समाचार
|| सीएमएचओ और सिविल सर्जन सहित चिकित्सकों ने लगवाया टीका || नगरीय प्रशासन द्वारा निकायों के बकाया बिजली बिल के लिए 50 करोड़ का भुगतान || बिजली आपूर्ति के साथ ही राजस्व संग्रहण में लापरवाही न बरते || राज्य में किसानों के लिए 500 करोड़ के फूड प्रोसेसिंग प्लांट्स लगाए जाएँगे || कलेक्टर ने एएसएलआर के निधन पर शोक संवेदनाएं व्यक्त की || चिटफंड कंपनियों के खिलाफ प्रशासन का बड़ा अभियान जारी || टीकाकरण के प्रति उत्साह देखा गया दिव्यांग में भी || जिले में रोजगार उपलब्ध कराने हेतु रोजगार मेला 19 जनवरी को || आबकारी विभाग ने 840 लीटर हाथ भट्टी एवं 5 हजार किग्रा लहान किया जप्त || मंत्री श्री भदौरिया ने महिला जागरूकता रथों को हरी झंडी दिखा किया रवाना
अन्य ख़बरें
आदिवासियों के 15 अगस्त 2020 से पूर्व के सभी ऋण शून्य घोषित
-
इन्दौर | 18-नवम्बर-2020
    मध्यप्रदेश शासन द्वारा प्रदेश में अनुसूचित जनजाति ऋण विमुक्ति अधिनियम 2020 लागू कर दिया गया है। 25 सितंबर 2020 को राज्यपाल के आदेशानुसार राजपत्र में सूचना का प्रकाशन कर दिया गया है। अनुसूचित जनजाति ऋण विमुक्ति अधिनियम 2020 के अंतर्गत अब 15 अगस्त 2020 से पूर्व के सभी ऐसे ऋण शून्य घोषित हो गए है, शासकीय ऋण को छोड़कर, जो किसी से भी लिए गए हों।   
    अधिनियम में स्पष्ट उल्लेख किया गया है कि ऋण में किसी लेनदार को देय, समस्त दायित्व, जो नगदी में हो वस्तु रूप में हो, प्रतिभूत हो या अप्रतिभूत हो और जो किसी सिविल न्यायालय की डिग्री या आदेश के अधीन या अन्यथा संज्ञेय हो तथा 15 अगस्त 2020 को अस्तित्व में हो, चाहे वे शोध्य हो गए हो या शोध्य न हुए हो। 15 अगस्त 2020 तक दिया गया प्रत्येक ऋण, जिसमें ब्याज की रकम यदि कोई हो, को भी शामिल किया गया है। जो अनुसूचित क्षेत्र में निवासरत हो, अनूसूचित जनजाति के सदस्य द्वारा किसी लेनदार को देय हो पूर्णतः उन्मोचित (ऋणमुक्त) हो जाएगा।
      अधिनियम में यह भी उल्लेख किया गया है कि विनिर्दिष्ट किसी भी ऋणी द्वारा गिरवी रखी गई प्रत्येक संपत्ति ऐसे ऋणी के पक्ष में निर्मुक्त हो जाएगी। वहीं लेनदार इस बात के लिए आबद्ध होगा कि वह उस ऋणी को वह संपत्ति तत्काल वापस कर दें।
       शासन द्वारा अधिनियम बन जाने के बाद से जिले के अनुसूचित जनजाति क्षेत्रों में वहां के नागरिकों की गिरवी रखी या ऋण को ऋणमुक्त कर दिया गया है। ऐसे नागरिक, जिन्होंने अपनी रकम किसी देनदार के पास रखी हो, तो वे वापस ले सकेंगे। व्यापारी द्वारा नहीं देने की दिशा में संबंधित एसडीएम को इसकी सूचना देकर अपनी सामग्री ले सकते हैं या ऋण देने वाला व्यक्ति राशि या ब्याज के लिए दबाव बना रहा है, तो भी संबंधित एसडीएम को शिकायत कर सकते हैं।

 
(59 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer