूवल करायें।
    उक्त बैठक में जिला कलेक्टर सह अध्यक्ष श्री दीपक सिंह, नगरपालिक निगम आयुक्त सह कार्यकारी निदेशक श्री आर. पी. अहिरवार, अन्य निदेशकों में श्री नरेन्द्र वशिष्ठ, श्रीमति बिंदू नायर ,सागर स्मार्ट सिटी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री राहुल सिंह राजपूत, कंपनी सेक्रेटरी श्री रजत गुप्ता, सीएफओ श्री के पी श्रीवास्तव एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
 
(66 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer