समाचार
|| होम आइसोलेशन के नियमों का सख्ती से करायें पालन || कंट्रोल रूम में आयोजित की गई गुरुद्वारा प्रबंध समिति के पदाधिकारियों की बैठक || कोरोना के मद्देनजर ठण्ड का मौसम ज्यादा चुनौती पूर्ण स्वयं सेवी संगठनों को निभानी होगी ज्यादा जिम्मेदारी || विदिशा के सभी उप स्वास्थ्य केन्द्रों में प्रसव की सुविधाएं मुहैया हो-संभागायुक्त श्री कियावत || सहायिका व कार्यकर्ता पद के लिए अनंतिम सूची जारी || आज का अधिकतम तापमान 27 डि.से. || गुरूनानक जयंती मनाये जाने के संबंध में बैठक || रोको-टोको अभियान : 485 व्यक्तियों से वसूला गया 79 हजार 620 रुपये का जुर्माना || रोग प्रतिरोधक क्षमता के कारण कड़कनाथ की माँग बढ़ी || कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने पर 72 व्यक्ति डिस्चार्ज
अन्य ख़बरें
जीर्ण-शीर्ण भवन अब नये जैसे (कहानी सच्ची है)
-
दमोह | 22-नवम्बर-2020
              अगर कुछ अच्छा कर गुजरने की चाहत हो तो बहुत कुछ किया जा सकता है। जी हॉ जिले के कई ऐसे उप-स्वास्थ्य केन्द्र थे, जिनके भवन जीर्ण-शीर्ण हो चुके थे। इनके बारे में जिले के मुखिया की जानकारी में आने पर उन्होंने इंजीनियर्स से कहा इन भवनों को सुदृढ़ किया जाये, कार्य योजना बनकर अमल किया गया।

            अब जिले के जबेरा तहसील के दूरदराज अंचलों में बसे ग्रामों में से ग्राम साखा, मौसीपुरा, पटना मानगढ़ और कंजई के स्वास्थ्य केन्द्रों के भवन एक दम नये दिखने लगे है। इनके पुराने चित्रों को देखा जाये तो विश्वास ही नहीं होता कि इन्हें एक दम नया बना दिया गया हो। लगता है, यह नवीन निर्माण है। इन उप-स्वास्य्ल केन्द्रों को आरोग्य केन्द्र के रूप में जाना जाता है।

            जिले के ग्राम मौसीपुरा का आरोग्य उप-स्वास्य्य केन्द्र एक दम नया लगता है, यहां बिजली लगी है, इन्वर्टर भी है, साफ पेयजल के लिये आरओ सिस्टम लगा है, मरीजों के बैठने के लिये बरामदे में बेंच भी है। यहां दो कर्मचारियों के रहने की सुविधा भी है। इसी प्रकार पटना मानगढ़ का आरोग्य केन्द्र और ग्राम साखा का आरोग्य केन्द्र तथा हरदुआ मानगढ़ जिसे भी रेनोवेट किया गया है, अंदर जाओ तो लगता ही नहीं की जीर्ण-शीर्ण रहा होगा।

             कलेक्टर ने कहा जितने भी स्वास्थ केंद्र है उन्हें स्वास्थ्य वेलनेस सेंटर के रूप में डेवलव्ड कर रहे है। गांव या जहाँ पर भी ये केंद्र जीर्ण-शीर्ण थे उन सेंटर को हेल्थ वेलनेस के रूप में डेवलप करके उनकी भौतिक संरचना का लगातार हम सुधार कर रहे है। अभी लगभग 100 केन्द्रों को हेल्थ वेलनेस के रूप में सुधार किया जाएगा, साथ ही आगामी चरण में शेष केन्द्रों को इस योजना में जोड़कर सुधार किया जाएगा।

    कलेक्टर तरुण राठी ने कहते है राज्य शासन के निर्देशों के क्रम में हम लोग लगातार स्वास्थ्य केंद्रों को हैल्थ वेलनेस सेंटर के रूप में विकसित कर रहे है। यहां सुविधा होगी कि हमारे सभी स्वास्थ्य केंद्र ई-संजीवनी सॉफ्टवेयर से जुड़ जाएंगे, इसके माध्यम से टेली काउंसलिंग की सुविधा प्राप्त होगी इसके साथ ही उनकी भौतिक अधोसंरचना है उनमे में भी लगातार सुधार किया जा रहा है। उन्होंने कहा हमारा अगले चरण में प्रयास रहेगा कि इन केंद्रों पर योगा की सुविधा भी उपलब्ध कराए और इन केंद्रों में हाई रिस्क प्रेग्नेंट महिलाओं का चिन्हांकन करें, उनको प्रॉपर मेपिंग करके हम यह लक्ष्य निर्धारित कर जिले में आईएएमआर एवं एमएमआर की स्थिति में सुधार आये।

    इस संबंध में एसडीओ ग्रामीण यांत्रिकी सेवा श्री बीएल साहू ने बताया कि इन सभी उप-स्वास्थ्य केन्द्रों के जीर्ण-शीर्ण भवनों का प्राथमिकता के तौर पर प्राकलन, बनाये गये, फिर तकनीकी स्वीकृति और प्रशासकीय स्वीकृति उपरांत बजट प्राप्त होते ही निविदाएं बुलाकर कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा श्री मिर्धा के निर्देशन में कार्य कराये गये।
 
(5 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2020दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer