समाचार
|| सीएमएचओ और सिविल सर्जन सहित चिकित्सकों ने लगवाया टीका || नगरीय प्रशासन द्वारा निकायों के बकाया बिजली बिल के लिए 50 करोड़ का भुगतान || बिजली आपूर्ति के साथ ही राजस्व संग्रहण में लापरवाही न बरते || राज्य में किसानों के लिए 500 करोड़ के फूड प्रोसेसिंग प्लांट्स लगाए जाएँगे || कलेक्टर ने एएसएलआर के निधन पर शोक संवेदनाएं व्यक्त की || चिटफंड कंपनियों के खिलाफ प्रशासन का बड़ा अभियान जारी || टीकाकरण के प्रति उत्साह देखा गया दिव्यांग में भी || जिले में रोजगार उपलब्ध कराने हेतु रोजगार मेला 19 जनवरी को || आबकारी विभाग ने 840 लीटर हाथ भट्टी एवं 5 हजार किग्रा लहान किया जप्त || मंत्री श्री भदौरिया ने महिला जागरूकता रथों को हरी झंड्डी दिखा किया रवाना
अन्य ख़बरें
प्रदेश में गो-संरक्षण एवं संवर्धन के लिए बनाई गई है गो-केबिनेट : मुख्यमंत्री श्री चौहान
सालरिया गो-अभ्यारण्य को बनाया जाएगा आदर्श, गोपाष्टमी को मुख्यमंत्री श्री चौहान करेंगे गो-पूजन एवं गो-सेवा विशेषज्ञों से चर्चा, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आयोजन की व्यवस्थाओं के संबंध में बैठक ली
जबलपुर | 20-नवम्बर-2020
 
     मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में गो-संरक्षण एवं संवर्धन के लिए गो-केबिनेट बनाई गई है। प्रदेश में गो-पालन एवं गो-उत्पादों को अधिक से अधिक बढ़ावा दिया जाएगा। इसमें जनता एवं समाजसेवी संगठनों की अधिक से अधिक सहभागिता सुनिश्चित की जाएगी। गोपाष्टमी के दिन वे स्वयं सबसे बड़े गो-अभ्यारण्य सालरिया जाकर गो-पूजन करेंगे तथा वहां गो-सेवा विशेषज्ञों के साथ संगोष्ठी कर गो-संरक्षण एवं संवर्धन के संबंध में विचार-विमर्श करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सालरिया गो-अभ्यारण्य को आदर्श के रूप में विकसित किया जाएगा।
    मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में सालरिया गो-अभ्यारण्य में 22 नवम्बर गोपाष्टमी को होने वाले आयोजन की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव श्री जे.एन. कंसोटिया सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
देशी नस्लों को बढ़ावा दिया जाएगा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में गो-पालन के अंतर्गत देशी नस्ल को बढ़ावा दिया जाएगा। गो-काष्ठ लकड़ी का श्रेष्ठ विकल्प है, अत: इसका उत्पादन बढ़ाया जाएगा। साथ ही गाय के दूध से निर्मित विभिन्न सामग्रियों, गोबर एवं गो-मूत्र से बने उत्पादों को भी बढ़ावा दिया जाएगा। गो-अभ्यारण्य सालरिया में एक आधुनिक गो-अनुसंधान केन्द्र भी खोला जाएगा।
प्रदेश में ''''काऊ सैस'''' लगाने पर विचार
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में गो-संवर्धन एवं गो-संरक्षण के लिए अन्य प्रदेशों की तरह ''''काऊ सैस'''' (गो-सेवा कर) लगाए जाने पर भी विचार किया जा रहा है। इससे गो-पालन के लिए पर्याप्त राशि सरकार को प्राप्त हो सकेगी तथा इस पावन कार्य में सभी की भागीदारी भी होगी।
देशभर से 14 गो-विशेषज्ञ आएंगे
    सालरिया गो-अभ्यारण्य में गोपाष्टमी के दिन होने वाले आयोजन में देशभर के 14 प्रमुख गो-विशेषज्ञ शामिल हो रहे हैं, जिनके साथ मुख्यमंत्री संगोष्ठी कर प्रदेश में गो-संरक्षण एवं संवर्धन के संबंध में चर्चा करेंगे।
प्रदेश में 627 गो-शालाएं संचालित
    प्रदेश में स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा 627 गो-शालाएं संचालित हैं, इनमें 1 लाख 66 हजार गो-वंश का पालन किया जा रहा है। प्रदेश में निराश्रित गो-वंश लगभग 8.5 लाख है, जिनकी देखरेख करना हम सभी की सामाजिक जिम्मेदारी है।
गाय के लिए दान देने पर इन्कम टैक्स में छूट
अपर मुख्य सचिव श्री जे.एन. कंसोटिया ने बताया कि इन्कम टैक्स की धारा 80-जी के अंतर्गत गाय के लिए दान करने पर आयकर में छूट का प्रावधान है।
(57 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer